• ENG | தமிழ்
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

भारत के इस शहर में नहीं होता रावण-दहन, धूमधाम से होती है पूजा

भारत की इस जगह आखिर क्यों नहीं होता रावण-दहन। आइए इस लेख में जानते हैं।
author-profile
Published -28 Sep 2022, 18:13 ISTUpdated -28 Sep 2022, 18:52 IST
Next
Article
places in india where ravana will not be set on fire

नवरात्रि के ख़त्म होते ही सभी लोग दशहरा का त्योहार मनाने के लिए तैयार हो जाते हैं।इस साल पूरे देश भर में दशहरे का त्योहार 5 अक्‍टूबर को मनाया जाएगा। वैसे तो यह त्योहार एक दिन का होता होता है लेकिन, इसकी शुरुआत नवरात्रि के पहले ही दिन से शुरू हो जाती है।

पौराणिक कथा के अनुसार भगवान राम ने जब रावण का वध किया था तो उस समय दशहरा का त्योहार मनाया गया था, तब से इस दिन हर साल बड़े ही धूमधाम के साथ रावण के पुतले को जलाकर दशहरा मनाया जाता है।

लेकिन क्या आपको मालूम है कि भारत में एक ऐसी भी जगह है जहां दशहरा के दिन रावण का पुतला नहीं जलाया जाता है। इस जगह दशहरा के दिन पूजा-पाठ होती है और मंदिर में जाकर मनोकामना भी मंगाते हैं। इस लेख में हम आपको उस जगह के बारे में बताने जा रहे हैं कि आखिर क्यों दशहरा के दिन रावण-दहन नहीं होता है। आइए जानते हैं।

दक्षिण-भारत में कहां रावण-दहन नहीं होता? 

india where ravana will not effigy burn

जिस जगह के बारे में हम जिक्र कर रहे हैं वो जगह दक्षिण भारत में मौजूद है। जी हां, दक्षिण भारतीय राज्य कर्नाटक के कोलार में आज से नहीं बल्कि वर्षों से रावण का पुतला नहीं जलाया जाता है। कहा जाता है कि यहां नवरात्रि के दिनों में रावण की पूजा होती है और भारी संख्या में लोग भी शामिल होते हैं।

इसे भी पढ़ें: नवरात्रि में हर धर्म के लोग पहुंचते हैं मां दुर्गा के इस मंदिर में दर्शन करने, सभी मुदारें हो जाती हैं पूरी

कोलार में क्यों नहीं जलाया जाता है रावण का पुतला?

india where ravana will not effigy burn in hindi

कहा जाता है कि जिस दिन भारत के अन्य हिस्सों में दशहरा होता है उसी दिन कोलार में फसल की पूजा-पाठ होती है। इस शुभ मौके पर एक महोत्सव का भी आयोजन होता है जिसका नाम लंकेश्वर महोत्सव है। 

इस विशेष मौके पर रावण की प्रतिमा को रथ पर रखकर शोभायात्रा निकालते हैं। एक अन्य लोक कथा है कि इस दिन कोलार में भगवान शिव की पूजा होती है और रावण भगवान शिव का भक्त था इसलिए भगवान शिव के साथ रावण की भी पूजा होती है। 

रावण-दहन न करने के पीछे क्या है पौराणिक कथा? 

Where Ravana effigy isnt burnt

आपको बता दें कि कोलार में रावण का एक बहुत बड़ा मंदिर भी है। इसके अलावा कर्नाटक के मालवल्ली में भी रावण का मंदिर है। कहा जाता है कि कर्नाटक के मछुआरा समुदाय के लोग रावण की पूजा करते हैं।

यहां रावण-दहन न करने के पीछे की कहानी काफी रोचक है। ऐसा माना जाता है पुतला में आग लगाते हैं तो फसल जलने या ठीक से नहीं होने का डर रहता है। 

इसे भी पढ़ें: मां दुर्गा के इस मंदिर में पूजा करने से भक्तों की सभी मुरादें हो जाती हैं पूरी, आप भी पहुंचें

भारत की इन जगहों पर भी नहीं लजाया जाता है रावण का पुतला

रावण का पुतला सिर्फ कर्नाटक के कोलार या मालवल्ली ही नहीं नहीं जलाया जाता है बल्कि भारत में कुछ ऐसी भी जगहें हैं जहां रावण-दहन नहीं होता है। इस लिस्ट में सबसे पहला नाम जोधपुर का लिया जाता है।

पौराणिक कथा के अनुसार रावण का विवाह मंदोदरी के साथ इसी स्थान पर हुआ था। मंदोदरी जोधपुर की ही रहने वाली थी। इसके अलावा मध्य प्रदेश, हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश की कुछ जगहों पर रावण का पुतला नहीं जलाया जाता है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे लाइक, शेयर और कमेंट्स ज़रूर करें। इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@sutterstocks,i.tying)

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।