अयोध्या में जिस तरह से राम मंदिर चर्चा का विषय रहता है, ठीक उसी तरह सीता की रसोई भी खूब चर्चा में रहती हैं। रामायण काल में निर्मित अयोध्या में ऐसे कई प्राचीन और मिथक में भरपूर जगह, इमारत या घर मौजूद है जिन्हें लेकर आज भी कई मिथक जुड़े हुए हैं। इन्हीं मिथक जगह में से एक है 'सीता की सरोई'। 

राम मंदिर के उत्‍तरी-पश्चिमी भाग में स्थित सीता की रसोई को लेकर आज भी लोगों में कई तरह के मिथक गड़े जाते हैं। इस रसोई को लेकर हर किसी का एक अलग ही विचार रहता है। राम मंदिर के फैसले के बाद भी सुप्रीम कोर्ट द्वारा सीता की रसोई का जिक्र किया गया था। ऐसे कई मिथक इस रसोई से जुड़े हुए हैं, जिनके बारे में हम आपको इस लेख में बताने जा रहे हैं। तो आइए इस लेख में अयोध्या में मौजूद है सीता की रसोई के बारे में कुछ रोचक मिथक के बारे में जानते हैं। 

क्या सच में सीता इस रसोई में खाना बनती थी!

sita ki raso ayodhya history inside

सीता की रसोई को लेकर मिथक की कमी नहीं है। कुछ जानकारों का मानना है कि एक से दो बार सीता जी ने इस रसोई में खाना बनाई थी। कुछ विद्धान कहते हैं कि जब सीता अपने ससुराल आई थी, तो सगुन के तौर पर इस रसोई में परिवार के लिए खाना बनाई थी। वहीं कुछ लोगों का कहना है कि यह सीता की रसोई थी लेकिन, सीता ने कभी भी रसोई में भोजन नहीं बनाई थी बल्कि, उन्होंने दूसरों से रसोई में मौजूद रहकर बनवाई थी। 

इसे भी पढ़ें: कोतिलिंगेश्वारा मंदिर: जहां मौजूद हैं लगभग 1 करोड़ शिवलिंग और 108 फीट लम्बी मूर्ति

रसोई में मौजूद है मूर्ति 

sita ki raso ayodhya history inside

रसोई के मिथक को लेकर आज भी कई कहानी जड़े जाते हैं। कहा जाता है कि सही मायने में यह कोई रसोई नहीं बल्कि, एक मंदिर है।  इस मंदिर में राम, लक्ष्‍मण, भरत और शत्रुघ्‍न के साथ साथ सीता, उर्मिला, मांडवी और सुक्रिति की मूर्ति लगी हुई हैं। एक अन्य मिथक में यह कहा जाता है कि सीता ने इस रसोई में पांच ऋषियों को भोजन करवाया था, जिसके बाद सीता जी को अन्‍नपूर्णा माता कहा जाने लगा। आज भी कई दीवारों पर 'सीता की रसोई' लिखा हुआ है जहां लोग घूमने के लिए जाते रहते हैं। (थाईलैंड की अयोध्‍या कैसे है भारत से अलग)

Recommended Video


इसे भी पढ़ें: दिल्ली या वृंदावन ही नहीं, भारत की इन जगहों पर भी हैं इस्कॉन मंदिर

पकवान और सीता कुंड के बारे  में 

sita ki raso ayodhya history inside

रसोई को लेकर यह मिथक है कि आज भी इस रसोई में रोलिंग प्‍लेट या चकला और बेलन रखे हुए हैं। जानकारों का मानना है कि इस सीता रसोई में तीन तरह की खीर, मटर घुघुरी, कढ़ी, मालपुआ आदि परोसी जाती थी। इस रसोई के बगल में एक जानकी कुंड भी मौजूद है। जिसे लेकर कहा जाता है कि सीता इसी कुंड में स्नान करती करती थी। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह जगह अयोध्या नगरी में मौजूद सबसे शांत जगह पर स्थित है।

यक़ीनन यह बोला जा सकता है कि इस लेख को पढ़ने के बाद 'सीता की रसोई' को लेकर आपके मन में जो भी विचार थे वो दूर हो गए होंगे। अगर आप घूमने-फिरने का शौक रखते हैं, तो आपको यहां एक बार ज़रूर घूमने जाना चाहिए। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@media-cdn.tripadvisor.com,media.webdunia.com)