दुनिया की सबसे अनोखी सुरंगों में से एक अटल रोहतांग टनल अब लगभग बनकर तैयार है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर बनी इस सुरंग की खासियत जानकर आपको भी गर्व होगा। ये सुरंग अगले महीने से खोल दी जाएगी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस सुरंग का इनॉगरेशन करेंगे। ये टनल सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में प्रसिद्ध हो रही है। 

दुनिया में 3000 मीटर से ज्यादा की ऊंचाई पर सबसे लंबी सुरंग-

लेह-लद्दाख रोड वैसे भी पूरी दुनिया की सबसे ऊंची मोटरेबल रोड होने के नाम से फेमस है, अटल रोहतांग टनल उसी रोड से जोड़ेगी। क्या आप जानते हैं कि ये सुरंग पूरी दुनिया में 3000 मीटर की ऊंचाई पर बनाई गई सबसे लंबी सुरंग है। जी हां, ये अपने आप में एक रिकॉर्ड है जिसे जानकर गर्व होता है। 4000 करोड़ रुपए की लागत से बनी ये सुरंग इस एक वजह से पूरी दुनिया में फेमस हो रही है। 

इसे जरूर पढ़ें- हरिद्वार में बनेगा 52 शक्तिपीठों पर आधारित थीम पार्क, एक साथ ही हो जाएंगे कई देव स्थानों के दर्शन

1983 से चल रहा है प्रस्ताव-

1983 में इंदिरा गांधी सरकार ने मनाली से लेह के बीच एक ऐसी रोड बनाने के बारे में सोचा था जिसे किसी भी मौसम में इस्तेमाल किया जा सके। हालांकि, ये प्रोजेक्ट पूरा नहीं हो पाया। 2002 में अटल बिहारी वाजपेयी सरकार ने इस सुरंग को बनाने का फैसला किया और इसका शिलान्यास किया। पर ये प्रोजेक्ट अपनी रफ्तार से 2009 के बाद ही चल पाया। 

आखिरकार अब 2020 में इस सुरंग का उद्घाटन किया जाएगा। इसे बनाने में शुरुआत में 6.5 साल लगने वाले थे, लेकिन ये प्रोजेक्ट धीमी रफ्तार से आगे बढ़ा। 

क्या खास है इस सुरंग में-

ये सुरंग 9.02 किलोमीटर लंबी है। अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर बनी ये सुरंग रोहतांग पास के ठीक नीचे से होकर गुजरती है। इसका मतलब ये है कि सर्दी के दिनों में ये रास्ता बर्फ से घिरा हुआ होगा। ये लेह-मनाली हाईवे पर बनाई गई है और 3,078 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है। 

atal rohtang tunnel photos

इस सुरंग की चौड़ाई 10.5 मीटर है और इसकी लंबाई 5.52 मीटर है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि इस सुरंग से एक कार 80 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से भी चल सकती है। 

46 किलोमीटर का रास्ता होता है कम-

लेह और मनाली के बीच का 46 किलोमीटर का रास्ता इस सुरंग से कम हो जाता है। यानि इस सुरंग की मदद से मनाली और लेह के बीच की दूरी को 4-5 घंटे तक कम किया जा सकता है। इसके शुरू होने के बाद लद्दाख ट्रिप काफी आसान हो जाएगी अगर आप रोड ट्रिप करना चाहें तो।   

rohtang tunnel

खराब मौसम में भी करेगी काम- 

इस सुरंग में एवलांच कंट्रोल स्ट्रक्चर बनाया गया है जो खराब मौसम में भी काम करेगा और लोगों को सुरक्षित रखेगा। रोहतांग पास में एवलांच और लैंडस्लाइड का खतरा बना रहता है और ऐसे में ये सुरंग कई प्राकृतिक आपदाओं को झेलने के लिए डिजाइन की गई है।  

Recommended Video

इसे जरूर पढ़ें- जानिए मोढेरा सूर्य मंदिर के बारे में, पीएम मोदी ने भी ट्वीट कर शेयर किया है इस मंदिर का खूबसूरत वीडियो 

ऑस्ट्रेलियन तकनीक का इस्तेमाल- 

इस सुरंग में ऑस्ट्रेलियन तकनीक का इस्तेमाल कर सही वेंटिलेशन बनाया गया है। यहां सेंसर्स और सीसीटीवी कैमरा भी लगाए गए हैं। पॉल्यूशन को कंट्रोल करने के लिए भी सेंसर्स का इस्तेमाल किया गया है। अगर सुरंग में ज्यादा वायु प्रदूषण हो जाता है तो इसे 90 सेकंड के भीतर ही कंट्रोल किया जा सके ऐसा सिस्टम लगाया गया है।  

atal rohtang tunnel manali

एक दिन में गुजर पाएंगे इतने वाहन- 

ये सुरंग बहुत मजबूत है और एक दिन में 3000 कार और 1500 भारी वाहन जैसे ट्रक और बस आदि गुजर सकते हैं। इस सुरंग के हर 500 मीटर पर इमर्जेंसी एग्जिट बनाई गई है और पब्लिक अनाउंसमेंट सिस्टम भी लगाए गए हैं जिससे अगर कोई आपातकालीन स्थिति हो तो स्पीकर के जरिए सुरंग से गुजरने वाले लोगों तक जानकारी पहुंचाई जा सके।  

अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।