भारत की कुछ ऐसी जगहें हैं जो अपने आप में ही अद्वितीय हैं। इन जगहों की खूबसूरती देखने योग्य है और ये हर समय अपनी खूबसूरती की वजह से पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती हैं। ऐसी ही जगहों में से एक है कुंबुम् टैंक भारत में चार साइटों को वर्ल्ड हेरिटेज इरिगेशन स्ट्रक्चर टैग मिला है और कुंबुम् टैंक उनमें से एक है। आइये जानें कुंबुम् टैंक से जुड़ी कुछ बातों और उसके इतिहास के बारे में।  

कुंबुम टैंक का निर्माण 

cumbum tank

आंध्र प्रदेश के प्रकाशम जिले का एक शहर कुंबुम, यहां की सदियों पुरानी मानव निर्मित झील के लिए व्यापक रूप से लोकप्रिय है। जिसे गुंडलाकम्मा झील भी कहा जाता है, इसे नल्लमालई हिल्स पर इसी नाम के रिवायत पर बनाया गया है। झील 7 किमी लंबी है और इसकी चौड़ाई 3.5 किमी है। यह शहर मरकापुर राजस्व मंडल में कुंबुम मंडल का मुख्यालय है। कुंबुम झील को एशिया की सबसे पुरानी मानव निर्मित झीलों में से एक के रूप में जाना जाता है। इतिहास में इसकी जड़ें हैं क्योंकि यह 15 वीं शताब्दी में ओडिशा के गजपति शासकों द्वारा बनाया गया था और बाद में इसे संशोधित किया गया था और इसके एंथिर वरदराज्म्मा, विजयनगर राजकुमारी और 17 वीं शताब्दी में राजा कृष्णदेवराय की पत्नी द्वारा बनाया गया था। इंपीरियल गज़ेट ऑफ़ इंडिया से प्रदान किए गए विवरण से पता चलता है कि उन दिनों में, झील ने सिंचाई के उद्देश्य से 10,300 एकड़ भूमि को अपना पानी दिया था । कोई आश्चर्य नहीं कि इसने एशिया में दूसरा सबसे बड़ा सिंचाई टैंक होने का गौरव प्राप्त किया है ।

इसे भी पढ़ें: वीकेंड में घूमने के लिए बेस्ट हैं निजामाबाद की ये जगहें

कुंबुम झील का इतिहास

cumbum lake

मुगल शासकों के शासनकाल में यह कुंबुम शहर में यहां के शिलालेखों से सिद्ध होता है। विशेष रूप से दो हैं, जो 18 वीं शताब्दी की शुरुआत में हैं। उनमें से एक शेरिफ खाजा मुहम्मद की मृत्यु को संदर्भित करता है, जो औरंगजेब के शासनकाल के दौरान कुंबुम किले का क़िलादर था और दूसरा मुहम्मद साहब के शासनकाल के दौरान कुंबुम के गवर्नर मुहम्मद साहब को संदर्भित करता है।

कुंबुम झील के आस-पास के आकर्षण

श्रीशैलम मंदिर 

चूंकि झील नल्लामाला जंगल की गोद में स्थित है, इसलिए पास के मंदिर और झरने भी यहां के मुख्य आकर्षणों में से हैं। इसके पास श्रीशैलम मंदिर स्थित है, जिसमें भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग हैं और यह देश में देवी पार्वती के 18 शक्तिपीठों में से एक है।

Recommended Video

भैरवकोना झरना

यहाँ से 70 किमी की दूरी पर भैरवकोना झरना भी है और वहाँ पहुँचने में लगभग दो घंटे लगते हैं। यह स्थान एक शिव और पार्वती मंदिर के लिए भी प्रसिद्ध है। भैरवकोना मंदिर अखंड है, और कई पर्यटक पूर्णिमा के दिन आते हैं। पहाड़ियों से नक्काशीदार आठ और छोटे मंदिर हैं।

इसे भी पढ़ें: खूबसूरत झीलें और हरी भरी वादियों से भरी सिक्किम की ये जगहें दिसम्बर में घूमने के लिए हैं बेस्ट

यदि आप आंध्र प्रदेश में कहीं घूमने जा रहे हैं तो आपको एक बार इस कुंबुम झील या टैंक को जरूर देखना चाहिए। यहां की खूबसूरती वास्तव में इसे एक अद्वितीय स्थल बनाती है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: wikipedia