आजकल काम के बढ़ते दबाव और जीवन की भागमभाग में हर तीसरा आदमी स्ट्रेस और एंग्जाइटी जैसे मानसिक रोगों का शिकार हो रहा है। यही नहीं अव्यवस्थित जीवनशैली और खराब खानपान भी कई तरह के मानसिक रोगों को जन्म देता है। स्ट्रेस एक ऐसा मानसिक रोग है जिसमें लोग डॉक्टर के पास जाना व्यर्थ समझते हैं। उन्हें लगता है कि यह कोई बीमारी नहीं है बल्कि मामूली दिमागी उलझन है। लेकिन यह कहना गलत नहीं होगा कि यदि स्ट्रेस को समय रहते काबू में नहीं किया गया तो भविष्य में यह भयंकर बीमारी का रूप ले लेता है। क्या आपने कभी तिब्बतियन सिंगिंग के बारे में सुना है? शायद बहुत कम लोग ही ऐसे होंगे जो तिब्बतियन सिंगिंग के बारे में जानते होंगे। यह प्राचीन काल में प्रयोग होने वाली एक ऐसी पद्धति है जिसकी मदद से लोग स्ट्रेट जैसी मानसिक बीमारी का इलाज करते थे। इसके कुछ खास बर्तनों को बजाकर और गुनगुनाकर दिमागी रोगों का इलाज किया जाता है। आज इस लेख में हम आपको बताएंगे कि आखिर तिब्बतियन सिंगिंग क्या है और यह किस तरह से काम करती है।

इसे भी पढ़ें: इस रागी रोटी को खाने के बाद परांठा पूरी खाना भूल जाएंगी आप

क्या है तिब्बतियन सिंगिंग

tibetan  dinging  bowl song inside

तिब्बतियन सिंगिंग का प्रयोग बौद्ध महंतों द्वारा ध्यान का अभ्यास करने और स्ट्रेस जैसे मानसिक रोगों से छुटकारा पाने के लिए किया जाता था। इसमें कुछ खास तरह के कटोरों को बजाकार दिमाग को शांति और सुकून दिया जाता है। इसमें जो कटोरे इस्तेमाल होते हैं उनकी आवाज घंटियों जैसी होती है। ये कटोरियां इतनी गहरी धुन निकालती हैं कि दिमाग को काफी सुकून मिलता है। इन कटोरे को हिमालयी कटोरे भी कहा जाता है। तिब्बतियन सिंगिंग के कटोरे स्ट्रेस तो दूर करने के साथ ही बॉडी को हील करने और रिलेक्स पहुंचाने की भी शक्ति रखते हैं। बोद्ध महंतों के अलावा संगीत चिकित्सक, म्यूजिक थैरापिस्ट, मसाज थैरापिस्ट और योगा थैरापिस्ट भी उपचार के दौरान तिब्बतियन सिंगिंग का प्रयोग करते हैं।

स्ट्रेस को कैसे दूर करती है तिब्बतियन सिंगिंग

tibetan  dinging  bowl song inside

तिब्बतियन सिंगिंग में कुछ खास तरह के बॉउल होते हैं। उपचार के दौरान इन्हें जब बजाया जाता है तो यह काफी तेज और सुखदायी आवाज निकालते हैं। इन बॉउल को सर्कुलर मोशन में बजाया जाता है। जो व्यक्ति इसे सुन रहा होता है उसे या तो किसी आरामदायक कुर्सी पर बैठाया जाता है या फिर लेटने को कहा जाता है। करीब आधे घंटे तक चलने वाले इस सेशन में ऐसा माहौल बनता है कि मरीज को एक बार में ही फायदा हो जाता है। वैसे तो इन बॉउल को बजाना आसान होता है लेकिन एक्सपर्ट की बात कुछ और ही होती है। मरीज को इसे सुनते वक्त अपनी भुजाओं को पूरा घुमाने के लिए कहा जाता है। यदि मरीज चाहे तो बैली को भी पूरा घुमा सकता है।

इसे भी पढ़ें: महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद होती हैं ये 5 हरी सब्जियां, जानें कैसे

तिब्बतियन सिंगिंग के अन्य लाभ

tibetan  dinging  bowl song inside

डॉक्टर्स और एक्स्पर्ट दावा करते हैं कि इन सिंगिंग बॉउल से निकलने वाली वाइब्रेशन तनाव को कम करके शरीर पर सकारात्मक प्रभाव डालती है यह कोशिकाओं में सामंजस्य स्थापित करने और शरीर की ऊर्जा प्रणाली को संतुलित करने का भी काम करती है। एक्सपर्ट तो यहां तक कहते हैं कि ये सिंगिंग बाउल दिमागी की सेल्स को चार्ज करने के साथ ही हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत करते हैं। यदि कोई व्यक्ति हफ्ते में 2 बार भी इस उपचार को ले लेता है तो वह कई रोगों से बच सकता है। अध्ययन बताते हैं कि जिन लोगों को सिंगिंग थैरेपी और प्लेसबो दिया गया उन्हें बॉडी पेन और स्ट्रेस की शिकायत काफी कम रहती है।