Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    Ratlam Mahalakshmi: दिवाली पर फूलों से नहीं बल्कि करोड़ों की करेंसी नोट्स से होती है मंदिर की सजावट

    इस लेख में उस मंदिर की कहानी जिकसी सजावट फूलों से नहीं बल्कि करेंसी नोटों से होती है। आइए जानते हैं।
    author-profile
    Published -04 Oct 2022, 11:17 ISTUpdated -04 Oct 2022, 11:48 IST
    Next
    Article
    ratlam mahalaxmi temple  madhya pradesh

    सनातम काल से हिन्दू धर्म में मां लक्ष्मी सबसे पूजनीय देवी में से एक हैं। करोड़ों भक्त मां लक्ष्मी को धन के रूप में पूजा-पाठ करते हैं। धनतेरस और दिवाली के शुभ मौके पर भी मां लक्ष्मी की पूजा बड़े धूमधाम के साथ की जाती है।

    लेकिन देश के अलग-अलग राज्यों में ऐसे कई लक्ष्मी मंदिर मौजूद हैं जिसकी कहानी सुनकर और पढ़कर कई लोग सोच में पड़ जाते हैं। जी हां, मध्य प्रदेश में एक ऐसा ही मंदिर है जिसकी चर्चा हर दिवाली पर सुन सकते हैं।

    इस लेख में हम आपको मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में स्थित उस महालक्ष्मी मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे दिवाली पर फूलों से नहीं नोटों से सजाया जाता है। आइए जानते हैं।

    करेंसी नोट्स से होती है मंदिर की सजावट 

     ratlam mahalaxmi mandir story

    शायद आपको सुनने में थोड़ा अजीब लगें लेकिन, यह सच है कि मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में स्थित महालक्ष्मी के मंदिर को फूलों से नहीं करेंसी नोट्स से सजावत की जाती है।   

    कहा जाता है कि दिवाली के शुभ अवसर पर धनतेरस से लेकर पांच दिनों तक दीपोत्सव का आयोजन होता है और मंदिर की दीवार और मां की मूर्ति की सजावट नोट्स से होती है।

    इसके अलावा मंदिर के प्रांगण में स्थित झालर को नोटों की गद्दियों से सजाया जाता है। इस मंदिर में सिर्फ करेंसी नोट्स ही नहीं बल्कि सोना, चांदी की भी चढ़ावा चढ़ता है। इस अद्भुत सजावट के चलते यह मंदिर हर साल भक्तों और अन्य लोगों का ध्यान खींचता है।

    इसे भी पढ़ें: नवरात्रि में हर धर्म के लोग पहुंचते हैं मां दुर्गा के इस मंदिर में दर्शन करने, सभी मुरादें हो जाती हैं पूरी

    सुरक्षा का रखा जाता है विशेष ध्यान 

    ratlam mahalaxmi temple history

    आपको बता दें कि इस मंदिर को एक या दो लाख से नहीं बल्कि करोड़ों करेंसी नोट्स से सजावट की जाती है। इसलिए हर साल यहां सुरक्षा व्यवस्था पर भी विशेष ध्यान रखा जाता है।

    कहा जाता है कि जब तक पूजा-पाठ चलती है तब तक मंदिर के चारों तरफ पुलिस का पहरा रहता है ताकि मंदिर से कोई चोरी न कर सकें। (वैष्णो देवी के आसपास स्थित हिल स्टेशन्स)

    Recommended Video

    क्या सच में प्रसाद के रूप में नोट्स दिए जाते हैं?

    ratlam mahalaxmi temple

    इस प्रसिद्ध मंदिर के बारे में कई दिलचस्प कहानियां भी हैं। जी हां, कहा जाता है कि इस मंदिर में जो भक्त दर्शन करने के लिए पहुंचता है उसे प्रसाद के रूप में नोट दिए जाते हैं।  कई लोगों का यह भी मानना है कि प्रसाद के रूप में सोना-चांदी भी दिए जाते हैं। (मां दुर्गा के 8 प्रसिद्ध मंदिर)

    इसे भी पढ़ें: मां दुर्गा के इस मंदिर में पूजा करने से भक्तों की सभी मुरादें हो जाती हैं पूरी, आप भी पहुंचें

    क्या है मंदिर की पौराणिक कथा?

    ratlam mahalaxmi temple currency notes

    अगर इस मंदिर की पौराणिक कथा पर गैर करें तो यह माना जाता है कि प्राचीन काल में राजा-महाराजा राज्य की सुख-समृधि और धन की प्राप्ति के लिए इस मंदिर में पैसे के साथ आभूषण चढ़ाया करते थे। उसके बाद यह समझा जाने लगा कि जो भी भक्त इस मंदिर में आभूषण या फिर पैसे चढ़ाते हैं उनके घर में कभी भी धन की कमी नहीं होती है। 

    अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे लाइक, शेयर और कमेंट्स ज़रूर करें। इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

    Image Credit:(@naidunia)

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।