जब भी हम मुगल साम्राज्य की बात करते हैं, तो सबसे पहले हमारे ज़हन में बादशाह अकबर का ही नाम आता है। क्योंकि अकबर मुगल साम्राज्य का सबसे महान बादशाह था। बता दें कि अकबर का जन्म 15 अक्टूबर 1542 को सिंध के राजपूत किले, अमरकोट में हुआ था। अकबर का पूरा नाम जलालुद्दीन मोहम्मद अकबर था। अकबर मुगल बादशाह का तीसरा बादशाह था, जिसने अपने शासनकाल में कई ऐतिहासिक और सांस्कृतिक कार्य भी किए थे। 

प्राचीन काल से लेकर अब तक भारत में अकबर द्वारा बनवाए गए मकबरे, भवन और किले आज भी मौजूद हैं, जो बेहद खास और खूबसूरत हैं। लेकिन यह बहुत कम लोगों को मालूम होगा कि आगरा में ताजमहल के अलावा एक ऐसा मकबरा भी मौजूद है, जहां अकबर के अवशेषों को दफन किया गया है। अगर आपको इस मकबरे के बारे में मालूम नहीं है, तो यह लेख आपको जरूर पढ़ना चाहिए। 

मकबरे का दिलचस्प इतिहास

history of akbar tomb in hindi

टॉम्ब ऑफ अकबर का निर्माण 17वीं शताब्दी में किया गया था। कहा जाता है कि इस मकबरे का निर्माण खुद बादशाह अकबर ने किया था। लेकिन इसकी संपूर्ण संरचना बादशाह अकबरके बेटे ने पूरी की थी। मकबरे को अकबर का मकबरा या टॉम्ब ऑफ अकबर भी कहा जाता है, जिसे बनने में पूरे 8 साल लगे थे। साथ ही, कहा जाता है कि इस मकबरे में अकबर के अवशेष भी मौजूद हैं, जिसे एक कब्र में दफन किया गया है। 

इसे ज़रूर पढ़ें- मुगल बादशाह अकबर की पहली बेगम के बारे में कितना जानते हैं आप? 

खूबसूरत संरचना से है समृद्ध 

tomb of akbar ()

इस मकबरे की संरचना काफी खूबसूरत और आकर्षित है। क्योंकि यह मकबरा मुगलकालीन वास्तुकला का अनूठा नमूना भी है। (अनारकली का मकबरा) इसकी संरचना 119 एकड़ भूमि में फैली हुई है। इसलिए हर साल इस खूबसूरत मकबरे को देखने हजारों पर्यटक आते हैं। 

बता दें कि मकबरे में स्मारक की दीवारों को कई खूबसूरत डिजाइन और शिलालेखों से सजाया गया है। इस स्मारक में आपको काफी कुछ देखने और समझने का मौका मिलेगा। आप स्मारक के आसपास कई तरह बाग, फूल और गार्डन भी है, जिसे आप देख सकते हैं। अगर आप मुगल प्रेमी हैं, तो इस मकबरे को एक्सप्लोर करना आपके लिए बेस्ट रहेगा। 

क्या है खासियत?

Akbar tomb

यह मकबरा मुगलकालीन की सबसे प्राचीन और ऐतिहासिक स्मारक है। यह स्मारक व्यापक रूप से अपनी खूबसूरत वास्तुकला के लिए जानी जाती है। इसकी खासियत यह भी है कि इसके दरवाजे को बुलंद दरवाजा भी कहा जाता है। क्योंकि यह दरवाजा बेहद खास और आकर्षित है। 

साथ ही, आप मकबरे को घूमने के अलावा, आप आगरा की संस्कृति और फेमस व्यंजनों का भी लुत्फ उठा सकते हैं। यह शहर विश्व भर में अपनी हस्तशिल्प कलाओं और खूबसूरत पर्यटन स्थलों लिए भी जाना जाता है। 

यह रही टिकट की जानकारी 

अगर आप इस मकबरे की सैर करने की सोच रहे हैं, तो पहले आपको टिकट खरीदना पड़ेगा। क्योंकि इस मकबरे को घूमने के लिए भारतीयों लोगों को 20 रुपये, सार्क के नागरिकों को 15 रुपये और विदेशी नागरिकों को 200 रुपये का टिकट खरीदना होगा। हालांकि, बच्चों का कोई प्रवेश शुल्क नहीं है। 

Recommended Video

कहां स्थित है? 

यह खूबसूरत मकबरा आगरा के सिकंदरा में स्थित है और सिकंदरा आगरा से लगभग 4 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। 

इसे ज़रूर पढ़ें- अकबर के शहर फतेहपुर सीकरी के बारे में जानें ये दिलचस्प तथ्य

कैसे जाएं? 

टैक्सी- आगरा का यह स्थान सड़क मार्ग से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है और इस मकबरे में टैक्सी द्वारा आसानी से पहुंचा जा सकता है। 

बस- आगरा में बस सेवाएं आगरा नगर निगम द्वारा प्रदान की जाती हैं। आप बस से आसानी से यहां जा सकते हैं। 

ट्रेन-आगरा एक प्रमुख रेलवे जंक्शन है और इसमें कई रेलवे स्टेशन हैं। इनमें आगरा छावनी रेलवे स्टेशन मुख्य है। आप रेलवे स्टेशन से ऑटो और टैक्सी आसानी से अकबर के मकबरे में घूमने के लिए जा सकते हैं।

इसके अलावा बेहतर होगा कि आप इस मकबरे की सैर करने के लिए अक्टूबर से अप्रैल के बीच में जाएं। क्योंकि गर्मियों में यहां का मौसम बहुत गर्म होता है। आपको लेख पसंद आया हो तो इसे शेयर और लाइक ज़रूर करें, साथ ही, ऐसी अन्य जानकारी पाने के लिए जुड़े रहें हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit- (@Google, Wikipedia)