भारत के मसाले दुनिया भर में जाने जाते हैं। दालचीनी, तेज पत्ता और हल्दी जैसे मसाले खाने का स्वाद बढ़ाने के साथ-साथ आपकी सेहत के लिए भी फायदेमंद होते हैं। इन्हीं मसालों में काली मिर्च भी शामिल है, जिसका इस्तेमाल खाने को बेहद टेस्टी बना देता है।

बता दें कि काली मिर्च का इतिहास बहुत रोचक रहा है। इससे जुड़ी कई ऐसी बाते हैं, जिनके बारे में आपको शायद जानकारी नहीं होगी। आइए जानते हैं काली मिर्च से जुड़ी ऐसी ही कुछ अनसुनी बातों के बारे में-  

केरल में होती है खेती

black pepper interesting facts

पेपरकॉर्न के सूखे हुए फल से काली मिर्च बनती है। यह ज्यादातर बेल में उगती है। आमतौर पर काली मिर्च की खेती दक्षिण भारत में केरल में की जाती है। दुनियाभर में होने वाले मसालों के व्यापार में 20 फीसदी व्यापार काली मिर्च का होता है। यह मसाला विशेष रूप से भारत, वियतनाम, ब्राजील और इंडोनीशिया में उगाया जाता है। युनाइटेड स्टेट्स दुनिया में काली मिर्च का सबसे बड़ा आयातक है। एक अनुमान के मुताबिक अमेरिका दुनिया में होने वाले कुल उत्पादन का 18 फीसदी कंज्यूम करता है। 

इसे जरूर पढ़ें: कितनी तरह की होती हैं जलेबियां, आप भी जानिए

सूखने के बाद रंग हो जाता है काला

काली मिर्च जब पक जाती है, तब इसे पेड़ से तोड़ लिया जाता है और इसके बाद इसे हल्का सा उबाल लिया जाता है। इसके बाद इसे कई दिन तक धूप में सुखाया जाता है। जब काली मिर्च को तोड़ा जाता है, तब ये दिखने में हरी होती हैं, लेकिन सूखने के बाद इनका रंग काला हो जाता है। 

Recommended Video

पेपरीन से काली मिर्च को मिलता है अनूठा स्वाद 

black pepper lesser known facts

काली मिर्च का स्वाद इसके बीच वाले हिस्से में पाए जाने वाले पेपरीन की वजह से अलग होता है। बाजार में सफेद दिखने वाली काली मिर्च भी मिलती है। दरअसल इस इस तरह की मिर्च पर बाहरी काला हिस्सा नहीं होता है। जब काली मिर्च को पीस दिया जाता है तो यह पूरी तरह से काली नहीं होती। इसमें 70 फीसदी हिस्सा काला और 30 फीसदी सफेद होता है। रेस्टोरेंट्स में काली मिर्च का सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। एक अनुमान के अनुसार रेस्टोरेंट्स में 50 फीसदी काली मिर्च की खपत होती है। 

इसे जरूर पढ़ें: टीवी एक्ट्रेस सुचेता खन्ना हेल्दी रहने के लिए घी में पकाती हैं खाना, जानिए उनका डाइट रूटीन

4000 साल पुराना है इतिहास

एक अनुमान के अनुसार काली मिर्च का इस्तेमाल लगभग 4000 सालों से किया जा रहा है। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि 2,500 ईसा पूर्व मिस्र में लोगों को दफनाए जाने के दौरान उनकी कब्रों में काली मिर्च साथ रखी जाती थी। मिडिल एजेज में काली मिर्च बहुत ज्यादा कीमती मानी जाती थी। इस समय में इसे 'काला सोना' भी कहा जाता था। 

'काले सोने' के दीवाने रहे दुनियभर के देश

काली मिर्च की तलाश करते हुए वास्को डिगामा भारत के कालीकट तट पर पहुंचा था। वास्को डिगामा का पीछे करते हुए पुर्तगाली भी भारत आ पहुंचे थे। काली मिर्च के मुनाफे वाले व्यापार पर कब्जा जमाने के लिए उन्होंने किले और कालोनियां बनाई थीं। इसके बाद यहां चीनी, फ्रांसीसी और अंग्रेज भी काली मिर्च के लिए भारत आए थे, क्योंकि यूरोप में इसका इस्तेमाल काफी ज्यादा होता था। उस समय में काली मिर्च को करेंसी के तौर पर भी इस्तेमाल किया जाता था।

औषधीय गुणों से भरपूर है काली मिर्च

काली मिर्च में विटामिन ए और विटामिन सी, दोनों पाए जाते हैं। काली मिर्च के फायदे भी ढेर सारे हैं। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के साथ-साथ यह शरीर को डीटॉक्स करने में भी मदद करती है। काली मिर्च को आमतौर पर ढंककर रखा जाता है, क्योंकि खुला रहने पर इसका स्वाद और खुशबू दोनों ईवेपोरेशन के कारण कम हो जाते हैं। बढ़िया स्वाद के लिए ज्यादातर लोग साबुत काली मिर्च लेते हैं और उसे ताजा पीसकर इस्तेमाल करते हैं। 

अगर आपको काली मिर्च से जुड़ी ये जानकारी अच्छी लगी तो इसे जरूर शेयर करें। फूड और रेसिपीज से जुड़ी लेटेस्ट अपडेट्स पाने के लिए विजिट करती रहें हरजिंदगी। 

image credit- freepik