अगर आप किसी छोटे घर में रह रहे हैं तो हो सकता है कि आपके पास कई गमले भी मौजूद हों। गमले में पौधे लगाना बहुत खूबसूरत तो लगता है, लेकिन कई बार लोगों को ये समझ नहीं आता है कि वो किस तरह का गमला अपने पौधे के लिए लेकर आएं और किस तरह से अपने पौधों को प्लांट करें। सबसे बड़ी दिक्कत ये होती है कि लोग पौधे के हिसाब से गमले का साइज नहीं चुनते हैं और ऐसे में कई बार उनका पौधा या तो पनप नहीं पाता है या फिर वो ज्यादा खाद और पानी की वजह से पनपने के बाद भी मर जाता है। 

अपना पसंदीदा पौधा चुनने के साथ-साथ ये जरूरी है कि आप सही गमला चुनें। आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि किस तरह से आप अपने लिए सही गमला चुन सकते हैं। 

कैसे चुनें सही गमला?

किसी भी घरेलू पौधे के लिए गमला चुनते समय आपको चार बातों का खास ख्याल रखना चाहिए-

  • गमले में ड्रेनेज का सिस्टम कैसा है?
  • गमले में इतनी जगह है या नहीं कि वो पौधे को बढ़ने दे?
  • जिस पौधे के लिए हम गमला ले रहे हैं वो कम से कम कितना डायामीटर चाहता है?
  • गमला हमें रखना कहां पर है?
plants and pots

इसे जरूर पढ़ें- अगर खराब हो जाते हैं आपके गुलाब के पौधे या नहीं आते हैं अच्छे फूल तो ये 3 हैक्स आएंगे काम

किस साइज का गमला होता है सही?

मार्केट में आपको अलग-अलग साइज के गमले मिल जाएंगे जो आपकी जरूरत के हिसाब से सही साबित हो सकते हैं जैसे-

10 इंच : ये सक्यूलेंट्स, हर्ब्स, हरी पत्तेदार सब्जियां, स्ट्रॉबेरी, बीट्स कम गहराई चाहने वाले फूल जैसे गेंदा आदि के लिए परफेक्ट है। 

12- 14 इंच: ये गाजर, पालक, छोटे आलू और पत्ता गोभी जैसी सब्जियों और गहराई चाहने वाले फूलों के लिए परफेक्ट है। 

18 इंच: बड़ी गाजर, गोभी, बेरीज, गुलाब, बोगनवेलिया जैसे पौधों के लिए परफेक्ट हो सकता है। 

24 इंच: इसमें ऐसे पौधे लगाए जा सकते हैं जिन्हें बहुत बड़ा रूट सिस्टम चाहिए जैसे अनार, आम, छोटे फलों के पौधे, मधुमालती जैसे बेल वाले पौधे आदि। 

30 इंच: इतने बड़े गमलों में पूरे पेड़ उगाए जा सकते हैं और सेब आदि के पेड़ भी इतने बड़े गमले में आसानी से लग सकते हैं।  

pots for plants

इसे जरूर पढ़ें- पुदीने, तुलसी से लेकर खूबसूरत गुलाब तक, घर में आसानी से उगाएं ये 21 तरह के पौधे 

किस क्वालिटी का लेना चाहिए गमला? 

हमने दो अहम सवालों के जवाब दे दिए कि गमला कितना बड़ा होना चाहिए और किस क्वालिटी का होना चाहिए। आजकल ग्रो बैग्स भी बहुत ज्यादा चर्चा में हैं, लेकिन आपको ये ध्यान रखना चाहिए कि ग्रो बैग्स हर तरह के माहौल में सही नहीं होते हैं क्योंकि इनमें कई बार पानी ठीक से निकल नहीं पाता है और पौधों की मिट्टी ज्यादा गर्मियों में और ह्यूमिड मौसम में पसीजने लगती है। तो अब बात करते हैं कि किस तरह के गमले हमें लेने चाहिए- 

pots and different plants

1. प्लास्टिक के गमले- 

ये सस्ते और लाइट वेट होते हैं और अंदर रखे जाने वाले पौधों के लिए अच्छे होते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि बहुत कड़ी धूप में प्लास्टिक का गमला पिघलने भी लगेगा और पौधे की जड़ को नुकसान भी पहुंचाएगा। काली प्लास्टिक तो खासतौर से ये काम करती है इसलिए बहुत धूप वाली जगह के लिए प्लास्टिक के गमले न लें।  

2. मिट्टी के गमले (टेरीकॉट पॉट्स)- 

लाल मिट्टी से बने ये गमले गार्डनिंग के लिए सबसे उपयुक्त माने जाते हैं, लेकिन इनमें दिक्कत ये होती है कि ये बहुत ज्यादा पानी पड़ने पर झड़ने लगते हैं और इनके आस-पास गंदगी होती है। इसलिए घर के अंदर रखना है तो ये पौधे न लें।  

3. सिरेमिक और सीमेंट वाले गमले- 

दोनों की ही क्वालिटीज एक जैसी होती हैं और ये अलग-अलग शेप और वेराइटी में आते हैं। दोनों ही वॉटर रिटेन कर लेते हैं, लेकिन अगर आप ऐसे एरिया में रहते हैं जहां बहुत ठंड पड़ती है तो सिरेमिक पॉट्स क्रैक हो सकते हैं।  

4. हैंगिंग पॉट्स- 

ये बहुत अलग-अलग वेराइटी के आते हैं, लेकिन उन्हें तभी चुनना चाहिए जब आपको इन्हें ऐसी जगह लगाना हो जहां से नीचे पानी गिरे तो भी आपको दिक्कत न हो।  

ये सारे टिप्स आपको अपने गार्डन के लिए परफेक्ट गमला चुनने में मदद करेंगे। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।