भारत के किसी भी कोने की सैर करने का मतलब है, यहां के समृद्ध इतिहास को करीब से जानना। हर शहर आपको एक ऐसे अद्भुत समय का सफर कराता जो अपने आप में प्रभावशाली है। सालों पुराने इतिहास, संस्कृति, परंपराओं से रूबरू होकर आप एक अविस्मरणीय दुनिया और माहौल के अनुभव को जीते हैं। अपने प्राचीन मंदिरों, चहल-पहल वाले बाजारों और परंपरा से सराबोर भारत के तमाम शहर किसी आश्चर्य से कम नहीं हैं।

देश के पोर्ट शहर विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं क्योंकि उन्होंने सदियों से व्यापार केंद्र के रूप में काम किया है। आने वाले समय में अगर आप किसी ट्रिप की प्लानिंग कर रहे हों, तो अपनी सूची में इन पोर्ट सिटीज को भी जरूर शामिल करें।

विशाखापट्टनम

indian port city  vishakhapatnam

दक्षिण भारत के इस बंदरगाह शहर को आमतौर पर विजाग (इसे पहले विजाग पटना कहा जाता था) के रूप में जाना जाता है। यहां भारत के अन्य शहरों से आसानी से पहुंचा जा सकता है। कमाल की बात यह है कि विशाखापटनम अकेला ऐसा शहर है, जहां दो पोर्ट्स हैं, जिन्हें विजाग और गंगावरम पोर्ट कहा जाता है। यहां एशिया का पहला सबमरीन म्यूजियम खुला था। इस शहर को 'ज्वेल ऑफ ईस्ट कोस्ट' भी कहा जाता है, क्योंकि यह ईस्ट कोस्ट भारत का तीसरा सबसे बड़ा शहर है। आप यहां रामकृष्ण बीच और अरकू वैली में प्रकृति के मनोहर दृश्यों को निहार सकते हैं और साथ ही यहां के सबसे पुराने और लोकप्रिय स्थल बोरा केव्स और सिम्हाचलम मंदिर को घूम सकते हैं।

कोल्लम

port city india kollam

केरल के दक्षिणी राज्य में स्थित, कोल्लम एक सुंदर बंदरगाह शहर है जिसका महत्व कई सदियों पुराना है। पुर्तगाली, डच और ब्रिटिश प्रभाव इस प्राचीन बंदरगाह को समृद्ध करते हैं। वेनिस के मर्चेंट मार्को पोलो ने भी कोल्लम का दौरा उस दौरान किया था, जब यह शहर स्पाइस रूट के साथ एक प्रमुख बंदरगाह हुआ करता था। कोल्लम की कोई भी यात्रा इसके शांत और खूबसूरत बैकवाटर की यात्रा के बिना पूरी नहीं हो सकती है। मुनरो आइलैंड, जहां छोटे-छोटे आठ आइलैंड हैं, घूमा जा सकता है। यहां आने-जाने के लिए सुबह और दोपहर में क्रूज चलते हैं। इस शहर में कई प्राचीन शिव के मंदिर भी हैं, जिनमें से एक ओचिरा परब्रह्म मंदिर है, जो कई वर्षों पुराना है।

इसे भी पढ़ें :इन ट्रैवल हैक्स की मदद से अपने सफर को बनाएं आसान

कोलकाता

kolkata port city of india

पश्चिम बंगाल की यह राजधानी भारत के सबसे पुराने स्टिल-ऑपरेटिंग बंदरगाह की मेजबानी करती है। ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी ने 1690 में कोलकाता को अपना आधार बनाया था। इस शहर को व्यापक रूप से भारत की सांस्कृतिक राजधानी माना जाता है। आप अपने ट्रैवल गोल्स के आधार पर भारत की तीसरे सबसे बड़े शहर की यात्रा कर सकते हैं। अगर आप शहर के हेरिटेज टूरिस्ट प्लेसेस देखना चाहते हैं, तो चाइनाटाउन जा सकते हैं। यह पूरे भारत में एकमात्र ऐसा क्षेत्र है जो ब्रिटिश राज स्थलों के विपरीत कम देखा और घूमा जाता है। मलिक घाट फ्लावर मार्केट के साथ-साथ न्यू मार्केट-शहर का सबसे पुराना बाजार है, जो कोलकाता और भारत के किस्सों के बारे में बताता है। आप यहां हावड़ा ब्रिज, बिड़ला प्लेनेटेरियम, विक्टोरिया मेमोरियल, दक्षिणेश्वर काली मंदिर, बेलूर मठ, कालीघाट आदि जैसे लोकप्रिय जगहों की यात्रा कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें :कूचबिहार पैलेस: भारतीय वास्तुकला का एक बेजोड़ नमूना, जानें इसके बारे में

कोच्चि

indian port city kocchi

कोच्चि को 'अरब सागर की रानी' और केरल के प्रवेश द्वार के रूप में जाना जाता है। यह भारतीय, चीनी, पुर्तगाली, डेनिश, अरब और ब्रिटिश संस्कृतियों का एक जीवंत मिश्रण है और इसी कारण पर्यटकों को यह जगह शानदार अनुभव प्रदान करती है। यह एक ऐसा शहर है जहां तीन रेलवे स्टेशन हैं और यहां का एर्नाकुलम जंक्शन सबसे बड़ा और सबसे व्यस्त रेलवे स्टेशन है। आप यहां स्पाइस मार्केट घूम सकते हैं। स्थानीय व्यंजनों, खासकर सीफूड और कोकोनट के फ्लेवर वाले फूड आइटम्स का स्वाद ले सकते हैं। बुकस्टोर, आर्ट गैलरी और चाय की दुकानों के लिए प्रिंसेस स्ट्रीट पर टहल सकते हैं। अगर कुछ ऐतिहासिक स्थल देखने का मन हो तो भारत के सबसे पुराने यूरोपीय चर्च सेंट फ्रांसिस जा सकते हैं।

Recommended Video

इन शहरों के अलावा पांडिचेरी, चेन्नई, पोर्ट ब्लेर जैसे कई अन्य खूबसूरत पोर्ट सिटीज हैं, जहां जाना आपके लिए एकदम नया, अद्भुत और शानदार अनुभव हो सकता है। आपको यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर जरूर करें। ट्रैवल से जुड़े ऐसे अन्य आर्टिकल पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

 

Image Credit : unsplash.com