ओडिशा की राजधानी भुवनेश्वर भारत के उत्तर पूर्व में एक महत्वपूर्ण व्यापार केंद्र और धार्मिक केंद्र है। इसे लोग टेंपल सिटी भी कहकर पुकारते हैं और यहां पर पर्यटक बहुत अधिक संख्या में आते हैं। भुवनेश्वर को पूर्वी भारत में ट्रेड सेंटर और रिजनल हब के रूप में देखा जाता है। यहां पर बलुआ पत्थर से बने कई मंदिर हैं। इसके अलावा, भुवनेश्वर में कुछ बेहतरीन स्मारक हैं, जो इसे एक बेहतरीन पर्यटक स्थल बनाते हैं।  

वैसे यहां पर केवल धार्मिक प्रवृत्ति या फिर केवल एडवेंचर पसंद लोगों के लिए ही एक बेहतरीन स्थल नहीं है। बल्कि अगर आप बच्चों के साथ भी भुवनेश्वर घूमने जा रही हैं तो ऐसे में आप यहां पर कई बेहतरीन जगहों को देख सकती हैं और एन्जॉय कर सकती हैं। तो चलिए आज इस लेख में हम आपको भुवनेश्वर में बच्चों के साथ घूमने वाली कुछ बेहतरीन जगहों के बारे में बता रहे हैं-

नंदनकानन चिड़ियाघर

explore zoo in bhubaneshwar

चंदका जंगल के अंदर स्थित, नंदनकानन चिड़ियाघर में जानवरों की 67 से अधिक प्रजातियां हैं। इतना ही नहीं, चिड़ियाघर में विभिन्न प्रकार के पौधों के साथ एक बोटेनिकल गार्डन भी है। चिड़ियाघर में मगरमच्छ, बाघ, शेर और बंदर जैसे जानवर रहते हैं। अगर आप बच्चों को प्रकृति के करीब कुछ एडवेंचरस एक्टिविटी में शामिल करना चाहती हैं तो ऐसे में एक बार इस चिड़ियाघर में अवश्य ले जाएं। यह चिड़ियाघर सुबह 7.30 बजे से शाम 5.30 बजे तक खुला रहता है। एनके रोड पर स्थित नंदनकानन चिड़ियाघर की यात्रा बच्चे कभी भी नहीं भूल पाएंगे।

ओडिशा स्टेट म्यूजियम

odisha state museum

अगर आप भुवनेश्वर में हैं तो आपको एक बार ओडिशा स्टेट म्यूजियम में अवश्य जाना चाहिए। ओडिशा स्टेट म्यूजियम में कलाकृतियां, ग्रंथ, चित्र और बहुत कुछ है। ये सभी ओडिशा के समृद्ध इतिहास के पर्याय हैं। यह पर रखी गई कुछ महत्वपूर्ण कलाकृतियां कांस्य उपकरण, पेंटिंग और दुर्लभ ताड़-पत्ती मैन्युस्क्रिप्ट का एक अनूठा संग्रह हैं। आपको म्यूजियम में पार्किंग के लिए और साथ ही म्यूजियम में अपना कैमरा ले जाने के लिए शुल्क देना होगा। यह म्यूजियम मंगलवार से रविवार सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक खुला रहता है।  

इसे भी पढ़ें :तेलंगाना के इन 5 खूबसूरत डेस्टिनेशन्स पर जरूर घूमने जाएं

पठानी सामंत प्लेनेटेरियम

pathani palanetarium

अगर आपके बच्चे की विज्ञान विषय में रूचि है या फिर वह तारों और ग्रहों के बारे में करीब से जानना चाहता है तो आप उसे भुवनेश्वर में पठानी सामंत प्लेनेटेरियम लेकर जाएं। पठानी सामंत प्लैनटेरीअम नियमित रूप से एस्ट्रोनॉमी से संबंधित शो और कार्यशालाओं का आयोजन करता है। यह प्लैनटेरीअम विभिन्न एस्ट्रोनॉमी उपकरणों, ग्रहों और सितारों के मॉडल के साथ-साथ खगोल भौतिकी से संबंधित उपकरणों को भी प्रदर्शित करता है।

इसे भी पढ़ें :रणवीर और दीपिका की तरह आप भी बिनसर की इन जगहों को करें एक्सप्लोर, जानें 

इंदिरा गांधी पार्क

indira gandhi park in bhubaneshwar

भुवनेश्वर में इंदिरा गांधी पार्क की अपनी एक अलग अहमियत है। दरअसल, यह पार्क उस जगह पर बना है जहां पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने अपना आखिरी भाषण दिया था। पार्क के अंदर कई स्लाइड और सवारी हैं जिन पर बच्चे खेल सकते हैं। इसके अलावा, आप यहां पर सैर कर सकते हैं या संगीतमय फव्वारे देख सकते हैं। एक कैंटीन भी है जो पार्क के अंदर बेहद डिलिशियस लोकल फूड्स परोसता है।

ट्राइबल आर्ट्स और आर्टिफैक्ट्स म्यूजियम

artifacts museum in bhubaneshwar

हाईवे से कुछ दूर स्थित, ट्राइबल आर्ट्स और आर्टिफैक्ट्स म्यूजियम (भारत की समृद्ध विरासत जानने के लिए इन 6 म्यूजियम की करें सैर ) कपड़े, बीड्स ऑर्नामेंट और अन्य सांस्कृतिक कलाकृतियों को प्रदर्शित करता है जो ओडिशा के जनजातीय लोगों के पर्याय हैं। म्यूजियम में एक अलग गैलरी है जहां कृषि उपकरण और राज्य के आदिवासी लोगों द्वारा उपयोग किए जाने वाले मछली पकड़ने और शिकार के हथियारों को प्रदर्शित किया जाता है। म्यूजियम में, आप साओरा लोगों द्वारा खींची गई रंगीन कपड़े की पेंटिंग की खरीदारी कर सकते हैं।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- bhubaneswarbuzz, bhubaneswartourism