Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    इन आसान टिप्स को अपनाकर अपने टीनएज बच्चे की मेंटल हेल्थ का रखें ख्याल

    टीनएज में बच्चे कई तरह की मेंटल प्रॉब्लम्स से गुजरते हैं। उन्हें हैंडल करने के लिए इन टिप्स को अपनाएं।
    author-profile
    • Mitali Jain
    • Editorial
    Updated at - 2022-12-22,16:07 IST
    Next
    Article
    teenage child mental health in hindi

    टीनएज एक ऐसी अवस्था है, जब बच्चे एकदम से बड़ा होना शुरू हो जाते हैं। उनकी सिर्फ लंबाई ही नहीं बढ़ती है, बल्कि उनमें तेजी से हार्मोनल बदलाव भी शुरू हो जाते हैं। जिसके कारण कई बार बच्चे इसे हैंडल नहीं कर पाते हैं। टीनएज में होने वाले बदलावों का असर कहीं ना कहीं उनकी मेंटल हेल्थ पर भी पड़ता है। 

    इस उम्र में बच्चे बेहद ही भावुक होते हैं और किसी भी छोटी सी चीज को अपने दिल से लगा लेते हैं। ऐसे में उनमें चिड़चिड़ापन, गुस्सा, उदासी, निराशा या फिर तनाव के लक्षण नजर आ सकते हैं। एक पैरेंट के रूप में हम सभी अपने बच्चों को हमेशा खुश ही देखना चाहते हैं।

    लेकिन टीनएज एक ऐसी अवस्था होती है, जब बच्चों की मेंटल हेल्थ पर सबसे अधिक ध्यान देने की जरूरत होती है। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको कुछ ऐसे आसान टिप्स के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें अपनाकर आप अपने टीनएज बच्चे की मेंटल हेल्थ का बेहतर तरीके से ख्याल रख सकती हैं-

    सोशल मीडिया एक्टिविटी पर रखें नजर

    tips for teenagers mental health

    इन दिनों सिर्फ बड़े ही नहीं, बल्कि बच्चे भी सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं। यह एक आभासी दुनिया है, लेकिन टीनएज में सोशल मीडिया पर होने वाली बुलिंग, लाइक और कमेंट का बच्चे के मन पर गहरा असर पड़ता है। इसलिए बच्चे का बेहतर तरीके से ख्याल रखने के लिए जरूरी है कि आप सिर्फ उनके रियल लाइफ दोस्तों की ही जानकारी ना रखें। बल्कि उनकी सोशल मीडिया एक्टिविटी पर भी एक पैनी नजर रखें।

    दें पूरा भरोसा

    tips for teenagers mental health problem

    टीनएज एक ऐसी उम्र होती है, जब हर बच्चे को यही लगता है कि उसके पैरेंट्स उसे समझ ही नहीं सकते। इसलिए अमूमन बच्चे अपनी परेशानी अपने पैरेंट्स के बांटना सही नहीं समझते। ऐसे में जब कोई बात या परेशानी बढ़ने लगती है।(टीनएज बच्चों की परेशानियों का ऐसे लगाएं पता)

    तो इससे उनकी मेंटल हेल्थ पर भी असर पड़ता है। इसलिए, यह बेहद जरूरी है कि आप अपने बच्चे को यह भरोसा दें कि वह अपनी बुरी से बुरी बात भी आपके साथ बांट सकता है। आप उसकी बातों को सुनने और समझने के लिए हमेशा अवेलेबल है। टीनएज में बच्चे को एक सख्त पैरेंट की नहीं, बल्कि एक दोस्त की जरूरत होती है। 

    इसे भी पढ़ें-बच्चों के खर्राटों से परेशान होने से पहले जानिए इसके पीछे की असली वजह

    दें जानकारी

    टीनएज में शरीर में कई तरह के बदलाव होते हैं। मसलन, शरीर के विभिन्न अंगों यहां तक कि प्राइवेट पार्ट में भी बाल आने लग जाते हैं। लड़कियों को पीरियड्स शुरू हो जाते हैं या फिर इस उम्र में लड़का व लड़की एक-दूसरे के प्रति आकर्षित होते हैं। यह सब कुछ नॉर्मल है। लेकिन सही जानकारी ना होने के कारण अक्सर बच्चे काफी घबरा जाते हैं।

    इसका गहरा असर उनकी मेंटल हेल्थ पर भी पड़ता है। लेकिन वे शर्म की वजह से किसी से कुछ कह नहीं पाते हैं। ऐसे में यह बेहद जरूरी है कि आप उन्हें उनके शरीर व मन में होने वाले बदलावों के बारे में जानकारी दें। जब वे पहले से ही अवेयर होंगे तो इससे उनके लिए किसी भी सिचुएशन को हैंडल करना आसान होगा।

    इसे भी पढ़ें-मेंटल हेल्थ को इन पांच तरीकों से लाभ पहुंचाती है रीडिंग हैबिट

    लें एक्सपर्ट की मदद

    teenage child mental health problem

    टीनएज में बच्चे के दिलों-दिमाग में क्या चल रहा होता है, इसके बारे में वे खुद भी सही तरह से समझ नहीं पाते हैं। ऐसे में पैरेंट्स के लिए उनकी मदद कर पाना और उनकी मेंटल हेल्थ का ख्याल रख पाना काफी मुश्किल हो जाता है।

    अगर आपको भी अपने बच्चे के स्वभाव में कुछ बदलाव नजर आते हैं और बच्चा आपसे कुछ शेयर नहीं कर रहा है तो ऐसे में आप किसी एक्सपर्ट की मदद भी ले सकते हैं। चाइल्ड साइकोलॉजिस्ट आपके बच्चे को बेहतर तरीके से समझकर उनकी मेंटल हेल्थ का भी रखने में आपकी मदद करेंगे।(मेंटल हेल्थ से जुड़े मिथ्स)

    इस आर्टिकल के बारे में अपनी राय भी आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं। साथ ही, अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।  

    Image Credit- freepik 

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।