आप रेल की सवारी तो करते ही होंगे। क्या कभी ख्याल आया है कि किस देश का रेलवे नेटवर्क कैसा होगा? कितना लंबा होगा? क्या इन देशों में भारत का नाम है और भारत कौन से नंबर पर है? अगर नहीं, तो इस आर्टिकल में हम आपको यही बताने जा रहे हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि भारत का नंबर चौथा है। आइए जानें अन्य देश जिनके रेलवे नेटवर्क बहुत लंबे हैं।

यूनाइटेड स्टेट्स अमेरिका : 250,000 किमी

america has longest railway network

250,000 किमी से अधिक के परिचालन मार्ग के साथ यूएस रेल नेटवर्क, दुनिया में सबसे बड़ा है। देश के कुल रेल नेटवर्क में फ्रेट लाइनें लगभग 80 प्रतिशत हैं, जबकि कुल यात्री नेटवर्क लगभग 35,000 किमी तक फैला है। यूएस फ्रेट रेल नेटवर्क में निजी संगठनों द्वारा संचालित 538 रेलमार्ग शामिल हैं। यूनियन पैसिफिक रेलरोड और बीएनएसएफ रेलवे दुनिया के सबसे बड़े फ्रेट रेलरोड नेटवर्क में से हैं।

चाइना : 100,000 किमी

चीन का रेल नेटवर्क, जिसकी लंबाई 100,000 किमी से अधिक है, दुनिया के दूसरे सबसे बड़े रेल नेटवर्क के रूप में शुमार है। राज्य के स्वामित्व वाली चीन रेलवे निगम द्वारा संचालित इस नेटवर्क ने 2013 में 2.08 अरब यात्रियों के साथ यात्रा की थी। चीन में रेल परिवहन का प्रमुख साधन है। वहीं, देश का कुल रेल नेटवर्क 2050 तक 270,000 किमी से अधिक होने का लक्ष्य है।

रूस: 85,500 किमी

longest railway network russia

रूस का पूरा नेटवर्क, राज्य के स्वामित्व वाली एकाधिकार रूसी रेलवे (RZD) द्वारा संचालित, 85,500km से अधिक तक चलता है। 2013 में, नेटवर्क ने 1.08 अरब यात्रियों और 1.2 अरब टन माल की ढुलाई की थी, जो अमेरिका और चीन के बाद तीसरा सबसे बड़ा वॉल्यूम था।

भारत: 65,000 किमी

भारतीय राष्ट्रव्यापी रेल नेटवर्क, दुनिया में चौथा सबसे लंबा, राज्य के स्वामित्व वाली भारतीय रेलवे से संचालित है और इसमें 65,000 किमी से अधिक की परिचालन मार्ग लंबाई शामिल है। नेटवर्क ने 2013 में लगभग आठ अरब यात्रियों और 1.01 मिलियन टन माल ढुलाई की थी।

कनाडा: 48,000 किमी

longest railway network canada

कनाडा की 48,000 किमी लंबी रेल लाइनें इसके राष्ट्रीय नेटवर्क को दुनिया का पांचवां सबसे लंबा नेटवर्क बनाती हैं। कैनेडियन नेशनल रेलवे (सीएन) और कैनेडियन पैसिफिक रेलवे (सीपीआर) देश में संचालित दो प्रमुख फ्रेट रेल नेटवर्क हैं, जबकि वाया रेल 12,500 किमी इंटरसिटी यात्री रेल सेवा संचालित करती है।

जर्मनी: 41,000 किमी

जर्मन रेलवे नेटवर्क में 2013 के मध्य तक 1,300 किमी से अधिक हाई-स्पीड रेलवे ट्रैक चालू था और निर्माणाधीन 400 किमी से अधिक नई हाई-स्पीड लाइन थी। जर्मनी की 41,000 किमी लंबी रेल लाइनें इसके राष्ट्रीय नेटवर्क को दुनिया का छठा सबसे लंबा नेटवर्क बनाती हैं।

ऑस्ट्रेलिया: 40,000 किमी

australia has seventh longest railway network

ऑस्ट्रेलियाई रेलवे नेटवर्क दुनिया का सातवां सबसे लंबा 40,000 किमी से अधिक लंबा है। अधिकांश रेलवे नेटवर्क बुनियादी ढांचे का स्वामित्व और रखरखाव ऑस्ट्रेलियाई सरकार द्वारा संघीय या राज्य स्तर पर किया जाता है। हालांकि, नेटवर्क पर अधिकांश ट्रेनें निजी कंपनियों द्वारा संचालित की जाती हैं। 

इसे भी पढ़ें :ट्रेन में चलने के बदल गए हैं नियम, आप भी जानिए

अर्जेंटीना: 36,000 किमी

अर्जेंटीना का वर्तमान रेल नेटवर्क 36, 000 किमी से अधिक लंबाई में फैला हुआ है, जो दुनिया में आठवां सबसे बड़ा है। द्वितीय विश्व युद्ध के अंत में अर्जेंटीना में लगभग 47,000 किमी का रेल नेटवर्क हुआ करता था, जो ज्यादातर ब्रिटिश और फ्रांसीसी स्वामित्व वाली रेलवे कंपनियों द्वारा संचालित होता था। लेकिन मुनाफे में गिरावट और बाद के दशकों में राजमार्ग निर्माण की वृद्धि ने नेटवर्क को 36,000 किमी लाइन तक कम कर दिया जो आज मौजूद है।

इसे भी पढ़ें :सिर्फ 10 रुपये में IRCTC की हेरिटेज ट्रेन के सफर का मजा लीजिए

फ्रांस:29,000 किमी

france has ninth longest railway network

29,000 किमी पर, फ्रांसीसी रेलवे नेटवर्क यूरोप में दूसरा सबसे बड़ा और दुनिया में नौवां सबसे बड़ा है। फ्रांसीसी रेलवे नेटवर्क मुख्य रूप से यात्री-केंद्रित है और देश की 50 प्रतिशत से अधिक लाइन इल्केट्रिफाइड हैं।

Recommended Video

ब्राजील: 28,000 किमी

ब्राजील में पहली रेलवे लाइन 1984 में चालू हुई। 1957 में रेड फेरोविएरिया फेडरल सोसाइडेड एनीमा (आरएफएफएसए) के निर्माण के साथ रेलवे नेटवर्क का राष्ट्रीयकरण किया गया था। 2007 तक देश के रेलवे नेटवर्क को कई निजी और सार्वजनिक ऑपरेटरों द्वारा संचालित करने के लिए विभिन्न सेवाओं में विभाजित किया गया था। 28,000 किमी का नेटवर्क मुख्य रूप से माल-केंद्रित है।

देखा आपने ये हैं वो 10 देश,जिनका रेलवे नेटवर्क लंबा है। आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें। ऐसे अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

Image Credit:wikipedia, railway-technology,climatebonds,patnabeats,railjournal,euspa.europa