• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

भारतीय राज्यों की इन मिठाइयों को क्या चखा है आपने?

रसगुल्ला, गुलाब जामुन और रसमलाई जैसी मिठाइयों के अलावा ऐसी कई मिठाइयां हैं, जिनका नाम आपने नहीं सुना होगा।
author-profile
Published -05 Sep 2022, 07:00 ISTUpdated -05 Sep 2022, 07:02 IST
Next
Article
lesser known  sweets of india

हम भारतीय किसी के यहां जाते हैं तो मिठाई का डिब्बा लिए जाते हैं। कहीं से आ रहे हैं तो हाथ में मिठाई का डिब्बा होता है। यह मान लीजिए कि हर खास त्योहार में मिठाई का एक डिब्बा हाथ में होना बेहद जरूरी है। अब जब मिठाइयों की बात हो ही रही है, तो देश भर की लोकप्रिय मिठाइयों की चर्चा तो सभी करते हैं। रसगुल्ले, गुलाब जामुन, गाजर का हलवा, जलेबी, काजू कतली, मिल्क केक आदि के हर क्षेत्र में बहुचर्चित हैं, लेकिन उनका क्या जिनका आपने नाम ही नहीं सुना?

हर राज्य की ऐसी कई मिठाइयां भी हैं जो स्थानीयों के बीच तो खूब पसंद की जाती है, लेकिन उसकी बात क्षेत्र से बाहर किसी ने नहीं की। उदाहरण के लिए मक्खन मलाई ही लीजिए। बहुत कम लोगों को बनारस और लखनऊ के इस स्वादिष्ट खजाने के बारे में पता होगा। दिल्ली की दौलत की चाट के नाम से यह जानी जरूर जाती है, लेकिन इसका अस्तित्व मक्खन मलाई के नाम पर टिका है। 

आज हम आपके साथ ऐसी ही मिठाइयों के बारे में बात करने वाले हैं, जिनके बारे में आपको कम पता हो या शायद बिल्कुल न पता हो... तो चलिए आपके और हमारे राज्यों की कुछ 'कम पहचान'वाली लेकिन लजीज मिठाइयों के बारे में जानें। 

सरभाजा

sarbhaja sweet of kokata

कोलकाता के रसगुल्ले के बारे में हर कोई जानता है, लेकिन इस अल्पज्ञात रत्न के बारे में आपको कितना मालूम है? सरभजा, बंगाली मिठाइयों में से एक है जो अपने अनोखे स्वाद के लिए प्रसिद्ध है। दुर्गा पूजा के दौरान, यह दुर्लभ व्यंजन कोलकाता की कुछ ही दुकानों में उपलब्ध होता है। इसे सिर्फ और सिर्फ कंडेंस्ड मिल्क से बनाया जाता है। इसे सैंडविच की तरह बनाकर पहले घी में तला जाता है और फिर मीठी चाशनी इसमें एक अलग स्वाद जोड़ती है। कभी कोलकाता एक्सप्लोर करने निकलें तो इसे चखना तो बनता है!

सेल रोटी

sel roti sweet of nepal

आपने मीठी रोटी खाई होगी और फैंसी डोनट भी खाया होगा, लेकिन क्या कभी सेल रोटी का मजा लिया है? यह एक पारंपरिक मिठाई है जिसे नेपाल में ज्यादातर दशाइन और तिहार जैसे त्योहार में तैयार किया जाता है। इतना ही नहीं, यह भारत में सिक्किम, कलिम्पोंग और दार्जिलिंग क्षेत्रों में भी खूब पसंद किया जाता है। इसे चावल का कुरकुरा डोनट भी कह सकते हैं। कुछ लोग इसे दही के साथ खाना पसंद करते हैं और कहीं पर इसे चाय या कॉफी के साथ सर्व किया जाता है। 

इसे भी पढ़ें: आपके राज्य में कौन-सी मिठाई फेमस है? खेलें क्विज और दें सही जवाब

पतोली

patoli sweet of goa

हल्दी के पत्ते में चावल की एक लेयर होती है, जिसमें नारियल और गुड़ की स्टफिंग की जाती है। गोवा के मानसून के मौसम में इस स्वीट को तैयार किया जाता है और खूब चाव से खाया जाता है। पौराणिक कथा के अनुसार, यह मिठाई मां पार्वती को उनकी गर्भास्था के दौरान दी गई थी, जब उन्हें मीठा खाने की खूब लालसा हुई थी। इसके बाद से इसे नाग पंचमी, हरतालिका तीज, गणेश चतुर्थी आदि जैसे त्योहारों में मनाया जाने लगा है। 

रसकदम

roskodom sweet of west bengal

बंगाल की एक और मिठाई जो रसगुल्ले से मिलता जुलता है, लेकिन काफी अलग है। यह मिठाई पश्चिम बंगाल के साथ ही ईस्ट-इंडियन स्टेट्स और बांग्लादेश में भी काफी लोकप्रिय है। इसमें रसगुल्ला जैसी छोटी सी बॉली होती है, जो खोया/मावा की एक परत में ढकी होती है। इसकी ऊपरी सतह को खसखस से कोट किया जाता है। यही कारण है कि इसे खोयाकदम भी कहा जाता है। कुछ लोग इसे तरह-तरह के फ्लेवर के साथ बनाते हैं। यह मिठाई त्योहारों पर खासतौर से बनाई जाती है। 

इसे भी पढ़ें: भारत के इन राज्यों की मिठाइयां हैं लाजवाब, एक बार ज़रूर ट्राई करें

इसके अलावा भी ऐसी कई सारी मिठाइयां हैं, जिनके बारे में शायद लोगों को नहीं पता। अगर आपके क्षेत्र की ऐसी कोई मिठाई है, जिसे लोग नहीं जानते तो हमें कमेंट कर उसका नाम और उसके बारे में जरूर बताएं।

हमें उम्मीद है यह जानकारी आपको पसंद आएगी। अगर लेख पसंद आया तो इसे लाइक और शेयर करें। ऐसे ही लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

बेहतर अनुभव करने के लिए HerZindagi मोबाइल ऐप डाउनलोड करें

Her Zindagi
Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।