प्राचीन काल से लेकर मध्यकाल तक देश की राजधानी दिल्ली में एक से एक बेहतरीन फोर्ट, इमारत, महल और भवन का निर्माण हुआ जो आज सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि, विश्व भर में प्रसिद्ध हैं। जैसे- पुरानी दिल्ली में मौजूद लाल किला, जामा मस्जिद, हुमायूं का मकबरा और अग्रसेन की बावली आदि कई बेहतरीन भवन और फोर्ट। लगभग हर कोई इन सभी भवन और फोर्ट्स के बारे में जनता है लेकिन, दिल्ली में एक ऐसा भी भवन का निर्माण हुआ जिसके बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं दिल्ली में मौजूद जहाज महल के बारे में, तो आइए इस महल के बारे में जानते हैं।  

जहाज महल का इतिहास 

history of jahaz mahal in delhi inside

दिल्ली के महरौली में मौजूद यह महल आसपास के इलाकों में बेहद ही फेमस है। इस महल का नाम जहाज महल इसलिए पड़ा क्योंकि, महरौली में हौज-ए-शम्सी पानी यानि इस महल को एक झील के पास बनवाया गया था। इस महल का निर्माण लोदी राजवंश काल में लगभग 1452-1526 के आसपास किया गया था। कहा जाता है कि इस महल का निर्माण खुशी के पल बिताने की धर्मशाला के रूप में किया गया था।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली से लगभग 320 किमी की दूरी पर है खूबसूरत वक्नाघट हिल स्टेशन

महल से जुड़े अन्य तथ्य 

history of jahaz mahal in delhi inside

बहुत कम लोग ही जानते हैं कि बरसात के समय इस महल का प्रतिबिंब हौज-ए-शम्सी के पानी यानि झील में देख सकते हैं। एक अन्य कहानी ये है कि इस महल का निर्माण अफगानिस्तान, अरब, ईरान, इराक, मोरक्को और तुर्की से बड़ी संख्या में तीर्थयात्रियों को आराम करने के लिए निर्माण करवाया गया था। जो भी मुस्लिम तीर्थस्थलों की यात्रा के लिए दिल्ली आते थे वो इसी महल में विश्राम करते थे। (दिल्ली की भुतहा जगहें)

Recommended Video

महल की वास्तुकला

jahaz mahal in delhi inside

खूबसूरती से तराशे गए बलुआ पत्थर के खंभे, छत पर रंग बिरंगी टाइल्स और छतरियां लगी हैं। जिसे देखते ही बनता है। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अक्टूबर में यहां हर साल फूलवालों की सैर उत्सव का भी आयोजन होता है और इस दिन दूर-दूर से लोग घूमने के लिए आते हैं। कई मुस्लिम भक्त इस महल में मौजूद दरगाह पर फूल और चादर चढ़ाने के लिए भी आते हैं। कहा जाता है कि ब्रिटिश काल के दौरान इसे 1942 से कुछ समय के लिए बंद कर दिया गया था, लेकिन 1961 में भारत के पहले प्रधान मंत्री की पहल पर इसे फिर से शुरू किया गया था।   

इसे भी पढ़ें: नागपुर की इन भुतहा जगहों की कहानी है बेहद दिलचस्प

कैसे पहुंचे 

यहां पहुंचने के लिए दिल्ली के किस भी कोने से आराम से पहुंच सकते हैं। आप राजीव चौक से मेट्रो लेकर छतरपुर मेट्रो स्टेशन और यहां से आप ऑटो या कार से घूमने के लिए जा सकते हैं। इसकेअलावा दिल्ली के मुनिरका से बस नंबर 534 पकड़कर भी घूमने के लिए जा सकते हैं। यहां घूमने के साथ-साथ एक से एक बेहतरीन स्ट्रीट फूड्स का भी लुत्फ़ उठा सकते हैं।

अगर आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ। 

Image Credit:(@live.staticflickr.com,thedelhiwalla.com)