Close
चाहिए कुछ ख़ास?
Search

    कितना जानते हैं आप पीनट बटर के दिलचस्प इतिहास के बारे में

    अगर आप भी पीनट बटर के दिलचस्प इतिहास के बारे में जानना चाहते हैं, तो आपको भी इस आर्टिकल को ज़रूर पढ़ना चाहिए।
    author-profile
    Published -24 Aug 2021, 11:57 ISTUpdated -24 Aug 2021, 12:33 IST
    Next
    Article
    know peanut butter  history and facts

    यार! 'अगर पीनट बटर है तो ब्रेड में लगाकर खाने में मज़ा आ जाएगा। ब्रेड को रोस्ट करके एक से दो चम्मच पीनट बटर लगाकर नाश्ते में खाते हैं, मज़ा आ जाएगा'। शायद आप भी सुबह-सुबह कुछ इसी तरह का नाश्ता करने के बारे में ज़रूर सोचते होंगे। भारतीय घरों में आज पीनट बटर एक अहम हिस्सा बन चूका है। लगभग हर कोई ब्रेड आदि के साथ पीनट बटर को खाना खूब पसंद करते हैं। लेकिन, अगर आपसे यह सवाल किया जाए कि जिस पीनट बटर को आप इतने प्रेम के साथ खाना पसंद कर रहे हैं, क्या इसके इतिहास के बारे में जानते हैं? मतलब, सबसे पहले कहां और किसने पीनट बटर को तैयार किया था आदि। अगर नहीं, तो इस लेख में हम आपको पीनट बटर के कुछ दिलचस्प इतिहास के बारे में बताने जा रहे हैं, तो आइए जानते हैं।

    पीनट बटर का इतिहास 

    peanut butter  history and facts inside

    पीनट बटर का इतिहास बेहद ही दिलचस्प है। इसे लेकर अलग-अलग विचार है। किसी का मानना है कि 15वीं शताब्दी से ही यूरोप और कुछ अन्य देश इसे भोजन में शामिल करते थे। कुछ लोगों का यह मानना है कि पीनट बटर का इतिहास संस्कृति से जुड़ा हुआ है। इसके लेकर कहा जाता है कि सबसे पहले कनाडा के एक व्यक्ति ने साल 1884 में अपने नाम से पेटेंट करवाया था। 

    हालांकि, यह भी कहा जाता है कि सबसे पहले कच्चे मूंगफली को पीसकर भोजन में इस्तेमाल किया जाता था लेकिन, 80 के दशक के बाद से इसे गर्म करके और पीसकर भोजन में शामिल किया जाने लगा। इधर कई लेख में उल्लेख है कि Dr. Ambrose Straub ने लगभग 1903 में पीनट बटर बनाने वाली मशीन का पेटेंट कराया था।

    इसे भी पढ़ें: Kitchen Hacks: बिना प्याज के इन चीजों से बनाएं लाजवाब और टेस्टी ग्रेवी, जानिए कैसे

    80 के दशक में पीनट बटर 

    peanut butter  history inside

    80 के दशक में पीनट बटर के साथ कुछ और भी दिलचस्प इतिहास को जोड़कर देखा जाता है। यह धारण है कि अमेरिका के एक डॉक्टर Kellogg ने इसे प्रोटीन के तौर पर मार्केटिंग की थी। 80 के दशक के बाद धीरे-धीरे एशिया, अफ्रीका आदि महादेशों में इसे मुख्य रूप से पसंद किया जाने लगा था। धीरे-धीरे पीनट बटर के अलग-अलग रूप आते रहे और इसके टेस्ट और रंग में भी बदलाव होते रहे हैं। (फ्रेंच फ्राइज का इतिहास)

    Recommended Video

    पीनट बटर सैंडविच 

    peanut butter  history and facts inside

    80 के दशक में जिस तरह पीनट बटर को पसंद किया जाता था वो सभी के लिए एक अलग स्वाद था। इसी दौरान पहली बार पीनट बटर सैंडविच की रेसिपी बनाई गई थी, जिसके बाद इसका डिमांड और भी अधिक होने लगा। लोग सुबह और शाम के नाश्ते में ब्रेड के साथ पीनट बटर को बड़े ही प्रेम से खाने लगे। आगे चलकर अन्य देशों में लोग ब्रेड के साथ पीनट बटर खाना पसंद करने लगे।

    इसे भी पढ़ें: खट्टे फलों के इस्तेमाल से घर के इन मुश्किल कामों को बनाएं आसान

    पीनट बटर और जैम 

    peanut butter  inside

    80 और 90 के दशक में सिर्फ पीनट बटर ही लोग पसंद नहीं कर रहे थे बल्कि, इसके साथ-साथ फ्रूट जैम को भी लोग बेहद पसंद करने लगे थे। फ्रूट्स को मिक्सर में डालकर अच्छे से पीसकर ब्रेड के साथ खाना पसंद करने लगे थे। 90 के दशक के अंत में पीनट बटर और साथ में फ्रूट जैम दुनिया भर में पसंद किया जाने लगा। कहा जाता है कि द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान सैनिकों का सबसे पसंदीदा नाश्ता ब्रेड के साथ पीनट बटर या जैम ही था।

    अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें, और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

    Image Credit:(@freepik)

    बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

    Her Zindagi
    Disclaimer

    आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।