कारगिल जिले में लद्दाख से लगभग 105 किलोमीटर दूर स्थित है बेहद खुबसूरत ज़ंस्कार घाटी। जन्‍नत का अहसास करवाती ज़ंस्कार घाटी बर्फ से ढके पहाड़ों और स्वच्छ नदियों से सजी है। 'ज़हर या ज़ंगस्कर' जैसे स्थानीय नामों से जानी जाने वाली ज़ंस्कार घाटी द टेथिस हिमालय का एक हिस्सा है। ज़ंस्कार घाटी समुद्र तल से लगभग 13,154 की ऊंचाई पर बसी है। अगर इसके क्षेत्रफल की बात करें तो यह लगभग पांच हजार वर्ग किलोमीटर में फैली है। ऊंचे-ऊंचे बर्फिले पहाड़ों से ढकी यह घाटी अपनी खुबसूरती के लिए फेमस है, जो यहां एक बार घूमने जाता है वह अपना दिल वहीं छोड़ आता है। यह घाटी उन लोगों को ज्‍यादा आकर्षित करती है जो 'ट्रेकिंग' और 'रिवर राफ्टिंग' करना पसंद करते हैं। ज़ंस्कार घाटी उन पर्यटकों का खुले दिल से स्‍वागत करती है जो रोमांच पसंद करते हैं। यह उत्साही यात्रियों के घूमने लिए सबसे रोमांचक स्थानों में से एक है। तो चलिए जानते हैं इस घाटी के बारे में कुछ बातें।

zanskar valley inside

इसे जरूर पढ़ें: विदेश में भी स्थित हैं कई प्रसिद्ध मंदिर, जानें इनके बारे में

ज़ंस्कार घाटी के इतिहास के बारे में जानें

माना जाता है कि सातवीं शताब्दी में लद्दाख में ग्रेट लामा सोंगत्सेन गम्पो ने बौद्ध धर्म की शुरुआत की थी और इसका प्रभाव जल्द ही ज़ंस्कार घाटी पर दिखने लगा। उस दौरान अलगाव के कारण ज़ंस्कार क्षेत्र बौद्ध का भक्ति स्थल बना हुआ था, जबकि ज़ंस्कार से सटे कश्मीर का बड़ा हिस्सा इस्लाम में बदल गया था। स्वतंत्रता के बाद आंतरिक संघर्षों के कारण इस घाटी को लद्दाख (सितंबर में क्‍यों जाएं लद्दाख) से अलग कर दिया गया था। लेकिन लद्दाख और ज़ंस्कार घाटी के राजा एक ही परिवार के थे, इसलिए उन्‍होंने शांति वार्ता की और 1842 में लद्दाख और ज़ंस्कार जम्मू और कश्मीर का एक हिस्सा बन गए।

know about zanskar valley in leh and ladakh inside

चादर ट्रैक के बारे में जानें

चादर ट्रैक लेह-लद्दाख (लेह के सफर से जुड़ी जरूरी बातें) के सबसे कठिन और सबसे खतरनाक ट्रेक में से एक है, जो ज़ंस्कार घाटी का सबसे प्रमुख आकर्षण है। चादर फ्रोजन रिवर ट्रेक दूसरे ट्रेकिंग वाली जगहों से बिल्‍कुल अलग है। इस ट्रैक को चादर ट्रैक इसलिए कहा जाता है, क्योंकि ज़ंस्कार नदी सर्दियों के दौरान बर्फ की सफेद चादर में बदल जाती है।

Recommended Video

घाटी के आसपास के पर्यटक स्थल

लेह-लद्दाख (लद्दाख जाए तो Ice Cafe जाना ना भूलें) में ज़ंस्कार घाटी के अलावा भी कई अन्य फेमस पर्यटक स्थल मौजूद हैं, जैसे- हेमिस मठ, पैंगोंग झील, शांग गोम्पा, गोत्संग गोम्पा, खर्दुंग ला पास, लेह पैलेस, गुरुद्वारा पत्थर साहिब, त्सो मोरीरी झील,चादर ट्रैक, फुगताल मठ, शांति स्तूप, ज़ंस्कार घाटी की यात्रा के दौरान इन्‍हें देखे बिना वापस ना आएं।

ज़ंस्कार घाटी में जंगली जानवरों की अनोखी प्रजाति

ज़ंस्कार घाटी में भालू, स्नो लेपर्ड, और मर्मोट जैसे जंगली जानवरों की विभिन्न प्रजातियां पाई जाती हैं। इनके अलावा यहां डोज़ो, याक, भेड़ और घोड़े जैसे पालतू जानवरों को भी देखा जा सकता है।

some info about zanskar valley in leh and ladakh inside

घाटी घूमने के लिए सबसे अच्छा समय

ज़ंस्कार घाटी घूमने के लिए सबसे अच्‍छा समय जून से सितंबर का महीना होता है और इस दौरान यह जगह बेहद खूबसूरत लगती है। वहीं, सर्दियों के दौरान ज़ंस्कार घाटी नहीं जाने की सलाह दी जाती है, क्योंकि इस मौसम में यहां भारी बर्फबारी होती है और तापमान में काफी गिरावट आ जाती है। सड़कें भी अवरुद्ध रहती हैं।

zanskar valley in leh and ladakh inside

ज़ंस्कार घाटी जाने के लिए टिप्स

  • अगर आप ज़ंस्कार घाटी घूमने जाएं तो अपने साथ कुछ सेफ्टी किट और प्राथमिक चिकित्सा किट जरूर रखें।
  • इस घाटी में सीमित नेटवर्क कनेक्टिविटी है, जिससे नेटवर्किग में परेशानी हो सकती है। इसलिए इस बात को ध्‍यान में रखते हुए यहां जाएं।
  • अगर आप बाइक से ज़ंस्कार घूमने जा रही हैं तो आपको बता दें कि इस घाटी का निकटतम पेट्रोल पंप श्रीनगर और कारगिल रोड पर स्थित है।

some information about zanskar valley in leh and ladakh inside

इसे जरूर पढ़ें: इन 5 फेमस बौद्ध मठों के बारे में जानें, क्या है इनमें ख़ास

यह घाटी सड़क मार्ग से लेह और जम्मू कश्मीर के दूसरे शहरों से अच्छी तरह से जुड़ी हुआ है और नियमित बस सेवाएं भी उपलब्‍ध हैं। लेकिन आपको बता दें कि इस घाटी के लिए कोई फ्लाइट या ट्रेन उपलब्‍ध नहीं है। अगर आपको ये जानकारी अच्छी लगी तो जुड़ी रहिए हमारे साथ। इस तरह की और जानकारी पाने के लिए पढ़ती रहिए हरजिंदगी।