भारत में कई खूबसूरत झीलें स्थित हैं, यहां के कई शहर अपनी झीलों के लिए ही जाने जाते हैं। झील जल का वह स्थिर भाग होता है, जो चारों तरफ जमीन से घिरा हुआ होता है। इसकी एक विशेषता यह भी है कि स्थिर जल का हिस्सा होता है, नदी की तरह यह ज्यादा दूर तक का सफर नहीं करती हैं। आपको बता दें कि भारत में करीब 10000 झीलें मौजूद हैं, कुछ खारे पानी की तो कुछ मीठे पानी की। इतना ही नहीं कई झीलें कुदरती हैं, तो उनमें से कई झीलें इंसानों द्वारा तैयार की गई हैं। 

आज के आर्टिकल में हम आपको मीठे पानी की झीलों के बारे में बताएंगे, जिनके विषय में जानकर आपको इन झीलों के पास घूम कर आने का मन जरूर कहेगा। तो आइए जानते हैं भारत में स्थित प्रसिद्ध मीठे पानी की झीलों के बारे में महत्वपूर्ण बातें।

वुलर लेक-

wular lake 

भारत में ज्यादातर मीठे पानी की झीलें उत्तर भारत में स्थित हैं, जो कि पहाड़ी इलाकों में देखने को मिलती हैं। वुलर लेक भी इन झीलों में से एक है। बता दें कि यह झील भारत की सबसे बड़ी मीठे पानी की झीलों में से एक है, वहीं इस झील की शुरुआत झेलम नदी से होती है।

यह झील करीब 16 किलोमीटर की लंबाई में फैली हुई है। धरती का स्वर्ग कहे जाने वाले कश्मीर में यह खूबसूरत झील यात्रियों के आकर्षण का केंद्र है। यह झील करीब 600 साल पुरानी बताई जाती है, वहीं कुछ लोग वूलर झील को सतीसर झील का अवशेष भी बताया करते हैं।

घूमने के लिए मुख्य जगहें- 

वूलर लेक में आपको कई शानदार एक्टीविटीज जैसे फिशिंग, बर्ड वाचिंग और वाटर स्पोर्ट्स करने का मौका मिलता है। ऐसे में अगर आप झीलों के देखने के शौकीन हैं तो आपको वूलर लेक जरूर जाना चाहिए।

डल झील- 

dal lake

कश्मीर की राजधानी में स्थित डल झील अपनी खूबसूरती के लिए दुनिया भर में जानी जाती है। बॉलीवुड की कई फिल्मों की शूटिंग इस झील में हुई हैं। बता दें कि यह एक अर्बन लेक है और हर साल यहां लाखों की संख्या में सैलानी आया करते हैं। इस झील की एक खासियत यह भी है कि यह हर मौसम में बिल्कुल अलग दिखती है। इस झील में आपको वाटर प्लांट हार्वेस्टिंग का अनोखा नमूना देखने को मिलता है। यह झील करीब 7.44 किलोमीटर लंबी है।

घूमने की जगहें- 

यहां आपको शिकारा राइड, हाउस बोट, फ्लोटिंग मार्केट, मुगल गार्डन और चार चिनार जैसी चीजों का आनंद उठाने का मौका मिलेगा। यहां किसी भी मौसम में जाने का मन बना सकते हैं। 

लोकटक झील- 

मीठे पानी की यह झील नॉर्थ ईस्ट की सबसे लंबी झीलों में गिनी जाता है। बता दें कि मणिपुर के लिए यह झील बहुत महत्वपूर्ण है। यह झील सालों से मणिपुर की आर्थिक स्थिति के रूप में जानी जाती है, इसके अलावा झील सिंचाई और पीने के काम में भी आती है। 

इसे भी पढ़ें- ऋषिकेश की इन ऑफबीट जगहों पर एक बार जरूर घूमें

घूमने की जगहें- 

अगर आप यह झील घूमने आते हैं तो आपको यहां पर कई फ्लोटिंग आईलैंड भी देखने को मिलते हैं। आप यहां पर बोटिंग का आनंद भी उठा सकते हैं।

यहां पर आपको कीबुल लामजाओ नेशनल पार्क भी घूमने का मौका मिलेगा, जो करीब 40 किलोमीटर में फैला हुआ है। अगर आप मणिपुर जाने का मन बनाते हैं, तो यहां घूमने जरूर जाएं।

इसे भी पढ़ें- चंडीगढ़ से करीब 198 किमी की दूरी पर है खूबसूरत मंडी हिल स्टेशन

शिवा जी सागर झील-

shivaji sagar lake in india

यह भारत की सबसे लंबी मीठे पानी की आर्टिफिशियल झील है, जो महाराष्ट्र राज्य के सतारा जिले में स्थित है। दरअसल यह झील एक प्रकार का रिजर्वॉयर है, जो कोयना नदी पर बनाया गया है। इस झील का नाम मराठा के शासक शिवा जी पर रखा गया है। 

घूमने की जगहें- 

अगर आप इस झील को देखने का मन बनाते हैं तो आपको कोयना डैम, नेहरू गार्डन और कोयना वाइल्ड लाइफ सैंक्चुरी जरूर जाना चाहिए। ये सभी जगहें इस झील से थोड़ी सी दूरी पर मौजूद हैं।

Recommended Video

वेम्बनाड झील- 

kerala fresh water lake

यह झील केरल के कोट्टायम जिले में स्थित है। यह केरल राज्य की सबसे बड़ी और सबसे लंबी झील मानी जाती है। यह झील अपनी विभिन्न प्रकार की मछलियों के लिए भी जानी जाती है। यह झील साल 2002 में रामसर स्थलों में भी शामिल की गई है। यहां कई प्रजातियों के पक्षी पलायन करके हर साल भारत की तरफ आते हैं, जिस कारण इस झील की सुंदरता और भी बढ़ जाता है। इस झील की लंबाई करीब 16 किलोमीटर है, बता दें कि वहां के स्थानीय लोग इस झील को कोच्ची झील और कयाल झील के नाम से भी जानते हैं। 

घूमने की जगहें-  

इस झील को अगर आप देखने आते हैं तो आपको ओणम त्योहार का समय चुनना चाहिए, क्योंकि इस दौरान झील में स्नेक बोट रेस की प्रतियोगिता होती है। 

तो ये थी भारत की सबसे ताजे पानी की प्रमुख झीलें, जहां पर आप घूमने का मन बना सकते हैं। आपको हमारा यह आर्टिकल अगर पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें, साथ ही ऐसी जानकारियों के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

image credit- pulitzercenter.org, tourmyindia.com, waasgov.in and wikimedia.org