गुजरात एक ऐसा राज्य है जहां की जीवंत विरासत उसे भारत के अन्य राज्यों से अलग बनाती है। यहां की प्रेरणादायक संस्कृति से लेकर यहां का समृद्ध इतिहास सिर्फ स्थानीय ही नहीं, बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी पर्यटकों को आकर्षित करता है। गुजरात में ऐसे कई ऐतिहासिक स्थान है, जिसे देखने के लिए दुनियाभर के पर्यटकों के अलावा, तीर्थयात्री और इतिहासकार आते हैं। गुजरात में लक्ष्मी विलास पैलेस जैसी कुछ जगहें राज्य की भव्यता को परिभाषित करती है, वहीं द्वारकाधीश मंदिर और धोलावीरा जैसी जगहें एक महान अतीत की दास्तां बयां करती हैं। हो सकता है कि आप भी गुजरात घूमने का प्लॉन कर रही हों तो चलिए आज इस लेख में हम आपको गुजरात के कुछ ऐतिहासिक स्थलों के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें आपको अपनी ट्रेवल बकिट लिस्ट में जरूर शामिल रखना चाहिए-

द्वारकाधीश मंदिर

Dwarkadheesh inside

भगवान कृष्ण को समर्पित एक महत्वपूर्ण हिंदू तीर्थ स्थल, द्वारकाधीश मंदिर को जगत मंदिर के रूप में भी जाना जाता है। यह चार धामों में से एक है, और इस तरह इसे गुजरात के शीर्ष ऐतिहासिक स्थानों की सूची में शामिल है। यह पांच मंजिला पुरातत्व इमारत करीबन 2200 साल पुरानी है। इस मंदिर में हमेशा ही तीर्थयात्रियों की भारी भीड़ रहती है, खासकर जन्माष्टमी के यहां भव्य उत्सव किया जाता है।

इसे जरूर पढ़ें:गुजरात में कुछ दिन गुजारने से पहले जरूर जान लें ये 5 बातें

लक्ष्मी विलास पैलेस

Lakshmi Vilas Palace inside

लक्ष्मी विलास पैलेस गुजरात के सबसे प्रसिद्ध ऐतिहासिक स्थानों में से एक है। यह वडोदरा के शाही परिवार, गायकवाड़ के निवास के रूप में कार्य करता है। संपत्ति का इतिहास 1890 का है जब इसे महाराजा सयाजी राव तृतीय ने बनवाया था। 500 एकड़ के क्षेत्र में फैले हुए इस पैलेस के दरबार हॉल में कई फिल्मों की शूटिंग की गई हैं, क्योंकि यह शूटिंग के लिए उपलब्ध है। महल वास्तव में प्रसिद्ध बकिंघम पैलेस की तुलना में चार गुना बड़ा है, और इस प्रकार यह दुनिया के सबसे बड़े निजी आवासों में भी जाना जाता है।

धोलावीरा

dholavira inside

यह एक हेरिटेज साइट है। सिंधु घाटी सभ्यता के युग, धोलावीरा में 4500 साल पुराना उत्खनन स्थल है। यह गुजरात के सबसे प्रसिद्ध विरासत स्थलों में से एक है, जिसे 1967 में श्री जे.पी. जोशी ने खोजा था। यह स्थल कच्छ के भचाऊ तालुका में स्थित है। अगर आप यहां पर सर्दियों के मौसम के दौरान आयोजित होने वाले रण उत्सव में भाग ले रही हैं तो आपको एक अलग ही नजारा देखने को मिलेगा।

विजय विलास पैलेस

vijay vilas palace inside

मांडवी बीच में, विजय विलास पैलेस 1929 में राव विजयराज जी द्वारा बनाया गया था। यह गुजरात के सबसे महत्वपूर्ण ऐतिहासिक स्थानों में से है, क्योंकि कच्छ का शाही परिवार आज भी इस राजसी महल को घर कहता है। यहीं पर आप मुख्य रूप से तीन स्थापत्य शैली, जैसे - राजपूत, मुगल और विक्टोरियन का मिश्रण देखेंगी। महल में 450 एकड़ का एक विशाल क्षेत्र है, जो बगीचे से सजी है और दो किलोमीटर में फैला एक निजी समुद्र तट है। महल का कुछ हिस्सा लक्ज़री हेरिटेज रिसोर्ट में बदल दिया गया है, जो वास्तव में भारत में सबसे अच्छे लक्जरी गुणों में से एक है।

Recommended Video

सूर्य मंदिर

surya mandir inside

मोढ़ेरा में सूर्य मंदिर गुजरात, या भारत में सबसे अधिक देखे वाले ऐतिहासिक स्थानों में से एक है। यह हिंदू मंदिर सूर्य देव को समर्पित है, और पुष्पावती नदी के तट पर स्थित है। सूर्य मंदिर 1026 ईस्वी में बनाया गया था। हालांकि, आज यहाँ कोई प्रसाद और प्रार्थना नहीं हो रही है, यह मुख्य रूप से पर्यटकों की रुचि का एक ऐतिहासिक स्थल है, जिसे भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा बनाए रखा गया है। मंदिर एक शानदार, अद्भुत, मारू-गुर्जरा शैली की वास्तुकला का बेहतरीन नमूना है। मोढ़ेरा का सूर्य मंदिर भारत के सात अजूबों में गिना जाता है।

इसे जरूर पढ़ें:गुजरात में स्थित हैं भारत के कुछ बेहतरीन म्यूजियम, आप भी जानिए

सोमनाथ मंदिर

somnath mandir inside

गुजरात के सबसे महत्वपूर्ण स्मारकों में से एक, सोमनाथ मंदिर भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंग मंदिरों में से एक है। इस मंदिर को कई बार बनाया गया है, और सबसे हालिया परिवर्तन 1951 में किया गया है और इसे चालुक्य की वास्तुकला शैली को अपनाकर किया गया था। यदि आप इस पवित्र स्थल पर कदम नहीं रखते हैं तो गुजरात के विरासत स्थलों का आपका दौरा अधूरा ही रहेगा।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: wikimedia.org