अगर अच्छा खाना बनाना है तो उसमें दालचीनी डाल दीजिए।

अगर पतला होना है तो दालचीनी वाला दूध पीजिए।

अगर चाय का काढ़ा बनाना है तो उसमें भी दालचीनी डाल दीजिए।

और दालचीनी डाल देने से पुलाव तो स्वादिष्ट बनता ही है। 

दालचीनी के बिना तो इंडियन घरों में किसी तरह का खाना बनाने की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। दालचीनी की महक काफी तेज होती है और यह खाने को स्वादिष्ट बना देने के साथ ही खुशबूदार भी बना देती है। 

cinnamon in kitchen garden inside

लेकिन आया है दालचीनी में बदलाव

लेकिन आपने नोटिस किया होगा कि पहले जैसे आपके घर में दालचीनी की खुशबू आती थी वैसी खुशबू अब मार्केट में मिलने वाली दालचीनी में नहीं आती है। ऐसा हर चीज के जीएम (जेनेटिकली मोडिफाइड) हो जाने की वजह से होता है। इस जीएम दालचीनी से बचने के लिए घर पर ही आप अपने किचन गार्डन में दालचीनी उगाएं।    

वैसे भी मार्केट में दालचीनी 800 से 1000 रुपये किलो मिलता है। जबकि आप मुफ्त में ही अपने किचन गार्डन में इसे उगा सकती हैं। आज हम आपको इस आर्टिकल में घर के किचन में दालचीनी उगाने का तरीका बता रहे हैं।  

किचन-गार्डन में लगाएं

घर की बालकनी या किचन में हर कोई गमले में पौधा लगाते हैं। मार्केट से दालचीनी का पौधा लगाकर इसमें लगाएं। फिर इसमें रोज पानी दें। दो से तीन महीने में दालचीनी उगने लगेंगे। लेकिन शुरुआती समय में इसका काफी ख्याल रखने की जरूरत होती है। 

cinnamon in kitchen garden inside  skype

चीटियों से रखें दूर

दालचीनी के पौधे को चीटियों से दूर रखें क्योंकि यह थोड़ी सी मीठी होती है तो इसमें चींटियां लग जाती हैं। इसलिए गार्डन में समय-समय पर सफाई करते रहें और चीटियों को दूर रखें। ये चीटियां पत्तियों को भी खा लेती हैं और पौधे को भी बर्बाद कर देती हैं।  

फंगस को मिटाए 

बरसात के मौसम में कई बार पौधे में फंगस लग जाते हैं। मशरुम भी काफी उग आते हैँ। ऐसे में किचन गार्डन में दालचीनी लगाएं। दालचीनी की खुशबू से मशरुम नहीं उगते हैं। वहीं दालचीनी का पाउडर बनाकर पौधों में छिड़क दें। इससे फंगस नहीं लगेंगे। 

ग्राफ्टिंग करें

दालचीनी के पौधे बहुत जल्दी बढ़ते हैं इसलिए समय-समय पर उसकी ग्राफ्टिंग करते रहें। 

तो घर पर दालचीनी का पौधा इन टिप्स से उगाएं और हजार रूपये बचायें। 

  • Gayatree Verma
  • Her Zindagi Editorial