प्राचीन और मध्यकाल में पूर्व-भारत से लेकर पश्चिम-भारत और दक्षिण-भारत से लेकर-उत्तर भारत में कई महल, ईमारत और पैलेस का निर्माण हुआ है, जो आज विश्व विख्यात है। इस मामले में मध्य प्रदेश, राजस्थान जैसे शहर प्रमुख स्थान माने जानते हैं। लेकिन, कश्मीर की वादियों में एक ऐसा भी पैलेस मौजूद है, जिसके बारे में बहुत कम लोग ही जिक्र करते हैं। जिस तरह से उत्तर-भारत में कई मुग़ल शासकों ने अपने शासनकाल में भव्य और खूबसूरत पैलेस का निर्माण करवाया, ठीक उसी तरह जम्मू कश्मीर में भी डोगरा वंश के कई राजाओं ने भी कश्मीर की वादियों में पैलेस का निर्माण करवाया। जी हां, हम बात कर रहे हैं लगभग 150 साल से अधिक पुराने और फेमस 'मुबारक मंडी पैलेस' के बारे में। आज इस लेख में हम आपको इस पैलेस के बारे में कुछ रोचक बातें बताने जा रहे हैं। तो आइए जानते हैं।  

मुबारक मंडी पैलेस का इतिहास 

mubarak mandi palace jammu kashmir inside

इस पैलेस का इतिहास तक़रीबन 150 साल से भी अधिक पुराना है। जिस समय मध्य भारत में मुग़ल शासक दिल्ली, राजस्थान और मध्य प्रदेश में राजशाही महल का निर्माण कराने में लगे थे उसी समय जम्मू कश्मीर में डोंगर वंश के शासक भी जम्मू की वादियों में भी खूबसूरत पैलेस का निर्माण करा रहे थे। डोगरा राजाओं द्वारा शाही निवास के रूप में इस पैलेस का उपयोग किजा जाता था। तवी नदी के किनारे मौजूद होने के चलते उस समय डोगरा शासकों ने लिए यह पैलेस सामरिक रूप से बेहद ही महत्वपूर्ण महल और स्थान था। (भारत के 10 सबसे प्रसिद्ध फोर्ट्स)

इसे भी पढ़ें: बादशाह जहांगीर अपनी पत्नी नूरजहां के साथ घंटों निहारते थे यह झरना

पैलेस के अंदर 

mubarak mandi palace jammu kashmir inside

मध्य काल में इस पैलेस को जम्मू का ताज कहा जाता था। इस पैलेस के अंदर कई छोटे-छोटे परिसर मौजूद है। तक़रीबन 1929 के आसपास तक डोगरा शासकों की व्यापारिक से लेकर राजकीय गतिविधियों का मुख्य केंद्र हुआ करता था। इस महल के अंदर समय के साथ दरबार हॉल, पिंक पैलेस, गोल घर कॉम्पलेक्स, रानी चरक महल, रॉयल कोर्ट बिल्डिंग आदि का निर्माण किया गया जो पर्यटकों के लिए आज आकर्षण का केंद्र है।  (भारत के 10 सबसे प्राचीन और फेमस पैलेस

Recommended Video

36 बार लग चुकी है आग

mubarak mandi palace jammu kashmir inside

कहा जाता है कि डोगरा निवास स्थल के रूप में प्रसिद्ध इस पैलेस में अब तक 36 बार आग लग चुकी है, लेकिन फिर भी इसकी रौनक में कोई नहीं देखी गई। आग लगने के बाद इसे फिर से बना दिया जाता था। हालांकि, आग लगने के पीछे क्या कारण हो सकते थे इसका कोई एक उत्तर नहीं है। कोई कहता है कभी आक्रमण के दौरान, कोई कहता है आपसी मतभेद के कारण भी सो सकते हैं। आग लगने के साथ-साथ साल 1980 और 2005 में भूकंप का भी सामना कर चुका है ये पैलेस।

इसे भी पढ़ें: सिर्फ घूमने के लिए नहीं, इन डिशेज के लिए भी मशहूर है जम्मू कश्मीर और लद्दाख़

अन्य जानकारी 

mubarak mandi palace jammu kashmir inside

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि डोगरा वंश के शासकों के निधन के बाद सरकार ने इसे अपने अधीन कर लिया और कुछ समय के लिए इस महल को सरकारी कार्यालय के रूप में इस्तेमाल किया। इस पैलेस में उच्च न्यायालय और लोकसेवा आयोग आदि सरकारी विभाग शामिल थे। इस परिसर में मौजूद पिंक हॉल को अब संग्रहालय में तब्दील कर दिया गया है। इसे मुबारक मंडी हेरिटेज कॉम्प्लेक्स के नाम से भी जाना जाता है।

यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@images.assettype.com, cdn.s3waas.gov.in)