बाल महिलाओं के लिए किसी कीमती गहने के समान होते हैं। इसलिए महिलाएं अपने बालों का बहुत ध्यान रखती हैं। मगर जब बाल सफेद होने लगते हैं तो यह परेशानी का कारण बन जाता है। आमतौर पर बढ़ती उम्र के साथ बालों का रंग सफेद होने लगता है, मगर कई बार उम्र से पहले ही बालों के सफेद होने पर महिलाएं अधिक परेशान हो जाती हैं। जाहिर है, बालों का सफेद होना बुढ़ापे की निशानी माना जाता है और कोई भी महिला बूढ़ा दिखना नहीं चाहती है। 

ऐसे में मन में यह सवाल उठना कि आखिर बाल सफेद क्यों हो रहे हैं? जायज है। तो आपको बता दें कि बालों में जब मेलेनिन बनना बंद हो जाता है तो बाल सफेद होना शुरू हो जाते हैं। बालों में मेलेनिन न बनने के कई कारण हो सकते हैं। मगर आप कुछ घरेलू उपायों को अपनाकर बालों में मेलेनिन प्रोडक्शन को बूस्ट कर सकती हैं। 

stop  grey  hair  naturally

बालों में मेलेनिन के महत्व को समझें 

बालों में मेलेनिन मेलानोसायटिस (melanocytes) नाम के पिंगमेंट सेल्‍स से बनता है। यह पिगमेंट सेल्स आपके स्कैल्प पर मौजूद हर हेयर फॉलिकल्स में मौजूद होते हैं। जब मेलानोसायटिस पिगमेंट सेल्स मेलेनिन बनाना बंद कर देते हैं तो बाल सफेद होना शुरू हो जाते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: Expert Tips: मानसून के मौसम में बालों में कब और कैसे लगाएं तेल

बालों में मेलेनिन को बढ़ाने के उपाय 

get  rid  of  premature  grey  hair

1. भृंगराज तेल 

भृंगराज तेल बालों को समय से पूर्व सफेद होने से बचाता है। आपको बाजार में भृंगराज का तेल आसानी से उपलब्ध हो जाएगा। आप इस तेल को डायरेक्ट भी बालों में लगा सकती हैं और इसका हेयर मास्‍क भी बना सकती हैं। चलिए हम आपको इसका हेयर मास्क बनाने का तरीका बताते हैं। 

सामग्री 

  • 1 बड़ा चम्मच आंवला पाउडर 
  • 2 बड़े चम्मच भृंगराज का तेल 

विधि 

  • एक कढ़ाही में आंवला पाउडर और भृंगराज का तेल डालें और इस मिश्रण को गरम करें। 
  • अब इसे गुनगुना होने दें और फिर इसे छानकर स्कैल्प पर लगाएं और 15 मिनट तक मसाज करें। 
  • अब 30 मिनट तक बालों में इसे ऐसे ही लगा हुआ छोड़ दें। 
  • इसके बाद आप बालों में शैंपू कर लें। 
  • इस प्रक्रिया को हफ्ते में 2 बार जरूर दोहराएं। 

2. त्रिफला 

बालों में मेलेनिन प्रोडक्शन बढ़ाने के लिए आप त्रिफला चूर्ण का प्रयोग भी कर सकती हैं। आपको बता दें कि त्रिफला (त्रिफला बनाने की विधि) आंवला, बहेड़ा और हरड़ से तैयार होता है। यह सभी तत्व बालों के लिए बहुत ही फायदेमंद हैं। खासतौर पर आंवला और बहेड़ा (बिभीतकी) को हेयर टॉनिक कहा जा सकता है। बालों में आप इस विधि से त्रिफला का प्रयोग कर सकती हैं- 

सामग्री 

  • 1 बड़ा चम्‍मच त्रिफला पाउडर 
  • 2 बड़े चम्‍मच नारियल का तेल 

विधि 

  • एक कढ़ाही में नारियल का तेल और त्रिफला पाउडर डालें और 2-3 मिनट के लिए उसे उबालें।
  • अब आप इस मिश्रण को ठंडा होने दें। जब यह ठंडा हो जाए तो आप इसे छान लें।
  • फिर इस तेल से स्कैल्प की मालिश करें। 1 घंटे बाद बालों को शैंपू से वॉश कर लें।
  • हफ्ते में यदि आप 2 बार इस प्रक्रिया को अपनाएंगी तो आपको जल्द ही बेहतर रिजल्‍ट्स देखने को मिलेंगे।
home  treatment  for  premature  grey  hair

3. गुड़हल का फूल;

गुड़हल का फूल बालों के लिए किसी वरदान से कम नहीं है। यह बालों को पोषण देता है और उन्हें काला, लंबा और घना बनाए रखता है। बालों में आप इस फूल का इस्तेमाल तेल और हेयर पैक दोनों के रूप में कर सकती हैं। बाजार में आपको गुड़हल के फूल का तेल आसानी से उपलब्ध हो जाएगा। आप घर पर भी इसका तेल तैयार कर सकती हैं, साथ ही इससे हेयर मास्‍क भी बना सकती हैं। गुड़हल का फूल बालों में मेलेनिन प्रोडक्शन को बूस्‍ट करने के साथ ही उन्हें चमकदार भी बनाता है। इसका हेयर पैक बनाने की सरल विधि इस प्रकार है- 

सामग्री;

  • 1 बड़ा चम्‍मच आंवले का पाउडर
  • 2 बड़े चम्मच गुड़हल के फूल का पेस्ट
  • 1 बड़ा चम्‍मच सरसों का तेल

विधि;

  • एक कढ़ाही में आंवले का पाउडर और सरसों का तेल डाल कर गरम करें। कढ़ाही लोहे की होगी तो और भी अच्छी बात है।
  • अब इस तेल को रातभर के लिए कढ़ाही में ही रहने दें। सुबह इसे छान लें।
  • अब इस तेल में गुड़हल के फूल का पेस्ट मिलाएं और मिश्रण को बालों में लगाएं।
  • आपको बता दें कि सरसों का तेल भी आंवले और गुड़हल के फूल की तरह बालों में मेलेनिन प्रोडक्शन को बूस्ट करता है।
  • इस मिश्रण को बालों में 30 मिनट से 60 मिनट तक लगा रहने दें।
  • फिर आप बालों को शैंपू से वॉश कर लें। अगर आपके बालों में तेल की चिपचिपाहट रह गई है, तो शैंपू से सेकंड वॉश करते वक्त थोड़ा सा नींबू का रस भी उसमें मिला लें। इससे बालों से तेल आसानी से निकल जाएगा।

Recommended Video

मेलेनिन रिच फूड 

मेलेनिन प्रोडक्शन को बूस्ट करने के लिए आप अपने आहार में आयरन और कॉपर रिच फूड को शामिल कर सकती हैं। जैसे- पालक, टमाटर, अलसी के बीज, कद्दू के बीज, डार्क चॉकलेट और हरी पत्‍तेदार सब्जियां आदि का सेवन करने से मेलेनिन अधिक बनता है। मगर इस बात का ध्यान रखें कि आपको इन सभी चीजों को अपनी डाइट में शामिल करने और इनका अधिक सेवन करने से पहले एक बार किसी अच्छे डायटीशियन से परामर्श जरूर करना चाहिए, क्योंकि कई बार बालों में मेलेनिन बनने की जगह शरीर के अन्य भागों में इसका प्रोडक्शन बढ़ जाता है, जिससे त्वचा का रंग काला पड़ने लगता है। 

यह जानकारी आपको पसंद आई हो तो इस आर्टिकल को शेयर और लाइक जरूर करें, साथ ही इसी तरह और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से। 

Image Credit: Shutterstock, Freepik