भारत में जब भी नदियों की बात आती है गंगा और यमुना के बाद नर्मदा का नाम सबसे ऊपर होता है। न जानें कितनी धार्मिक प्रथाओं को खुद में समेटे हुए ये खूबसूरत नदी सदियों से बहती जा रही है और अपना पवित्र जल दूसरों तक पहुंचा रही है। चाहे अमरकंटक का घाट हो या ओंकारेश्वर का किनारा ये नदी अपने आप में ही पवित्रता का प्रतीक है और हिन्दुओं के बीच न जाने कितने समय से पूजी जाती रही है। यह नदी भारत के पश्चिम में बहने वाली सबसे बड़ी नदी है।

यह नदी मध्य प्रदेश में स्थित अमरकंटक की पहाड़ियों से निकलती है। भ्रंश के कारण यह नदी भ्रंश घाटी में पश्चिम से पूर्व की ओर बहती है और यह नदी एक गहरे कण्ठ से होकर बहती है, जो इसके आस-पास के स्थान को एक सुरम्य स्थान बनाती है। अपनी जल धारा से दूसरों को सुसज्जित करने के साथ ये नदी न जाने कितनी कही अनकही कथाओं को अपने आप में समेटे हुए निरंतर बहती जा रही है। आइए जानें इस नदी से जुड़े कुछ ऐसे रोचक तथ्यों के बारे में जो आपने शायद पहले नहीं सुने होंगे। 

कहां से होती है नर्मदा की उत्पत्ति 

narmada river fact

नर्मदा नदी को रेवा के नाम से भी जाना जाता है। यह मध्य भारत की एक नदी और भारतीय उपमहाद्वीप की पांचवीं सबसे लंबी नदी है। यह गोदावरी नदी और कृष्णा नदी के बाद भारत के अंदर बहने वाली तीसरी सबसे लंबी नदी है। मध्य प्रदेश राज्य में इसके विशाल योगदान के कारण इसे "मध्य प्रदेश की जीवन रेखा" भी कहा जाता है। यह उत्तर और दक्षिण भारत के बीच एक पारंपरिक सीमा की तरह कार्य करती है। यह अपने उद्गम से पश्चिम की ओर 1,312 किमी चल कर खंभात की खाड़ी, अरब सागर में जा गिरती है। नर्मदा, मध्य भारत के मध्य प्रदेश और गुजरात राज्य में बहने वाली एक प्रमुख नदी है। मैकल पर्वत के अमरकंटक शिखर से नर्मदा नदी की उत्पत्ति हुई है। इसकी लंबाई लगभग 1312 किलोमीटर है जो इसे भारत की सबसे लंबी नदी के रूप में प्रस्तुत करती है। 

इसे जरूर पढ़ें:जानें गंगा नदी की उत्पत्ति कहां से हुई है और इससे जुड़े कुछ तथ्यों के बारे में

नर्मदा की हैं कई सहायक नदियां 

नर्मदा की अधिकांश सहायक नदियां छोटी हैं और समकोण पर मिलती हैं। नर्मदा बेसिन देश के कुल भौगोलिक क्षेत्र का लगभग 3% यानी 98,796 वर्ग किलोमीटर में फैली हुई है। नर्मदा नदी की 41 सहायक नदियां हैं। बर्नर नदी इसकी पहली बड़ी सहायक नदी है जो बाईं ओर से नर्मदा में मिलती है। यह बंजार को बाईं ओर से और नीचे की ओर से प्राप्त करती है। 

नर्मदा नदी का स्रोत 

नर्मदा को रीवा भी कहा जाता है। यह मध्य भारत में है और पांचवीं सबसे लंबी नदी है। नर्मदा का स्रोत नर्मदा कुंड है जो मध्य प्रदेश के अनूपपुर जिले के अमरकंटक में स्थित है। (भारत की 10 सबसे बड़ी नदियां )

उल्टी दिशा में बहती है नर्मदा नदी  

narmada river facts story

नदियों की दिशा के विपरीत यह नदी उल्टी दिशा में बहती है और इसकी ये खूबी इसे सभी नदियों से अलग बनाती है। गोदावरी और कृष्णा के बाद नर्मदा तीसरी सबसे लंबी नदी है जो पूरी तरह से भारत के भीतर बहती है। मध्य प्रदेश के लोग पूरी तरह से नर्मदा नदी पर निर्भर हैं। लोग नर्मदा नदी को मध्य प्रदेश की जीवन रेखा मानते हैं। यह भारत की प्रमुख नदियों में से एक है जो ताप्ती और माही के साथ पूर्व से पश्चिम की ओर बहती है। यह मध्य प्रदेश (1,077 किमी), महाराष्ट्र (74 किमी) और गुजरात (161 किमी) राज्यों से होकर बहती है।

इसे जरूर पढ़ें:क्या आप जानते हैं यमुना नदी की उत्त्पति कहां से हुई है, इससे जुड़े कुछ रोचक तथ्य

Recommended Video


नर्मदा से जुड़ी है एक पौराणिक कथा 

नर्मदा नदी से जुड़ी एक पौराणिक कथा के अनुसार यह नदी एक कुंवारी नदी के रूप में प्रचलित है। इसकी पौराणिक कथा के अनुसार सोनभद्र और नर्मदा  दोनों के घर पास थे और अमरकंटक की पहाड़ियों में दोनों का बचपन बीता। दोनों किशोर हुए तो लगाव और बढ़ा हुए एक दूसरे के प्रेम में पड़ गए । दोनों ने साथ जीने की कसमें खाई, लेकिन अचानक दोनों के बीच में नर्मदा की सहेली जुहिला आ गई। सोनभद्र जुहिला के प्रेम में पड़ गया। नर्मदा को यह पता चला तो उन्होंने सोनभद्र को समझाने की कोशिश की, लेकिन सोनभद्र नहीं माना। इससे नाराज होकर नर्मदा दूसरी दिशा में चल पड़ी और हमेशा कुंवारी रहने की कसम खाई। कहा जाता है कि इसलिए सभी प्रमुख नदियां बंगाल की खाड़ी में मिलती हैं,लेकिन नर्मदा अरब सागर में मिलती है। आज भी यह नदी अन्य नदियों से विपरीत दिशा में बहती है जो किसी आश्चर्य से कम नहीं है। (सरस्वती नदी की कहानी)

वास्तव में ये नदी अन्य नदियों की तुलना में कुछ अलग है और अपनी पवित्रता को बनाए हुए है। मान्यता है कि गंगा नदी के जल से स्नान करने से जहां भक्तों के कष्ट दूर होते हैं वहीं नर्मदा  मात्र से पुण्य फल की प्राप्ति होती है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें। इसी तरह के अन्य रोचक लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:  freepik and pixabay