क्‍या शीशे में चेहरे देखने पर आपको आंखों के आस-पास छोटे-छोटे दाने दिखाई देते हैं। और इन दानों के कारण आपके चेहरे की सुंदरता कम हो गई है। बहुत उपचार करने के बावजूद भी समस्‍या दूर नहीं हो पा रही हैं। और आपको समझ में नहीं आ रहा है कि यह त्‍वचा से जुड़ी कौन सी समस्‍या है। तो हम आपको बता दें कि यह मिलिया की समस्‍या है और इससे बचाव करना बहुत ज्‍यादा मुश्किल नहीं है। जी हां समय-समय पर हम आपके लिए त्‍वचा से जुड़ी कई समस्‍याओं का समाधान लेकर आते है। आज हम आपके लिए मिलिया से बचाव के कुछ आसान टिप्‍स लेकर आए और इस बारे में हमें एक्‍सपर्ट बता रहे हैं। 

त्वचा की कई समस्‍याएं ऐसी हैं, जो आमतौर पर त्वचा की सतह के नीचे मौजूद केराटिन के कारण होते हैं। मिलिया एक ऐसी त्वचा संबंधी समस्या है, जो आजकल के युवाओं को बहुत ज्‍यादा परेशान कर रही है। यह त्वचा पर होने वाली एक ऐसी समस्‍या है जो सिर्फ चेहरे पर ही होती है, खासतौर पर यह दाने आंखों के आस-पास सबसे ज्‍यादा दिखाई देते है। समस्‍या होने पर त्वचा में छोटे-छोटे सफेद दाने हो जाते हैं जो चेहरे की सुंदरता को कम कर देती है। यह समस्‍या खासकर युवाओं और बच्चों में देखी जाती है। जी हां त्वचा के डेड सेल्‍स ही मिलिया का रूप ले लेते हैं, मिलिया यानि सफेद फुंसी तब होती है जब त्वचा की डेड सेल्‍स की मात्रा ज्यादा हो तब यह मिलिया का रूप ले लेती हैं। हालांकि यह बिना किसी उपचार के भी ठीक हो जाती है। लेकिन अगर थोड़ी सावधानी बरती जाये तो इसे होने से बचाया जा सकता है।

इसे जरूर पढ़ें: झाइयों से लेकर डार्क सर्कल तक आपकी 10 स्किन प्रॉब्‍लम्‍स को '1 महीने' में ठीक कर देंगे किचन में छिपे ये नुस्‍खे

milia skin disease

मिलिया बचने के उपाय जानने के लिए हर जिंदगी ने विश्व प्रसिद्ध डर्मेटोलॉजिस्ट और एस्थेटिक फिजिशियन, संस्थापक और निदेशक, आईएलएएमईडी (ILAMED) डॉक्‍टर अजय राणा से बात की। आईएलएएमईडी (ILAMED) (www.ilamed.org) दुनिया के कुछ पेशेवर शैक्षणिक संस्थानों में से एक है, जो कॉस्मेटोलॉजी और सौंदर्यशास्त्र चिकित्सा में प्रशिक्षण और हैं ड्स-ऑनपाठ्यक्रम प्रदान करता है। तब हमें अजय राणा ने कुछ टिप्‍स के बारे में बताया। आइए जानें कौन से हैं ये टिप्‍स। लेकिन सबसे पहले मिलिया के कारण जान लेते हैं।

मिलिया के कारण 

मिलिया आमतौर पर आपकी त्वचा के डैमेज होने के कारण होता है, त्वचा की स्थिति के कारण ब्लिस्टरिंग से लेकर लंबे समय तक सन डैमेज, स्टेरॉयड क्रीम समान रूप से आपकी त्वचा को प्रभावित करती हैं और परिणामस्वरूप मिलिया हो सकता है। जलन और चोटों के कारण भी मिलिया हो सकता है।

मिलिया से बचाव के एक्‍सपर्ट टिप्‍स 

चेहरे की सफाई

milia skin disease cleanse inside

मिलिया वाले इन्फेक्टेड हिस्‍से को रोजाना साफ करें। स्किन की जलन को रोकने के लिए एक हल्के साबुन का इस्‍तेमाल करें। सनस्क्रीन का प्रयोग करें। इसके लिए हाई प्रोटेक्शन वाले सनस्क्रीन विशेष रूप से सहायक हो सकते हैं। जी हां चेहरे पर धूल मिट्टी के जमने से त्वचा के पोर्स बंद हो जाते है जिससे शुद्ध ऑक्सीजन हमारी त्वचा के अंदर पहुंच नही पाती है और कई तरह की समस्याएं पनपने लगती है और मिलिया भी इसी कारण से होता है। समय-समय पर चेहरा साफ करने से चेहरे पर गंदगी जमा नहीं हो पाती है।

रेटिनोइड्स का इस्‍तेमाल

मिलिया को कम करने के लिए टोपिकल रेटिनोइड्स का इस्‍तेमाल करें। यह त्‍वचा में अंदर से सफाई करके त्‍वचा की गंदगी को बाहर निकाल देता है। जिससे त्‍वचा के डेड सेल्‍स तुरंत ही अलग होकर साफ और मुलायम दिखने लगते है। टोपिकल रेटिनोइड्स विटामिन ए से प्राप्त क्रीम या जैल होते हैं, जो मुंहासे और अन्य स्किन प्रॉब्लम्स के इलाज के लिए डिजाइन किए जाते है।

एक्सफोलिएट

milia skin disease exfoliate inside

मिलिया से बचाव के लिए सप्ताह में 2 से 3 बार स्किन को एक्सफोलिएट करें। जी हां धीरे से अपनी त्वचा को एक्सफोलिएट करें। यह आपकी त्वचा को जलन से मुक्त रखने में मदद करता है जो आमतौर पर मिलिया के लिए जिम्मेदार होते हैं। एक्सफ़ोलीएटिंग एजेंट केराटिन की मात्रा को बैलेंस रखते हैं और ओवरप्रोडक्टिंग को रोकते हैं।

Recommended Video

लाइफस्टाइल में बदलाव

लाइफस्टाइल में बदलाव को अपना ने से भी मिलिया को रोकने में मदद मिल सकती है। जैसे कि कोलेस्ट्रॉल युक्त खाद्य पदार्थों (मांस, अंडे, आदि) का कम से कम इस्तेमाल करें, अपनी डाइट में विटामिन डी सप्लीमेंट को शामिल करें, ऑयल बेस्ड स्किन केयर या मेकअप प्रोडक्ट्स के इस्तेमाल से परहेज करें।

इसे जरूर पढ़ें: Cellulite ने स्मूथ बॉडी की चाह को कर दिया है चकनाचूर तो अपनाये नारियल तेल

स्टीम

milia skin disease steam

मिलिया को कम करने के लिए स्टीम का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें। भाप से स्किन के पोर्स खुलते हैं। यह घर में भी बाथरूम में बैठकर और गर्मशॉवर चलाकर किया जा सकता है। जी हां स्‍टीम लेने का एक आसान तरीका यह है कि आप हल्के गर्म पानी के साथ अपने बाथरूम में बैठें। 5 से 8 मिनट तक स्‍टीम में बैठें। यह पूरी प्रोसेस धीरे से आपके पोर्स को खोल देगी और त्वचा को फ्री कर देगी।

ट्रीटमेंट

इन्फेक्शन को रोकने के लिए मिलिया ट्रीटमेंट से पहले कॉमेडोन को आइसोप्रोपिल अल्कोहल से निकालने के लिए सावधानी बरतें।

तो देर किस बात की अगर मिलिया ने आपके भी चेहरे की सुंदरता को कम कर दिया है तो इससे बचाव के लिए एक्‍सपर्ट के कुछ टिप्‍स आजमाएं।