उत्तराखंड की खूबसूरती बहुत अनोखी है। यहां काफी कुछ है देखने के लिए। यहां के पहाड़ों में कई सारी कहानियां अलग-अलग मौजूद हैं। कई के बारे में पता होता है तो कई के बारे में नहीं। उत्तराखंड में खूबसूरती है और साथ ही साथ कई सारे किस्से भी। क्या आप उत्तराखंड की कुछ भुतहा जगहों के बारे में जानती हैं? ये वो जगह हैं जहां रात में तो छोड़िए कई लोग दिन में जाने से भी डरते हैं। यहां तो बाकायदा सरकार भी इन जगहों को Ghost tourism के तौर पर प्रमोट करती है।  

किसी जगह के पास किसी का खून हुआ है तो किसी के पास कब्रस्तान है, तो कई तो बाकायदा पुराने जमाने से ही भुतहा करार दे दी गई हैं। अगर आपने इन उत्तराखंड टूरिस्ट स्पॉट के बारे में नहीं सुना तो चलिए बताते हैं आपको इनके बारे में।  

इसे जरूर पढ़ें- Gully Boy: क्या ऑस्कर में 'अपना टाइम आएगा'? सोशल मीडिया पर लोग दे रहे ऐसे रिएक्शन 

1. लंबी देहर माइन (Lambi Dehar Mines) 

ये खदानें मसूरी के पास स्थित हैं। फिलहाल यहां कोई काम नहीं होता। जगह बहुत खूबसूरत है और कई बार यहां लोग तस्वीरें खिंचवाने भी आते हैं। पर ये खूबसूरत जगह भुतहा भी है। 1990 के दशक में यहां काम करने वाले मजदूर बीमार होने लगे। धीरे-धीरे ये बढ़ता गया और करीब 50 हज़ार लोग बीमार पढ़ने लगे और मरने लगे। इसके बाद माइन बंद हो गई और 1500 लोग उस गांव को छोड़कर चले गए। तब से ये जगह भुतहा घोषित हो गई। 

auli uttarakhand

2. मुलीनगर मैनशन (Mullingar Mansion)

हर किसी को ब्रिटिश कोलोनल पीरियड याद होगा। उस समय 1825 में मुलीनगर मैनशन पहला घर था जो वहां बना था। किसी को नहीं पता कि इस घर के मालिक का क्या हुआ और क्यों ये घर अकेला हो गया। गांव वालों का कहना है कि यहां अजीब हरकतें होती हैं। लोककथाओं के अनुसार इस घर के पहले मालिक कैप्टन यंग का भूत अभी भी यहां घूमता है। इसे अब बहुत शांत जगह माना जाता है और अभी भी कई लोग इसे पिकनिक स्पॉट की तरह देखते हैं। पर क्या भरोसा किसी को कोई भूत दिख जाए तो। 

3. परी टिब्बा (Pari Tibba)

परी टिब्बा या Hill of fairies एक ऐसी जगह है जहां घने जंगल हैं। इस जगह को इतना लोकप्रिय इसलिए बना दिया गया क्योंकि ये जगह रस्किन बॉन्ड की कई किताबों में आई है। साथ ही यहां काफी सुनसान अंधेरा होता है और कई बार बिजली गिर चुकी है। कई कहते हैं कि ये प्रकृतिक है और कई कहते हैं कि इन जंगलों में कुछ है और इसलिए यहां पर इतनी बिजली गिरती है। आधे जले हुए पेड़, घना जंगल और कई कहानियां। लोग कहते हैं कि एक जोड़े पर यहां बिजली गिर गई थी और वो जिंदा जल गए थे। लोगों का ये भी दावा है कि उन्होंने यहां पर परियों को देखा है। 

places to visit in uttarakhand in summer

4. सिवॉय होटल (Savoy Hotel)

एक समय पर मसूरी का सबसे क्लासी होटल 1902 को बना था। यहां राजा-महाराजा रहा करते थे, नेता रहते थे और यहां तक कि जवाहर लाल नेहरू को भी इस जगह से प्यार था। 1911 में 49 साल की एक ब्रिटिश महिला यहां आई। वो महिला भूतों पर खोजबीन करती थी। अपने मंगेतर की मौत के बाद वो उससे बाद करना चाहती थीं। उनकी संदिग्ध हालत में मौत हो गई। बाद में पता चला उन्हें जहर दिया गया था। उसके बाद से ही ये माना जाने लगा कि उस महिला का भूत यहां के हर कमरे में जाता है और अपने कातिल को ढूंढता है। 

uttarakhand haunted places

इसे जरूर पढ़ें- अगर करनी है Switzerland Trip तो ध्यान रखें ये बातें

5. हॉन्टेड हाउस- लोहघाट (Haunted House- Lohaghat )

लोहघाट की चंपावत डिस्ट्रिक्ट में एक अजीब सा माहौल रहता है। यहां एक पुराना घर है जिसे भुतहा माना जाता है। ये कभी एक खुशहाल जोड़े का घर हुआ करता था। फिर इसे अस्पताल बना दिया गया जो बहुत ज्यादा चलता था। पर एक बार एक डॉक्टर आया जो लोगों को उनकी मृत्यु से जुड़ी सलाह दिया करता था। डॉक्टर की कहानी प्रसिद्ध हो गई और लोग डॉक्टरी सलाह लेने आने लगे। जिस भी मरीज की मृत्यु की तारीख ज्यादा पास में बताई जाती उससे कहा जाता कि वो मुक्ति कोठरी (एक खास रूम) में शिफ्ट हो जाए, लेकिन बाद में लोगों को लगा कि उस कोठरी में डॉक्टर खुद ही मरीज़ों की हत्या करता है। इसके बाद से इस जगह को भुतहा करार दे दिया गया।