अगर हिंदुस्तानियों की बहुत सारी समस्याओं में से कोई कॉमन समस्या निकाली जाए तो उसमें डायबिटीज, ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल जरूर शामिल होंगे। अधिकतर लोगों को ये परेशानी होने लगी है और आपको यह जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ 10 साल की उम्र से ही कोलेस्ट्रॉल शरीर में इकट्ठा होना शुरू हो जाता है और अगर डाइट और लाइफस्टाइल का ख्याल नहीं रखा जाए तो 30-35 तक आते-आते ये हमारे शरीर में कई समस्याओं का कारण बन जाता है। 

कोलेस्ट्रॉल हमारे शरीर का एक पदार्थ ही होता है जो लिवर से निकलता है और कुछ मात्रा में इसका होना अनिवार्य है। नसों में इलास्टिसिटी बरकरार रखने के लिए और कई मामलों में शरीर के अलग-अलग फंक्शन को पूरा करने में कोलेस्ट्रॉल मदद तो करता है, लेकिन अगर ज्यादा हो गया तो ये ब्लड प्रेशर, लिवर डिसफंक्शन और हार्ट डिजीज का कारण भी बन सकता है। 

इस समस्या को हल करने के लिए कई सारी दवाइयां खाई जाती हैं और अगर कोलेस्ट्रॉल बहुत बढ़ा हुआ है तो डॉक्टर की सलाह मानना लाजमी भी है। पर इस समस्या के कुछ घरेलू इलाज भी हो सकते हैं। इसके लिए हमने पब्लिक हेल्थ एक्सपर्ट स्वाति बथवाल से बात की जो डायबिटीज एजुकेटर भी हैं। स्वाति जी का कहना था कि डाइट पर अगर काबू किया जाए तो हम कोलेस्ट्रॉल को कम कर सकते हैं। उन्होंने इसके लिए एक बहुत ही लाजवाब घरेलू नुस्खा भी बताया है। 

how to control cholesterol and triglycerides

इसे जरूर पढ़ें- मखाने को स्नैक्स की तरह खाने के ये 5 फायदे क्या जानते हैं आप?

सिर्फ इस 1 ट्रिक से 10 हफ्ते में कम हो सकता है कोलेस्ट्रॉल-

स्वाति जी ने हमें बताया कि, 'अगर आपका बैड कोलेस्ट्रॉल या LDL कोलेस्ट्रॉल बढ़ा हुआ है तो आपके लिए आंवला पाउडर बहुत ही अच्छा साबित हो सकता है। ध्यान रहे यहां आंवला जूस की नहीं आंवला पाउडर की बात हो रही है। आपको करना ये है कि 2 ग्राम आंवला पाउडर को सुबह शाम पानी के साथ लेना है। मान कर चलें कि 2 ग्राम लगभग आधा छोटा चम्मच होगा और आपको इससे ज्यादा नहीं लेना है।'

'दो ग्राम पाउडर बहुत लाभकारी हो सकता है। सुबह-शाम का नियम हमेशा बनाए रखें उसे स्किप न करें जिससे 8 हफ्तों में आपको रिजल्ट दिखने लगेगा।'

how to control cholesterol and uric acid

न ही रिफाइंड न ही ऑलिव, इनमें खाना बनाना इसलिए है नुकसानदेह-

स्वाति जी के अनुसार रिफाइंड तेल और रिफाइंड प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल कम से कम किया जाए तो ही ठीक है। ऐसा इसलिए क्योंकि रिफाइंड तेल में सिंगल बॉन्ड (केमेस्ट्री का एक टर्म जिसे दो पदार्थों के लिंक को दिखाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है) होता है और ये गर्म होने पर टूट जाता है। ऐसे में सिर्फ फैट्स ही रहते हैं जो हमारा शरीर एब्जॉर्ब कर पाता है। यही कारण है कि प्रोसेस्ड तेल हमारा कोलेस्ट्रॉल बढ़ा देते हैं। 

यही हाल ऑलिव ऑयल का भी है, लोगों को लगता है ये हेल्दी है और रिफाइंड की तुलना में ये हेल्दी है भी, लेकिन हीट करने पर इसके साथ भी ऐसा ही रिएक्शन होता है। इसलिए ऑलिव ऑयल सलाद ड्रेसिंग आदि के लिए तो अच्छा है, लेकिन वो हीट करने के बाद उतना अच्छा नहीं है। ऑलिव ऑयल में तली हुई पूरियां भी आपको उतना ही नुकसान पहुंचा सकती हैं। 

how to control cholesterol without medicine

इसे जरूर पढ़ें- उम्र की वजह से खो गई है आंखों की रौनक तो उन्हें दोबारा बनाएं जवां, एक्सपर्ट से जानें टिप्स 

कौन से तेल का इस्तेमाल होगा कोलेस्ट्रॉल के लिए परफेक्ट?

मूंगफली का तेल और सरसों का तेल दोनों ही आपके लिए परफेक्ट साबित हो सकते हैं। हालांकि, ये ध्यान रखें कि तेल की मात्रा सीमित होनी चाहिए। इन तेलों की हीट कैपेसिटी ज्यादा होती है और इसलिए ये काफी अच्छे साबित होंगे। सबसे बेस्ट होगा घी का इस्तेमाल जिसे आप रोज़ाना अपनी डाइट में शामिल करें। 1 चम्मच घी में बनी सब्जी ज्यादा पौष्टिक होगी। तेल का इस्तेमाल करते हुए ध्यान रखें ये बातें- 

  • प्लास्टिक की बोतल में कुछ भी न रखें बोन चाइना, कांच या स्टील का बर्तन चुनें।
  • तेल को अच्छे से पका लें और फिर उसमें सब्जी डालें।
  • 1 समय के खाने के हिसाब से 1 चम्मच तेल काफी होता है, हो सके तो कम तेल इस्तेमाल करें।
  • ऑलिव ऑयल के नाम से POMACE ऑयल मिलता है जिसका केमिकल शू पॉलिश के जैसा ही होता है। इसलिए अगर आप ऑलिव ऑयल इस्तेमाल कर रहे हैं तो एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल चुनें।
  • कोल्ड प्रेस ऑयल लेने की कोशिश करें ऐसे में नारियल का तेल भी अच्छा होगा।
a diet to control cholesterol

जिन महिलाओं को आयरन की कमी है वो क्या करें? 

जिन्हें आयरन की कमी है वो अपने मील में आयरन से भरपूर फूड्स लें और उसके साथ ही आंवला पाउडर जरूर लें। दाल, टोफू, हरी पत्तेदार सब्जियां जैसे पालक, काजू, होल ग्रेन्स आदि अपने खाने में शामिल करें और साथ ही साथ आंवला पाउडर खाएं। आंवला में विटामिन-सी होता है और ये आयरन को शरीर में एब्जॉर्ब करवाने में मदद करेगा। इससे कोलेस्ट्रॉल और आयरन दोनों की कमी पूरी हो जाएगी।  

10 साल की उम्र से बढ़ सकता है कोलेस्ट्रॉल- 

कई बार हमें लगता है कि बचपन में कुछ भी खाया जा सकता है, लेकिन ऐसा नहीं है। चिप्स, तला हुआ खाना और अन्य कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने वाली चीज़ें खाने की वजह से 10 साल की उम्र से ही आर्टरीज में कोलेस्ट्रॉल बढ़ाने लगता है। अगर उसपर शुरुआत से ही ध्यान न दिया गया तो 10 में से 6 लोगों को 30-35 की उम्र में कोलेस्ट्रॉल की समस्या हो सकती है।  

कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए एक्सरसाइज भी है बहुत जरूरी- 

स्वाति जी का कहना है कि आप अगर अपना शरीर नहीं चला रहे हैं तो किसी भी तरह की डाइट उतनी असरदार नहीं हो सकती है। एक्सरसाइज करना बहुत जरूरी है जिससे हमारी आर्टरीज से एक्स्ट्रा फैट घटे।  

ये सारी टिप्स उन सभी के लिए अच्छी साबित हो सकती हैं जिन्हें कोलेस्ट्रॉल की समस्या है, लेकिन अगर आपको इसके साथ कई अन्य हेल्थ इश्यूज भी हैं तो किसी भी तरह का बदलाव अपनी डाइट में करने से पहले एक बार डॉक्टर की सलाह जरूर ले लें। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।