देश का उत्तरी राज्य, जम्मू भारत के मुकुट में एक अनमोल रत्न के समान है। यहां पर बर्फ से ढके पहाड़ों से लेकर घाटियां पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती है। वैसे जम्मू की प्राकृतिक सुंदरता का तो कोई सानी नहीं है, लेकिन यहां पर मौजूद मंदिरों की भी अपनी एक अलग विशिष्टता है। भारत के इस सबसे उत्तरी राज्य का दौरा करते समय एक आकर्षक दृश्यों और प्रकृति के अलावा कई विशाल मंदिरों को देखा जा सकता है। जम्मू में मौजूद हिंदू मंदिर झीलों, नदियों और बर्फ से ढकी पहाड़ की चोटी से घिरे हैं। जो इसे और भी आकर्षक बनाते हैं। जम्मू के सभी मंदिर एक समृद्ध इतिहास का निर्माण करते हैं और इन शानदार मंदिरों के द्वारा आश्चर्यजनक स्थानों में बेहतरीन शिल्पकारों द्वारा निर्मित और आध्यात्मिक आभा बिखरी हुई है। मंदिरों में उकेरे गए डिजाइन बेहद उत्तम हैं जो कहीं और नहीं देखे जा सकते हैं। यहां प्रत्येक मंदिर या तो आपको अतीत में ले जाएगा या आपको कई पौराणिक घटनाओं के साथ विस्मय में छोड़ देगा। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको जम्मू के कुछ बेहतरीन मंदिरों के बारे में बता रहे हैं-

रणबीरेश्वर मंदिर

 jammu trip inside

रणबीरेश्वर मंदिर जम्मू का एक बेहद प्रसिद्ध मंदिर है। यह भगवान शिव को समर्पित है और जम्मू और कश्मीर सिविल सचिवालय के सामने स्थित है, जो शलमार रोड पर है। इस मंदिर में क्रिस्टल के बारह शिव लिंगम हैं। तत्कालीन राजा द्वारा निर्मित, राजा रणबीर सिंह, जो भगवान शिव के बहुत बड़े भक्त थे, ने मंदिर में साढ़े सात फीट ऊंचे क्रिस्टल लिंगम की स्थापना की। मंदिर की एक और प्रमुख विशेषता यह है कि इसकी तीन दीवारें सोने की बनी हुई हैं। और दो दीवारें गणेश और कार्तिकेय के चित्रों से सजी हैं। नंदी बैल के साथ मंदिर में कई शिव लिंग हैं। स्थानीय लोगों के बीच यह माना जाता है कि बैल के कानों में फुसफुसाए जाने पर आपकी सभी इच्छाएं पूरी होती हैं। 1883 की कला और वास्तुकला को दर्शाते हुए, यह अलग-अलग जंगलों वाली पहाड़ियों का अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करता है।

इसे जरूर पढ़ें: नार्थ-ईस्ट की ये जगहें विंटर वेडिंग डेस्टिनेशन के लिए हैं एकदम शानदार

रघुनाथ मंदिर 

 jammu trip inside

जम्मू में रघुनाथ मंदिर एक बेहद ही महत्वपूर्ण मंदिर है जो विष्णु के आठवें अवतार ’राम’ का है, जिन्हें डोगरा समुदाय का संरक्षक देवता माना जाता है। रघुनाथ मंदिर के पास के क्षेत्र में महाकाव्य रामायण से संबंधित देवी-देवताओं के छोटे मंदिरों का समूह है। रघुनाथ मंदिर का परिसर उत्तर भारत का सबसे बड़ा मंदिर परिसर हैं। इस मंदिर के निर्माण को पूरा होने में 1835 ईस्वी से 1860 ईस्वी तक लगभग 25 साल लग गए। इस मंदिर के सौंदर्य के पीछे प्रमुख वास्तुकार महाराजा गुलाब सिंह और पुत्र महाराजा रणबीर सिंह थे। यह मंदिर जम्मू शहर का केंद्र फतहु चौगान पर स्थित है।

इसे जरूर पढ़ें: क्या आप जानते हैं निधिवन से जुड़ी ये ख़ास बातें, आज भी यहां श्री कृष्ण रचाते हैं रास लीला

वैष्णो देवी मंदिर

 jammu trip inside

यह तिरुपति मंदिर के बाद देश का दूसरा सबसे अधिक देखा जाने वाला मंदिर है। यह मंदिर माता रति या वैष्णवी को समर्पित है, जिन्हें देवी माँ का रूप माना जाता है। तीर्थयात्रियों को 5200 फीट की ऊंचाई पर स्थित तीर्थस्थल तक पैदल जाने की आवश्यकता है। यह जम्मू में सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है। देवी का मंदिर हिमालय पर्वत स्थित एक गुफा में स्थापित किया गया है। इस स्थान तक परिवहन का एकमात्र साधन एक हेलीकाप्टर है। पैदल चलने के अलावा, तीर्थयात्री घोड़े की सवारी का भी सहारा लेते हैं।

Recommended Video

अवंतिपुर मंदिर

 jammu trip inside

अवंतिपुर मंदिर श्रीनगर के दक्षिण-पूर्व दिशा में स्थित है। यह मंदिर उत्तम कलाकृति को दर्शाता है। ऐसा यह माना जाता है कि इसका निर्माण राजा अवंतिवर्मन ने किया था, जो भगवान सूर्य के भक्त थे। इसलिए यह मंदिर भगवान सूर्य को समर्पित किया गया है। इस मंदिर के साथ, दो अन्य छोटे मंदिरों को भी डिजाइन किया गया था। जिसमें एक को भगवान शिव को समर्पित किया गया है, वहीं दूसरे को अवंतीस्वामी मंदिर को समर्पित किया गया है। ग्रीक वास्तुकला के एक प्रदर्शन को दर्शाते हुए, मुख्य मंदिर में असाधारण नक्काशी चित्रित है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: traveltriangle, mouthsut