अधिकतर लोगों को लगता है कि बैंक के नोट अगर फट गए हैं तो उन्हें चलाना बहुत मुश्किल हो जाता है। ये सही भी है क्योंकि ऐसी फटी हुई करेंसी नॉर्मल लेनदेन में नहीं चलती है, लेकिन अगर किसी के पास ऐसे फटे हुए नोट मौजूद हैं तो उसका किया क्या जाए? हममे से कई लोग ये जानते नहीं हैं कि RBI की तरफ से ये गाइडलाइन्स हैं कि किसी भी बैंक में जाकर आप फटे हुए नोट बदलवा सकते हैं। 

आपके लिए ये सुविधा दी गई है जिससे आप अपने नोट की कीमत का पूरा पैसा वापस ले सकते हैं, लेकिन इसे लेकर कुछ खास शर्तें भी रखी गई हैं। रिजर्व बैंक ने कुछ गाइडलाइन्स जारी की हैं जिसके तहत आप नोट बदलवा सकते हैं। 

सबसे पहले तो ये जान लीजिए कि ये एक्सचेंज किसी भी बैंक में किया जा सकता है और अगर कोई बैंक नोट बदलने से मना करता है तो उसकी शिकायत भी की जा सकती है। लिखित तौर पर आपको उसके खिलाफ शिकायत RBI में करनी होगी। 

इसे जरूर पढ़ें- 100, 200, 500 और 2000 रुपए के एक नोट को छापने में खर्च होते हैं इतने रुपए

currency exchange

किस तरह के फटे हुए नोट बदले जाते हैं?

किसी भी तरह के फटे हुए नोट बदले जा सकते हैं। पूरी तरह से अगर कोई नोट फट गया हो और दूसरे हिस्से से अलग हो गया हो तो भी ये बदला जा सकता है। अगर फटे हुए नोट किसी भी बैंक ब्रांच में ले जाएं और इसके अगर तीन हिस्से भी हो गए हैं तो भी उसे बदलने की गुंजाइश रहती है, लेकिन ध्यान ये रखना होगा कि नोट जितनी बुरी हालत में होगा उसकी कीमत उतनी कम होती जाएगी। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (Note Refund) Rules, 2009 के तहत इसके बारे में सारी जानकारी दी गई है। 

किसी भी बैंक ब्रांच में नोट बदलने के नियम-

अगर आपके पास जो नोट है वो छोटी वैल्यू का है जैसे 5,10,20,50 और उसके दो से ज्यादा टुकड़े हो गए हैं तो कम से कम नोट का 50% हिस्सा आपके पास होना चाहिए। उसी में पूरे पैसे मिलेंगे नहीं तो कुछ भी नहीं मिलेगा। 

अगर कोई एक दिन में 20 से ज्यादा फटे हुए नोट बदलना चाहता है या फिर नोटों की कुल वैल्यू 5000 रुपए से ज्यादा है तो उस व्यक्ति को इतने बड़े ट्रांजैक्शन की फीस देनी होगी। 

नोट बदलने का सीधा सा नियम ये है कि अगर उसमें सिक्योरिटी साइन जैसे गांधीजी का वाटरमार्क, गवर्नर के साइन और सीरियल नंबर दिख रहा है तो बैंक को वो नोट बदलना ही होगा। 

अगर नोट के बहुत ज्यादा टुकड़े हो गए हैं तो भी उसे बदलवाने का नियम है, लेकिन इस प्रोसेस में समय लगता है। इसके लिए आपको आरबीआई की ब्रांच में पोस्ट से ये नोट भेजना होगा जिसमें आपको खाता नंबर, ब्रांच का नाम, IFSC कोड, नोट की कीमत की जानकारी देनी होगी। 

notes and torn currency

इसे जरूर पढ़ें- Expert Tips: इस दिवाली बन जाइए अपने घर की लक्ष्मी, अपनाएं पैसों के मैनेजमेंट के ये तरीके 

आखिर हमसे नोट लेने के बाद क्या होता है उन नोटों का? 

आपने एक बार बैंक में नोट जमा करवा दिए तो आपको लगता है कि आपका काम तो खत्म हो गया, लेकिन क्या कभी सोचा है कि उन नोटों का आखिर में क्या होता है? RBI उन नोटों को प्रचलन से हटा देता है जो फट गए हों। इसकी जगह नए नोटों को छापने की जिम्मेदारी भी RBI की ही होती है।  

पहले के समय में इन नोटों को जला दिया जाता था और मौजूदा समय में इन्हें छोटे-छोटे पीस में कर रीसाइकल किया जाता है। इन नोटों से फिर कागजी चीज़ें बनवाई जाती हैं जिन्हें मार्केट में बेचा भी जाता है।  

आपको बता दें कि RBI के पास नोटों की छपाई का पूरा दारोमदार होता है, लेकिन RBI अपने मन से नोटों की छपाई नहीं कर सकता है। उसके लिए भी एक प्रोसेस होता है जिसमें ये तय किया जाता है कि एक समय पर भारतीय मार्केट में कितने नोट डाले जाएंगे।  

उम्मीद है कि ये जानकारी आपके किसी न किसी काम जरूर आई होगी। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।