• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

यह विश्व प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थल बिहार के लिए क्यों रखता है खास पहचान, आप भी जानें

इस लेख में हम आपको लगभग 200 साल से अधिक प्राचीन स्थल के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके बारे में आप भी ज़रूर जानना चाहेंगे।   
author-profile
Published -25 Jul 2022, 17:24 ISTUpdated -25 Jul 2022, 19:47 IST
Next
Article
history of golghar bihar

देश का बिहार राज्य किसी एक चीज के लिए नहीं बल्कि कई चीजों के लिए पूरे भारत में फेमस है। बिहार का नाम जिस तरह से लिट्टी-चोखा से जुड़ा हुआ है ठीक उसी तरह भगवान गौतम बुद्ध से भी जुड़ा हुआ है। इस राज्य का इतिहास आज भी लोगों को जानने पर मजबूर कर देता है। बिहार में मौजूद कई ऐतिहासिक स्थल आज भी विश्व स्तर पर प्रसिद्ध है। इन्हीं में से एक है बिहार की राजधानी यानी पटना में मौजूद 'गोलघर'। इस विश्व प्रसिद्ध स्थल के बारे में कहा जाता है कि इसका जिक्र किए बिना बिहार का इतिहास अधूरा ही रहता है। ऐसे में इस लेख में हम आपको पटना में स्थित इस विश्व प्रसिद्ध गोलघर के बारे में बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं।

गोलघर का कब निर्माण हुआ था?

who built patna golghar in hindi

इस विश्व प्रसिद्ध गोल घर का निर्माण तब के गवर्नर जनरल वारेन हेस्टिंग्स ने गोलघर के निर्माण की योजना बनाई थी। इस ऐतिहासिक गोलघर का निर्माण लगभग 20 जनवरी 1784 को शुरू हुआ था और इसका कार्य लगभग 20 जुलाई 1786 के आसपास संपन्न हुआ था। कहा जाता है कि यह ऐतिहासिक गोलघर लगभग 235 साल प्राचीन हो चुका है और आज भी संरक्षित है।

इसे भी पढ़ें: कोसी नदी के उद्गम स्थल और इससे जुड़े रोचक तथ्यों के बारे में जानें

गोलघर बनाने का उद्देश्य क्या था?  

know all about golghar in bihar

गोलघर को क्यों बनवाया गया था इसके पीछे बेहद ही दिलचस्प कहानी है। कहा जाता है कि लगभग 1770 के आसपास बिहार राज्य भयंकर सूखे के दौर से गुजर रहा था। इस भयंकर सूखे में लगभग करोड़ों लोग भुखमरी के शिकार हुए थे। करोड़ों लोग शहर को छोड़कर चले भी गए थे। इस भयानक दौर के बाद उस समय के गवर्नर जनरल वारेन हेस्टिंग ने गोलघर के निर्माण की योजना बनाई ताकि अनाज को स्टोर कर जा सकें। (दिल्ली में 1 नहीं बल्कि 2 कुतुब मीनार है?)

Recommended Video

गोलघर की क्या विशेषता?      

about golghar

कहा जाता है कि गोलघर की मजबूती आज भी कायम है। गोलघर की ऊंचाई लगभग 29 मीटर और इसका आकार लगभग 125 मीटर है। कहा जाता है कि गोलघर की दीवार का आधार लगभग 3.6 मीटर चौड़ी है। लगभग 145 सीढियों के सहारे आप इसके उपरी सिरे पर जा सकते हैं जहां से शहर का एक बड़ा हिस्सा देखा जा देख सकते हैं। कहा जाता है कि उस समय इस गोलघर में लगभग 1,37,000 टन अनाज स्टोर करने की क्षमता थी।  

इसे भी पढ़ें: ये हैं भारत की सबसे महंगी जगहें, ज़रा सोच समझकर यहां जाने का बनाएं प्लान

गोलघर कहां स्थित है और कैसे पहुंचें?

patna golghar hindi

यहां आप बहुत आसानी से पहुंच सकते हैं। देश के लगभग सही राज्य से पटना शहर जुड़ा हुआ है। ऐसे में आप ट्रेन से पटना रेलवे स्टेशन पहुंचकर यहां से टैक्सी और कैब लेकर जा सकते हैं। रेलवे स्टेशन से गोलघर बहुत पास में है। हवाई यात्रा के द्वार भी यहां आप पहुंच सकते हैं। ऐपोर्ट से लोकल टैक्सी या कैब लेकर पहुंच सकते हैं। आपको बता दें कि यह फेमस स्थान गांधी मैदान में मौजूद है। (बिहार में घूमने की जगह)

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे लाइक, शेयर और कमेंट्स ज़रूर करें। इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit:(@sutterstocks,bihar.gov)

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।