जरा सोचिये सुबह के 3 बजे जब चारों तरफ घना अंधेरा छाया हुआ हो और आप गहरी नींद में हों, या फिर अगर जग भी रहे हों तब सुबह होने के इंतज़ार में घड़ी ताक रहे हों और खिड़की से सूरज निकलने का इंतज़ार कर रहे हों, उस समय अपने ही देश का एक छोटा सा शहर और घाटी सूरज का बाहें फैलाए स्वागत कर रही हो। सुनने में थोड़ा आश्चर्य लग रहा है न, लेकिन ये सच है कि भारत के अरुणाचल प्रदेश में एक ऐसी जगह है जहां सूरज की किरण सबसे पहले पड़ती है और वहां के स्थानीय लोग उस जगह का सूर्योदय के साथ भरपूर आनंद उठाते हैं। 

वैसे तो अरुणाचल प्रदेश को ही उगते सूरज की भूमि के नाम से जाना जाता है क्योंकि सूरज अपनी किरण सबसे पहले यहीं बिखेरता है। लेकिन अरुणाचल की डोंग वैली ऐसी जगह है जहां सूरज की पहली किरण सबसे पहले पड़ती है। आइए जानें इससे जुड़ी कुछ ख़ास बातें। 

कहां स्थित है डोंग वैली 

dong valley arunachal

अरुणाचल प्रदेश के अंजाव जिले में स्थित डोंग गाँव भारत-चीन सीमा के पास 47070 फीट की ऊँचाई पर स्थित है। समुद्र तल से 1,240 मीटर की ऊंचाई पर, डोंग लोहित, ब्रह्मपुत्र और सती की सहायक नदियों के संगम पर स्थित है और चीन और म्यांमार के बीच रणनीतिक रूप से सैंडविच है। 1999 में, यह पता चला कि अरुणाचल प्रदेश में डोंग, जो भारत में सबसे पूर्वी स्थान भी है, देश के पहले सूर्योदय का अनुभव करता है। अर्थात भारत का सबसे पूर्वी भाग होने की वजह से सूरज की पहली किरण यहीं पड़ती है। डोंग वैली लोहित और सती नदियों का संगम एक शानदार दृश्य प्रस्तुत करता है। इन्हें देखकर ऐसा प्रतीत होता है मानो दो प्राचीन नदियाँ एक साथ एक दूसरे के साथ विलीन हो रही हैं जो भव्य पहाड़ों और मेघों के बादल की पृष्ठभूमि में स्थित हैं!

कब होता है सूर्योदय 

sun rise

यदि आप भारतीय क्षेत्र पर पड़ने वाली सूर्य की पहली किरणों की एक झलक देखना चाहते हैं, तो पहाड़ों में ऊपर डोंग क्रॉन्ग नामक जगह पर एक ट्रेक है। गाँव से वहाँ तक पहुँचने का एकमात्र रास्ता ट्रेकिंग है, यह दृश्य वास्तव में आपके जीवन में देखे गए सर्वोत्तम दृश्यों से कम नहीं है! यात्री डोंग क्रॉन्ग में हरे-भरे, धुंध भरे घास के मैदानों पर सुबह 3 बजे से सूर्योदय का नजारा देखते हैं, जो मुख्य शहर में हर दिन सुबह 4:30 बजे दिखाई देता है। डोंग वैली को उगते सूरज की भूमि के नाम से जाना जाता है। डोंग में, सूरज औसतन सुबह 4 .30 बजे उगता है और सर्दियों के मौसम के दौरान शाम 4.30 बजे सेट होता है, जो देश के अन्य स्थानों से लगभग एक घंटे पहले है। सूरज की पहली किरणों को पकड़ने के लिए आप रात भर पठार पर डेरा डाल सकते हैं और सूर्योदय की प्रतीक्षा कर सकते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि अपने साथ एक गाइड को जरूर रखें जिसके बिना डॉन्ग पठार के लिए अपना रास्ता खोजना असंभव हो सकता है।

डोंग में घूमने की जगहें 

प्राकृतिक हॉट स्प्रिंग्स

dong valley scene

यह लोहित नदी के पश्चिमी तट के ठीक नीचे स्थित है, यहां आपको एक गर्म पानी का झरना मिलेगा जो कि भूमिगत ज्वालामुखी गतिविधि से गर्म होता है। एक बार जब आप नदी के किनारे पर चलते हैं, तो आपको क्रिस्टल-क्लीयर वाटर के छोटे-छोटे पूल मिलेंगे। ये हॉट स्प्रिंग्स हैं जो स्नान करने के लिए काफी बड़े नहीं हैं, लेकिन आप कुछ समय के लिए इसमें अपने पैरों को डुबोने का आनंद जरूर ले सकते हैं!

इसे जरूर पढ़ें:लखनऊ के करीब यह पांच हिल स्टेशन है बेहद खूबसूरत, जानिए

Recommended Video

किबिथु गांव 

यह भारत का सबसे पूर्वी मोटरेबल प्वाइंट है, जहां लंबे-लंबे देवदार के पेड़ों से घिरे बादल भरे पहाड़ों में घुमावदार सड़क गायब हो जाती है। डोंग से 18 किलोमीटर आगे, चीन सीमा की ओर, किबिथु एक एकांत, अविकसित गाँव है जो प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर है। गाँव के ऊपर से, आप सीमा के दूसरी तरफ चीनी सेना के बंकरों को देख सकते हैं। 

कब जाएं डोंग वैली

dong village

वैसे तो डोंग वैली जाने के लिए पूरे साल ही मौसम अच्छा रहता है। लेकिन अप्रैल से जुलाई माह के बीच डोंग घाटी का मौसम सबसे अच्छा होता है और घूमने का सबसे अच्छा समय यही होता है। इस अवधि में आप यहां के खूबसूरत प्राकृतिक नजारों का जमकर मजा उठा सकते हैं। मानसून के दौरान इस जगह की यात्रा से बचना चाहिए। 

कैसे पहुंचे

यहां पहुँचने के लिए विमान द्वारा पहले डिब्रूगढ़ जाएं और फिर वहां से कैब या किसी अन्य स्थानीय परिवहन द्वारा अपने गंतव्य तक पहुंचे। आप नई दिल्ली, बेंग्लुरु, चेन्नई और हैदराबाद जैसे देश के प्रमुख शहरों से यहां से लिए आराम से फ्लाइट ले सकते हैं। इसके अलावा आप तेजू से हेलीकाप्टर लेकर भी अपने गंतव्य तक पहुंच सकते हैं। एयरपोर्ट पर उतरने के बाद आप कैब या किसी अन्य परिवहन सेवा के जरिये अपने गंतव्य तक पहुंच सकते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:क्या आप जानते हैं दिल्ली के इन बेहद खूबसूरत सनसेट पॉइंट्स के बारे में

उगते सूरज की पहली किरण को अगर आप अपने कैमरे में कैद करने के बारे में सोच रहे हैं तो आपको कम से कम एक बार डोंग वैली जरूर जाना चाहिए। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: wikipedia