इंटरनेशनल सोसाइटी फॉर कृष्णा कॉन्शियसनेस (इस्कॉन) एक वैश्विक संगठन है जिसका गठन वर्ष 1966 में न्यूयॉर्क शहर में किया गया था। यह एक संप्रदाय है जो गौड़ीय वैष्णव परंपरा का पालन करता है। वे राधा और कृष्ण के शिष्य हैं। भारत में भी कई इस्कॉन मंदिर स्थित है। जहां पर जन्माष्टमी यानी कृष्ण के जन्म के उत्सव के दौरान एक अलग ही नजारा देखने को मिलता है।

आमतौर पर जब भारत में स्थित इस्कॉन मंदिर की बात आती है तो लोगों को केवल दिल्ली के इस्कॉन मंदिर या फिर वृंदावन के इस्कॉन मंदिर की ही जानकारी है। लेकिन इन जगहों के अलावा भी भारत के अलग-अलग राज्यों में इस्कॉन मंदिर है। जिसके बारे में आज हम आपको बता रहे हैं और यकीन मानिए, भारत में स्थित इन इस्कॉन मंदिरों के बारे में जानने के बाद आप भी यहां पर एक बार जरूर जाना चाहेंगी।

इस्कॉन मंदिर, पश्चिम बंगाल

West Bengal

श्री मायापुरा चंद्रोदय मंदिर भारत में सबसे बड़े इस्कॉन मंदिर में से एक है। यह पश्चिम बंगाल के मायापुर में स्थित है और यह इस्कॉन का मुख्य मुख्यालय है। वर्ष 1972 में आधारशिला रखी गई थी और मंदिर में समारोह के दौरान मायापुर में हजारों पर्यटक आते हैं। भगवान को नए कपड़े पहनाए जाते हैं और उन्हें सजाया जाता है और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होता है।

इस्कॉन मंदिर, बैंगलोर 

bangalore

भारत में सबसे बड़ा इस्कॉन मंदिर बैंगलोर इस्कॉन मंदिर है। जिसे श्री राधा कृष्ण मंदिर भी कहा जाता है। यहां पर सालभर भक्तों व पर्यटकों का तांता लगा रहता है। हर साल जन्माष्टमी के त्योहार के अवसर पर मंदिर को पेंट किया जाता है और इसे रोशनी से सजाया जाता है। भगवान का भोग बड़े पैमाने पर तैयार किया जाता है और इसे भक्तों के साथ बांटा जाता है। 

इस्कॉन मंदिर, अहमदाबाद

ahmedabad

गुजरात समाचर प्रेस के करीब स्थित, अहमदाबाद में इस्कॉन मंदिर आध्यात्मिकता और मानसिक शांति का अनुभव करने के लिए सबसे अच्छी जगह है। हरे कृष्ण मंदिर के रूप में जाना जाने वाला यह मंदिर अपने आप में अद्भुत है। हरे कृष्ण मंदिर के अंदर, हमेशा हरे राम हरे कृष्ण के मंत्रों को सुना जा सकता है। यहां पर अनुयायी दैनिक जीवन को बेहतर बनाने की तकनीकों को सिखाने के लिए संस्थानों, कॉरपोरेट्स आदि में सेशन आयोजित करते हैं।

इस्कॉन मंदिर, वृंदावन 

vrindavan temple

उत्तर प्रदेश के वृंदावन में भक्तिवेदांत स्वामी मार्ग पर स्थित इस्कॉन मंदिर को श्री कृष्ण बलराम मंदिर के रूप में जाना जाता है। यह भारत में पहला इस्कॉन मंदिर है, जिसे 1975 में बनाया गया था। हर साल जन्माष्टमी के दौरान वृंदावन में अनुयायी इकट्ठा होते हैं। हिंदू पौराणिक कथाओं के आधार पर यह वह स्थान था जहां भगवान कृष्ण बड़े हुए थे। इसलिए इस स्थान पर बने इस्कॉन मंदिर का अपना एक अलग महत्व है।

इस्कॉन मंदिर, दिल्ली  

eskon temple

प्रसिद्ध राधा राधिकरण-कृष्ण बलराम इस्कॉन मंदिर दिल्ली राजधानी के केंद्र में है। यह ईस्ट ऑफ कैलाश में इस्कॉन टेम्पल रोड पर स्थित है। जन्माष्टमी में भाग लेने के लिए लगभग 7-8 लाख लोग यहां इकट्ठा होते हैं। आर्ट गैलरी से लेकर रोबोट तक, यह स्थान सिर्फ एक मंदिर नहीं है, बल्कि सभी आगंतुकों के लिए एक दिलचस्प तरीके से भगवान श्री कृष्ण व उनके जीवन से जुड़ी कई जानकारी प्रदान करता है।

इसे भी पढ़ें: जानें अरुणाचल प्रदेश की डोंग वैली के कुछ रोचक तथ्य, यहां भारत में होता है सबसे पहले सूर्योदय

इस्कॉन मंदिर, चेन्नई 

chennai

चेन्नई में इस्कॉन मंदिर एक सुंदर मंदिर है जो भगवान कृष्ण को समर्पित है। यह दक्षिणी चेन्नई में ईस्ट कोस्ट रोड पर स्थित है। 1.5 एकड़ भूमि पर निर्मित, इस्कॉन, चेन्नई तमिलनाडु का सबसे बड़ा राधा कृष्ण मंदिर है। 26 अप्रैल 2012 को आधिकारिक तौर पर इसका उद्घाटन किया गया था। मंदिर में पूजनीय देवताओं में राधा कृष्ण और भगवान नित्या गौरांग सहित भगवान का परिवार शामिल है।

Recommended Video

इस्कॉन मंदिर, अनंतपुर

anantpura

दुनिया भर में निर्मित अन्य सभी इस्कॉन मंदिरों की तरह, अनंतपुर में स्थित इस्कॉन मंदिर भी उतना ही सुंदर है। मंदिर एक घोड़े से तैयार रथ की भांति नजर आता है, जिसके प्रवेश द्वार पर चार विशाल घोड़ों की मूर्तियाँ हैं। इस मंदिर को राधा पार्थसारथी मंदिर के रूप में जाना जाता है और फरवरी 2008 में इसका उद्घाटन किया गया था। इस्कॉन मंदिर शहर के बाहरी इलाके में सोमालादोडी गांव में स्थित है। मंदिर में एक रेस्तरां भी है। सुंदर मंदिर रात में और भी अधिक खूबसूरत लगता है जब रोशनी इसकी दीवारों को रोशन करती है। अगर आप आन्ध्र प्रदेश में हैं तो आपको एक बार इस मंदिर में जरूर जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: हैदराबाद के करीब यह चार हिल स्टेशन समर वेकेशन के लिए हैं एकदम परफेक्ट

इस्कॉन मंदिर, गाजियाबाद 

ghaziabad

हरे कृष्ण रोड पर इस्कॉन चौक पर स्थित, इस्कॉन मंदिर एक प्रसिद्ध कृष्ण-समर्पित इस्कॉन सोसाइटी का एक और मंदिर है। यह मंदिर विशेष रूप से कृष्ण जन्माष्टमी के त्योहार के दौरान एक महत्वपूर्ण आकर्षण बन जाता है। मंदिर में भगवान कृष्ण और उनके जीवन को दर्शाती विभिन्न मूर्तियाँ हैं। निरंतर कृष्ण गीतों और भजनों के साथ गूंजते हुए मंदिर में गोवर्धन पूजा आदि को बेहद ही खूबसूरती के साथ सेलिब्रेट किया जाता है।

तो अब आप भारत के किस इस्कॉन मंदिर को सबसे पहले देखना चाहेंगी, यह हमें फेसबुक पेज के कमेंट सेक्शन में जरूर बताइएगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।