हिंदू धर्म में सूर्य और चांद को भी ईश्‍वर का दर्जा प्राप्‍त है और इनकी पूजा भी की जाती है। ऐसे में जब सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण पड़ता है तो इससे जुड़ी कई धार्मिक मान्‍यताओं पर बात की जाती है। हालांकि, सूर्य और चंद्र ग्रहण के वैज्ञानिक कारण धार्मिक कारणों से एकदम अलग हैं। मगर ग्रहण से पड़ने वाले प्रभावों पर विज्ञान और धर्म दोनों में बात की गई है। 

हर वर्ष कई सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण पड़ते हैं। कुछ का प्रभाव पृथवी और मनुष्‍यों पर पड़ता है तो कुछ ग्रहण धार्मिक और वैज्ञानिक दृष्टि से मान्‍य ही नहीं होते हैं। साल 2021 में भी चंद्र और सूर्य ग्रहण पड़ेंगे। 

भोपाल के पंडित एवं ज्‍योतिषाचार्य विनोद सोनी पोद्दार बताते हैं, 'सूर्य ग्रहण और चंद्र ग्रहण  सामान्य खगोलीय घटनाएं हैं। मगर इनका धार्मिक महत्‍व भी कम नहीं है। इससे राशियों पर असर पड़ता है और मानव जीवन पर भी। साल 2021 में केवल 4 ग्रहण ही लगने हैं। इसमें से 2 सूर्य और 2 चंद्र ग्रहण होंगे।'

चलिए पंडित जी से जानते हैं कि कौन सा सूर्य ग्रहण कब पड़ेगा और कितने समय के लिए पड़ेगा। 

इसे जरूर पढ़ें: ग्रहण के दौरान क्‍यों करते हैं तुलसी का इस्‍तेमाल, जानें इसके पीछे की मान्‍यता

year  surya grahan

साल 2021 में पड़ने वाला पहला चंद्र ग्रहण  

 साल का सबसे पहला ग्रहण 26 मई 2021 को लगेगा। यह चंद्र ग्रहण होगा। यह भारत में उपछाया चंद्र ग्रहण होगा। इसक अर्थ है कि यह न तो दिखाई देगा और न ही इसका कोई असर होगा। इतना ही नहीं, उपछाया ग्रहण में सूतक भी नहीं लगता है। इस लिए धार्मिक दृष्टिकोण से इसे माना ही नहीं जाता है। पंडित जी कहते हैं, ' इस तरह के ग्रहण में आप भगवान जी की पूजा कर सकते हैं, खाना भी खा सकते हैं और घर से बाहर भी निकल सकते हैं।' हिंदी पंचांग की माने तों यह चंद्र ग्रहण पूर्वी एशिया, ऑस्ट्रेलिया, प्रशांत महासागर और अमेरिका के कुछ हिस्‍सों में दिखाई देगा। यह ग्रहण भारतीय समयानुसार दोपहर में 2:17 बजे से शुरू होकर शाम में 7:19 बजे तक रहेगा l 

 साल 2021 में पड़ने वाला पहला सूर्य ग्रहण  

वर्ष का दूसरा ग्रहण 10 जून 2021 को लगेगा। मगर यह साल का पहला सूर्य ग्रहण होगा। भारत में इस ग्रहण को आंशिक रूप से देखा जा पाएगा। भारत के अलावा इस ग्रहण को कनाडा, रूस, ग्रीनलैंड, यूरोप के कुछ देशों, ऐशिया के कुछ देशों और अमेरिका के कुछ हिस्‍सों में देखा जाएगा। भारत में यह ग्रहण केवल जम्‍मू-कश्‍मीर के कुछ भागों और अरुणाचल प्रदेश में देखा जा पाएगा। सूर्य ग्रहण का समय दोपहर  13:42 बजे से शुरू होगा और शाम 18:41 पर समाप्‍त होगा। 

इसे जरूर पढ़ें:  सूर्य ग्रहण से जुड़े इन अंधविश्‍वास में नहीं है कोई सच्‍चाई

year  chandra grahan

 साल 2021 में पड़ने वाला आखिरी चंद्र ग्रहण 

19 नवंबर 2021 को साल का तीसरा और आखिरी चंद्र ग्रहण लगेगा। यह भारत में आंशिक रूप से नजर आएगा। इसके अलावा यूरोप, ऑस्‍ट्रेलिया, अफ्रीका, अमेरिका आदि देशों में भी इस चंद्र ग्रहण को देखा जा पाएगा। भारतीय समय अनुसार यह सुबह 11:32 से शुरू होगा और शाम 5:33 मिनट तक लगा रहेगा। भारत में इसे ठीक से नहीं देखा जा पाएगा। मगर इस ग्रहण पर सूतक लगेगा और धार्मिक दृष्टि से यह मान्‍य होगा। 

Recommended Video

 साल 2021 में पड़ने वाला दूसरा सूर्य ग्रहण 

4 दिसंबर 2021 को साल का दूसरा और आखिरी सूर्य ग्रहण लगेगा। यह भारत में दिखाई तो नहीं देखा, मगर इसका धार्मिक महत्‍व होगा और इसलिए सूतक भी लगेगा। भारत में सूर्य ग्रहण का समय सुबह 10:59 बजे से दोपहर 15:07 बजे तक होगा। भारत के अलावा यह टार्कटिका, दक्षिण अफ्रीका, अटलांटिक के दक्षिणी भाग, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिका आदि जगहों पर नजर आएगा। 

यह आर्टिकल आपको अच्‍छा लगा हो तो इसे शेयर और लाइक जरूर करें और साथ ही इसी तरह और भी आर्टिकल्‍स पढ़ने के लिए जुड़ी रहें हरजिंदगी से। 

Image Credit: Freepik