जो भी यात्री जयपुर घूमने जाता है, वह सिटी पैलेस और हवा महल के अलावा जंतर-मंतर भी अवश्य देखता है। यह जयपुर में देखने की सबसे प्रसिद्ध जगहों में से एक है, जिसे सिर्फ स्थानीय या भारतीय ही नहीं, विदेशी नागरिक भी देखना पसंद करते हैं। महाराजा सवाई जय सिंह द्वारा  निर्मित जंतर-मंतर अपने आप में एक अजूबा है। यह सिर्फ भारत ही नहीं, दुनिया में सबसे बड़ा पत्थर से निर्मित एस्ट्रोनॉमिकल ऑब्ज़र्वेट्री है। इसका अपना एक ऐतिहासिक महत्व तो है ही, साथ ही इसका अपना एक आकर्षण है और इसके पीछे का कारण है इससे जुड़ी रोचक जानकारियां। हो सकता है कि आपने कई बार जंतर-मंतर को देखा हो लेकिन आप अभी तक इससे जुड़े इंटरस्टिंग फैक्ट्स से अनजान हों। तो चलिए आज हम आपको जयपुर के जंतर-मंतर से जुड़े कुछ मजेदार फैक्ट्स के बारे में बता रहे हैं-

5 ऑब्ज़र्वेट्रीज में से है एक

inside   Jantar Mantar histroy

जयपुर में जंतर मंतर महाराजा सवाई जय सिंह द्वारा निर्मित पांच ऑब्ज़र्वेट्रीज में से एक है, जो जयपुर के संस्थापक और एक बेहतरीन एस्ट्रोनोमर भी थे। 18वीं शताब्दी की शुरुआत के दौरान, उन्होंने भारत में नई दिल्ली, मथुरा, जयपुर, वाराणसी और उज्जैन में 5 जंतर मंतरों का निर्माण किया। जिनमें जयपुर की ऑब्ज़र्वेट्री पांच ऑब्ज़र्वेट्रीज में सबसे बड़ी और सबसे अच्छी संरक्षित है। जंतर मंतर जयपुर को दिल्ली की ऑब्ज़र्वेट्री के आधार पर बनाया गया है।

एक यूनेस्को साइट

inside  light

जंतर मंतर यूनेस्को द्वारा लिस्टेड वर्ल्ड हेरिटेज साइट्स में से एक है। जंतर-मंतर अपने नाम को सार्थक करता है। जंतर का अर्थ है “यंत्र“ और मंतर का अर्थ है “सूत्र“ या “गणना“, इसलिए जंतर मंतर का सामूहिक अर्थ है ’गणना यंत्र। जयपुर का जंतर मंतर पुराने शहर में सिटी पैलेस और हवा महल के बीच स्थित है।

इसे ज़रूर पढ़ें- इन संग्रहालयों में छिपा है राजस्थान का सम्पूर्ण इतिहास

जंतर मंतर का उद्देश्य

inside  inside   Jantar Mantar

जंतर मंतर का निर्माण समय और स्थान का अध्ययन करने के लिए किया गया था। जयपुर की यह रचना उन्नीस आर्किटेक्चरल एस्ट्रोनॉमिकल इंस्ट्रूमेंट का एक परिसर है जो अभी भी संचालन में हैं और इसका इस्तेमाल अभी भी गणना और शिक्षण के लिए किया जाता है। इसका उपयोग सूर्य के चारों ओर कक्षाओं का निरीक्षण और अध्ययन करने के लिए किया जाता है। यहां की कुछ रचनाएं पत्थर, संगमरमर और तांबे से बनी हैं। वहीं उन्नीस इंस्ट्रूमेंट में से कुछ चक्र यंत्र, दक्षिण भित्ति यंत्र, दिगंशा यंत्र, दिशा यंत्र, कनाली यंत्र और पलभा यंत्र आदि हैं।

Recommended Video

विश्व की सबसे बड़ी पत्थर की सन क्लॉक

inside  inside   Jantar Mantar histroy

जयपुर के जंतर मंतर की एक खासियत यह भी है कि यह दुनिया की सबसे बड़ी पत्थर की सूर्य घड़ी है जिसे वृहत सम्राट यंत्र कहा जाता है। यह रचना लगभग 27 मीटर ऊंची है। इस विशाल सम्राट यंत्र के निर्माण के पीछे का कारण इसकी सटीकता है। दरअसल, एक छोटा उपकरण सटीक समय बताने में विफल रहा, इसलिए उपकरण के आकार को बढ़ाने का एकमात्र विकल्प बचा था। जिसके बाद इस सन क्लॉक का निर्माण किया गया।

इसे ज़रूर पढ़ें-इन देशों ने भारत को कुछ समय के लिए कर दिया है बैन, जानें क्या है इसके पीछे की वजह!

 

यहां घूमने का है अलग आनंद

inside  jantar mantar tips

यूं तो जयपुर में जंतर मंतर को देखना यकीनन एक अविस्मरणीय अनुभव है। लेकिन अगर आप यहां है तो आपको यहां एक कलेक्टिव टिकट मिलती हैं, जिसकी मदद से आप जंतर मंतर के अलावा हवा महल, नाहरगढ़ किला, आमेर का किला और अल्बर्ट हॉल संग्रहालय भी देख सकते हैं। वहीं अगर आप जंतर मंतर के बारे में अधिक गहन जानकरी प्राप्त करना चाहती हैं तो ऐसे में आप जंतर मंतर पर अधिक शुल्क देकर कई भाषाओं में ऑडियो गाइड व सहायता प्राप्त कर सकती हैं।  

अभी कोरोना संक्रमण के कारण यहां घूमना संभव ना हो लेकिन एक बार स्थिति सामान्य हो जाने के बाद आप इस अद्भुत जगह पर एक बार जरूर जाएं। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image credit- freepik and travel websites.