जब स्किन केयर की बात होती है तो केवल सीटीएम मतलब, क्लींजिंग, टोनिंग और मॉइश्चराइजिंग के जरिए ही स्किन का पूरी तरह से ख्याल नहीं रखा जा सकता। आपकी स्किन की उपरी लेयर पर डेड स्किन सेल्स की एक परत बनती जाती है, जिसके कारण आपकी स्किन डल व बेजान नजर आती है। ऐसे में उस डेड स्किन सेल्स से निजात पाने के लिए स्किन को एक्सफोलिएट या स्क्रब करना बेहद जरूरी हो जाता है। यूं तो महिलाएं कई चीजों से स्किन को एक्सफोलिएट करती हैं, लेकिन स्क्रब में सबसे ज्यादा इस्तेमाल नमक या चीनी का होता है। आमतौर पर महिलाओं को स्क्रब के दौरान इस्तेमाल होने वाले इन दोनों इंग्रीडिएंट्स के बीच का अंतर नहीं पता होता है और इसलिए वह किसी भी इंग्रीडिएंट का इस्तेमाल बिना सोचे समझे कर लेती हैं। हालांकि, आपको ऐसा नहीं करना चाहिए। आज हम आपको बता रहे हैं कि सॉल्ट स्क्रब और शुगर स्क्रब के बीच क्या होता है और आपके लिए इन दोनों में से कौन सा स्क्रब सबसे अधिक उपयुक्त रहेगा-

सॉल्ट स्क्रब

inside  salt scrub in hindi

दोनों में से स्क्रब में नमक का ज्यादा इस्तेमाल होता है। नमक में मिनरल्स प्रचुर मात्रा में होते हैं और इससे आपको डिटॉक्सिफाइंग लाभ प्राप्त होते हैं। वे मैग्नीशियम, कैल्शियम, पोटेशियम, लोहा और विटामिन ए और सी जैसे यौगिकों में भी समृद्ध हैं। हालांकि, नमक के दाने बड़े होते हैं और आपकी स्किन पर अब्रैसिव हो सकते हैं और इससे आपकी स्किन में इरिटेशन भी हो सकती है। इनका उपयोग शरीर के उन क्षेत्रों पर किया जाता है जहां त्वचा अधिक शुष्क होती है जैसे घुटने, पैर, कोहनी और पैर। सॉल्ट स्क्रब नॉर्मल, ऑयली व कॉम्बिनेशन स्किन के लिए उपयुक्त माना जाता है। 

इसे ज़रूर पढ़ें-गोरी और जवां त्‍वचा पाने के लिए यूं करें आलू बुखारे का इस्‍तेमाल

शुगर स्क्रब

inside  sugar scrub

दूसरी ओर, शुगर स्क्रब को अक्सर नेचुरल और फैटी ऑयल्स के साथ इस्तेमाल किया जाता है और इसलिए यह प्रकृति में काफी हाइड्रेटिंग होते हैं। जब इसे नारियल के तेल के साथ मिलाया जाता है, जो चीनी स्किन को एक्सफोलिएट करने के साथ-साथ गहराई से नमी भी प्रदान करती है। चीनी के पार्टिकल्स अधिक समान और आकार में छोटे होते हैं, इस प्रकार आपकी त्वचा पर नमक के स्क्रब की तुलना में अधिक कोमल होते हैं। इसे ड्राई और सेंसेटिव स्किन के लिए उपयुक्त माना जाता है। हालांकि, चीनी के स्क्रब के अत्यधिक उपयोग से बचना चाहिए, क्योंकि उनमें मौजूद ग्लाइकेटेड प्रोटीन आपकी त्वचा पर जमा हो सकते हैं और प्री-मेच्योर एजिंग के साइन्स दे सकते हैं। यही कारण है कि नमक और चीनी दोनों तरह के स्क्रब को सप्ताह में एक या दो बार इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है।

Recommended Video

किसका करें इस्तेमाल

inside  uses tips in hindi

अपनी त्वचा के टाइप के अनुसार सबसे सही स्क्रब चुनने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप अपनी त्वचा की संवेदनशीलता और जरूरतों का आकलन करें। मसलन, नमक के स्क्रब प्रकृति में काफी शुष्क हो सकते हैं इसलिए सुनिश्चित करें कि आप पहले से निर्जलित और थकी हुई त्वचा पर इसका उपयोग ना करें। ऐसी स्किन के लिए हाइड्रेटिंग शुगर स्क्रब का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। साथ ही सेंसेटिव स्किन की महिलाओं को भी सॉल्ट स्क्रब का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए। वहीं अगर आप आपकी स्किन ऑयली है और आप उसे डिटॉक्सिफाई करना चाहती हैं तो इसके लिए सॉल्ट स्क्रब का चयन किया जा सकता है।  इसके अलावा, किसी भी फिजिकल अब्रैशन को कम करने के लिए महीन दानों वाले स्क्रब का चयन करें।

इसे ज़रूर पढ़ें- DIY Scrub : इन घरेलू उपायों से हटाएं अपने घुटने और कोहनी का कालापन

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit Freepik