• + Install App
  • ENG
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search
author-profile

पेट की उलझनों को सुलझाने के लिए आजमाएं यह आयुर्वेदिक घरेलू नुस्‍खा, परेशानी हो जाएगी दूर

 आयुर्वेद में कब्‍ज का बहुत सटीक इलाज है और बेस्‍ट बात तो यह है कि यह उपचार आप घर पर ही रसोई में इस्‍तेमाल की जाने वाली चीजों से कर सकती हैं। 
Published -08 Oct 2018, 11:18 ISTUpdated -08 Oct 2018, 18:06 IST
author-profile
  • Anuradha Gupta
  • Her Zindagi Editorial
  • Published -08 Oct 2018, 11:18 ISTUpdated -08 Oct 2018, 18:06 IST
Next
Article
Try this ayurvedic remedy for constipation problem

एक रिसर्च के मुताबिक भारत में 22 प्रतिशत लोग कब्‍ज की समस्‍या से जूझ रहे हैं। यह बीमारी पेट से जुड़ी होती है। इस बीमारी में स्‍टूल पास करने के दौरान दिक्‍कत होती है। ज्‍यादातर लोग इस बीमारी को छुपाते हैं और काफी वक्‍त तक इसका दर्द सहते रहते हैं। इस बीमारी पर लोग बात भी कम करते हैं। जबकी यह बीमारी कोई बड़ी बीमारी नहीं है। अगर सही इलाज किया जाए तो इस बीमारी से निजात पाई जा सकती है। आयुर्वेद में इसका बहुत सटीक इलाज है और बेस्‍ट बात तो यह है कि यह उपचार आप घर पर ही रसोई में इस्‍तेमाल की जाने वाली चीजों से कर सकती हैं। खासतौर पर दूध और घी के मिश्रण से आपको इस तकलीफ में काफी राहत मिलेगी। मीडिया प्रोफेशनल पूजा सिन्‍हा इस आयुर्वेदिक तरीके को खुद पर आजमा चुकी हैं और उनका इससे काफी राहत भी मिली है। 

Try this ayurvedic remedy for constipation problem

कैसे बनाएं यह मिश्रण 

पूजा बताती हैं, ‘केवल कब्‍ज ही नहीं पेट से संब‍ंधित कोई भी परेशानी होती हैं तो उसमें दूध और घी का मिश्रण बहुत लाभदायक होता है। मैं खुद भी रोज रात में सोने से पहले 2 छोटे चम्‍मच घी को गरम दूध में मिला कर पीती हूं। मगर यहां पर ध्‍यान रखने वाली बात यह है कि घी आप गाय का दूध का ही इस्‍तेमाल करें। गाय के दूध के घी में फैट नहीं होता।’ वैसे डॉक्‍टर वसंत लाड द्वारा लिखी हुई किताब ‘द कंप्‍लीट बुक ऑफ आयुर्वेदिक होम रेमेडीज’ में इस बात का जिक्र मिलता है। किताब में दूध और घी के मिश्रण को कब्‍ज ठीक करने के लिए सबसे अच्‍छा बताया गया है। किताब में बताया गया है, ‘कब्‍ज की समस्‍या वाता कंडीशन होती है इसमें स्‍टूल में ड्रायनेस और हार्डनेस आ जाती है। ऐसा तब होता है जब डाइट में फाइबर की कम मात्रा ली जाती है और पानी का इनटेक कम होता है। ऐसा उन लोंगे के साथ भी होता है जो लोग बिलकुल भी एक्‍सरसाइज नहीं करते हैं।’

Read more: टोंड, डबल टोंड या फुलक्रीम में से कौन सा दूध है आपके लिए बेस्ट

सेहत के लिए कैसे फायदेमंद है गरम दूध 

भारत में रहने वाले लोगों के बीच दूध का काफी महत्‍व है। यहां दूध को सबसे हेल्‍दी ड्रिंक समझा जाता है। वास्‍तव में ऐसा है भी। दूध में आयरन, प्रोटीन, कैल्शियम और कई तरह के मिनरल्‍स और विटामिंस होते हैं। अगर दूध को रात में कंज्‍यूम किया जाए तो इससे और भी ज्‍यादा लाभ मिलता है। रात में गरम दूध पीने से अच्‍छी नींद आती है। दूध में हाई प्रोटीन होता है इसलिए वेट लॉस में भी यह काफी फायदेमंद होता है। दूध मसल्‍स बिल्डिंग में भी फायदा पहुंचाता है। रोज दूध पीने से आपके दांत और बोन्‍स दोनों ही स्‍ट्रॉन्‍ग रहते हैं। अगर, आप रोज रात में गरम दूध पीती हैं तो यह कब्‍ज भी दूर करता है। 

Read more: पिएं वेगन आमंड मिल्क, क्योंकि दूध भी नहीं होता है शाकाहारी

Try this ayurvedic remedy for constipation problem

क्‍या कहता है आयुर्वेद 

आयुर्वेद के हिसाब से मनुष्‍य का शरीर वाता, पित्‍ता और कफ से मिलकर बना होता है। इनमें से किसी का भी संतुलन बिगड़ता है तो शरीर बीमार हो जाता है। दूध और घी दोनों ही शरीर के इन तीन महत्‍वपूर्ण तत्‍वों में संतुलन बनाए रखते हैं। 

Read More: सौ गुणों से भरपूर गाय का घी, 2 चम्‍मच गाय का घी खाएं रोगों को दूर भगाएं

घी के फायदे 

  • गाय का घी खून और आंतों में मौजूद कोलेस्ट्रॉल को कम होता है। दरअसल गाय के घी में बाइलरी लिपिड ज्‍यादा होता है। यह शरीर में मौजूद बैड कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करता है और अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में मदद करता है अगर आपका कोलेस्‍ट्रॉल बढ़ा हुआ है तो आपको आहार में गाय के घी को शामिल कर लेना चाहिए। 
  • माइग्रेन में भी गाय का घी काफी फायदेमंद होता है। दो बूंद गाय का देसी घी नाक में सुबह शाम डालने से माइग्रेन दर्द ठीक होता है। साथ ही गाय के घी नाक में डालने से एलर्जी खत्म होती है, नाक की खुश्की दूर होती है और दिमाग तरोताजा हो जाता है।
  • गाय के घी में सीएलए होता है, जो मेटाबॉल्जिम को सही रखता है। इससे वजन कंट्रोल में रहता है। सीएलए इंसुलिन की मात्रा को कम रखता है, जिससे वजन बढ़ने और शुगर जैसी दिक्कतें होने का खतरा कम रहता है। 
  • गाय के घी में बहुत अधिक मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट्स पाए जाते हैं, जो फ्री रेडिकल्स से लड़कर चेहरे की चमक बरकरार रखते हैं। साथ ही यह त्‍वचा को मुलायम और नमी प्रदान करता है और त्‍वचा को पोषण देने के साथ-साथ इसका रुखापन भी कम करता है। 

अगर आप भी कब्‍ज या पेट से जूड़ी दूसरी बीमारी से परेशान हैं तो इस आयुर्वेदिक घरेलू नुस्‍खे को जरूर आजमा कर देखें। इससे आपकी पेट की समस्‍या तो दूर होगी ही साथ ही और भी कई फायदे होंगें।  

Recommended Video

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।