टीनएज में सबसे बड़ी समस्या होती है त्वचा से संबंधित समस्या। टीनएज गर्ल्स में हार्मोन्स के बदलाव की वजह से चेहरे पर पिम्पल्स, ब्लैकहेड्स, व्हॉइट हेड्स दिखाई देने लगते हैं, जो चेहरे पर निशान छोड़ देते हैं। इन समस्याओं की वजह से त्वचा बेजान नज़र आने लगती है। ऐसी कई समस्याओं से बचाव के लिए टीनएज गर्ल्स को अपने स्किन केयर रूटीन को फॉलो करने की जरूरत होती है।आइए जानें टीनएज में किस तरह का स्किन केयर रूटीन आपकी त्वचा की खूबसूरती को कायम रख सकता है। 

पिंपल्स की समस्या को समझें 

pimples in teenage

आमतौर पर मुहांसे, ब्लैकहेड्स तैलीय त्वचा को ज्यादा प्रभावित करते हैं। ऑयली स्किन पर अधिक तेल की वजह से बहुत जल्दी पिम्पल और एक्ने निकल आते हैं, जो कि टीनएज गर्ल्स की त्वचा की शिकायतों की सूची में सबसे ऊपर हैं । हार्मोन्स में होने वाले बदलाव तेल ग्रंथियों का विस्तार करते हैं, जिससे टीनएज गर्ल्स की त्वचा ज्यादा ऑयली हो जाती है, यही वजह है कि उनके चेहरे पर ब्लैकहेड्स होने लगते हैं। वैसे तो युवावस्था के दौरान मुंहासे होना आम बात है क्योंकि हार्मोन ओवरड्राइव में चले जाते हैं। मुहांसों से छुटकारा पाने के लिए अपनी त्वचा को अच्छी तरह पानी से धोएं, एक टोनर का उपयोग करें और फिर एक औषधीय एक्ने जेल का उपयोग करें। यदि आपको गंभीर मुंहांसों की समस्या है तो किसी भी दवा का उपयोग करने से पहले त्वचा विशेषज्ञ से परामर्श करना सबसे अच्छा है। 

Recommended Video

त्वचा को अच्छी तरह से साफ़ करें 

यदि आप त्वचा पर मेकअप अप्लाई करती हैं तो ये जरूरी है कि आप मेकअप अच्छी तरह से रिमूव करें। यदि आप अपनी त्वचा को अच्छी तरह से साफ नहीं करती हैं तो मेकअप के साइड इफ़ेक्ट से त्वचा बेजान नज़र आने लगती है। वैसे टीनएज में स्किन बहुत डेलिकेट होती है इसलिए जितना हो सके कम मेकअप अप्लाई करें। त्वचा को साफ़ करने के लिए अच्छे क्लीन्ज़र या फिर कच्चे दूध का इस्तेमाल कर सकती हैं। 

इसे जरूर पढ़ें : मेनोपॉज़ के समय त्वचा की देखभाल करने के लिए अपनाएं ये टिप्स

मॉइस्चराइज करना न भूलें

skin moisterising

आपके लिए त्वचा को मॉइस्चराइज करना बहुत जरूरी है यहां तक कि अगर आपकी त्वचा ऑयली है तब भी आप एक अच्छे मॉइस्चराइज़र का उपयोग करें जो आपके लिए काम करे। मॉइस्चराइजर का इस्तेमाल त्वचा को बेजान होने से बचाता है और त्वचा की खूबसूरती कायम रखता है। 

सनस्क्रीन का करें इस्तेमाल 

using sunscreen

जितनी जल्दी आप अपनी दिनचर्या में सनस्क्रीन को शामिल करना शुरू करती हैं, उतनी ही अधिक संभावना है कि आप उम्र के अनुसार बेहतर कोलेजन स्तर बनाए रखेंगी। सनस्क्रीन सूर्य की हानिकारक किरणों से त्वचा की सुरक्षा करती है। आप धूप में निकलने से पहले उच्चतर एसपीएफ के साथ एक व्यापक स्पेक्ट्रम सनस्क्रीन को चुनें और निर्देशित रूप से इसे त्वचा में लागू करें।

एंटी एजिंग क्रीम का इस्तेमाल न करें 

anti aging cream

निश्चित रूप से जब आप युवा हैं तो आपको एंटी एजिंग क्रीम की आवश्यकता नहीं है। एंटी एजिंग क्रीम त्वचा को बेजान बना सकती है और आप अपनी उम्र से ज्यादा नज़र आ सकती हैं। कम उम्र से ही इसका इस्तेमाल एलर्जी का कारण बन सकता है। अक्सर यह त्वचा को नुकसान पहुंचाता है, जिससे अधिक एक्ने सूजन, दाग धब्बे और सूखापन हो सकते हैं।

इसे जरूर पढ़ें :पत्ता गोभी से बढ़ाएं त्वचा और बालों की खूबसूरती, ऐसे करें इस्तेमाल 

टीनएज से ही अपने स्किन केयर रूटीन को फॉलो करने से आपको भविष्य में किसी तरह की त्वचा से संबंधित समस्याएं नहीं होंगी। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik