कई बार हमारे सामने इस तरह की घटनाएं होती हैं जिन्हें देखकर लगता है कि क्या वाकई इस दुनिया में इंसानियत बची हुई है? यकीनन हम इंसानों की कद्र नहीं कर रहे हैं तो फिर जानवरों की क्या करेंगे। अखबार का कोई भी पन्ना खोलें किसी न किसी के साथ होने वाले आपत्तिजनक बर्ताव की खबरें जरूर होंगी। इंसान जानवरों के साथ तो बहुत ही बदतर व्यवहार करने लगे हैं जिन्हें लेकर हमें लगता है कि पता नहीं क्यों लोग इस तरह की घटनाओं को अंजाम देते हैं। हाल ही में हमारे सामने भी ऐसी ही एक घटना आई है जिसने ये सोचने पर मजबूर कर दिया कि क्या वाकई हम इंसानियत भूल चुके हैं?

ये कहानी है शादी के लिए दूल्हे की बग्गी खींचने वाली एक घोड़ी की। दिल्ली के मदनगीर इलाके से रानी नाम की इस घोड़ी को एनिमल एक्टिविस्ट्स ने बचाया है। जिस हालत में इसे रेस्क्यू किया गया वो देखकर जानवरों से प्यार करने वाले किसी भी इंसान की आंखों में आंसू आ जाएंगे।

इस हालत में मिली थी रानी-

रानी को बचाने के लिए अहिंसा फेलोशिप मेंबर्स अशर जेसूडोस और सुनयना सिबल ने एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया। जब रानी उन्हें मिली थी तब उसके दोनों सामने के पैर में फ्रैक्चर था और वो लगभग बेहोशी की हालत में जमीन पर पड़ी हुई थी। वो डिहाइड्रेशन का शिकार थी और उसके पिछले एक पांव में भी चोट थी। (जानिए दुर्लभ जानवरों के बारे)

जितना वो सहन कर सकती थी उससे ज्यादा उससे काम करवाया जा रहा था। दिल्ली SPCA (Society for Prevention of Cruelty to Animals) की टीम जब रानी के पास पहुंची तब वो बहुत ही बेहाल थी।

rani leg fracture

इसे जरूर पढ़ें- कुलगाम हमले में शहीद हुए थे नायक दीपक, 3 साल बाद पत्नी ज्योति नैनवाल बनी सेना में लेफ्टिनेंट

रानी का ओनर रेस्क्यू टीम से कह रहा था कि रानी सिर्फ आराम कर रही है, लेकिन असल मायनों में वो उठने की हालत में भी नहीं थी।

रेस्क्यू टीम मेंबर सुनयना सिबल के मुताबिक 'जानवरों पर अत्याचार करने का कोई बहाना नहीं हो सकता है। बदलते समय के साथ शादी में ले जाने के कई ऑप्शन उपलब्ध हैं और आप हार्ले डेविडसन से लेकर विंटेज कार तक काफी कुछ ले सकते हैं। ऐसे में बेचारे जानवर पर अत्याचार करने की जरूरत नहीं।'

rani horse

इस मामले में क्या कहते हैं एनिमल रेस्क्यूअर?

6 घंटे चले इस रेस्क्यू ऑपरेशन को लेकर हमने एनिमल एक्टिविस्ट अशर जेसूडोस से बात की। उन्होंने इस सिलसिले में कई बातें बताईं।  (पालतू जानवरों को न खिलाएं ये 4 फूड्स)

सवाल: क्या आप बता सकते हैं कि रानी किस हाल में मिली थी? 

जवाब: 'रानी की कंडीशन काफी खराब थी और उसके दोनों पैर सूजे हुए थे। वो अपने पैरों पर वजन भी नहीं डाल पा रही थी और उसे जबरदस्ती खड़ा करने पर भी वो खड़ी नहीं हो पा रही थी। उसके ओनर्स अपनी बात मनवाने के लिए उसे जबरदस्ती खड़े करने की कोशिश कर रहे थे और वो हमारे सामने ही 3 बार गिरी है।' 

rani rescuers

इसे जरूर पढ़ें- दहेज़ के पैसों को लेकर राजस्थान की एक दुल्हन ने पिता से की अनोखी मांग 

सवाल: क्या ऐसा पहली बार हुआ है या ऐसी कंडीशन में जानवर मिलते रहते हैं? 

जवाब: 'ये रेगुलर प्रैक्टिस है और अधिकतर जानवर इसी हालत में मिलते हैं। आपको अगर कोई कुत्ता ऐसी कंडीशन में मिलता है तो आप उसे ऑटो में डालकर डॉक्टर के पास ले जा सकते हैं, लेकिन घोड़े के साथ ऐसा नहीं हो सकता है। रानी की कंडीशन तो ऐसी थी कि उसके लिए हमें पूरा लीगल प्रोसेस फॉलो करना पड़ा। लीगल प्रोसेस भी काफी बड़ा होता है जिसमें आपको ऑथोराइज्ड डॉक्टर की रिपोर्ट चाहिए वर्ना पुलिस शिकायत नहीं दर्ज करेगी।' 

'हर कोई ऐसा करता भी नहीं है और जानवरों की कंडीशन ऐसी ही खराब हो जाती है।'  (ठंड में अपने pet का इस तरह रखें ख्याल)

सवाल: अगर कोई ऐसे जानवरों की मदद करना चाहे तो क्या करे? 

जवाब: 'सबसे पहले तो दो कंडीशन हो सकते हैं कि अगर जानवर के पास कोई है नहीं और ओनर भी नहीं है तो एंबुलेंस मंगवाएं और अगर ओनर मौजूद है तो पुलिस को बताएं क्योंकि अगर आप खुद जानवर को रेस्क्यू करने की कोशिश करेंगे तो ओनर झगड़ा करेगा। आप इस समय में फोटो और वीडियो जानवर के बना सकते हैं, लेकिन पुलिस को कॉल करना जरूरी है। कई बार पुलिस वाले ये भी कहते हैं कि छोड़ दो, लेकिन उस समय आपको पुलिस के सामने भी अड़ना होगा कि जानवरों के साथ ऐसा करने वाले को सजा मिलनी चाहिए।' 

Recommended Video

सवाल: अहिंसा फेलोशिप के बारे में आप क्या बता सकते हैं और किसी को अगर आपसे जुड़ना हो तो क्या करें? 

जवाब: 'अहिंसा फेलोशिप जानवरों की भलाई के लिए काम करने का बीड़ा उठा चुकी है। आपको अगर ये फेलोशिप ज्वाइन करनी है तो इसका फॉर्म आगे निकलेगा। अगर आपको अपने इलाके के किसी जानवर की मदद करती है तो आप उसके लिए हमसे सलाह भी ले सकते हैं।' 

'ट्विटर @AhimsaMatters और इंस्टाग्राम @ahimsamatters पर कॉन्टैक्ट किया जा सकता है। इसी नाम से फेसबुक पेज भी बनाया गया है।' 

जहां तक जानवरों का सवाल है तो वो प्यार करने के लिए बने हैं और उनके साथ इस तरह का अत्याचार करना यकीनन बहुत ही खराब बात है। अगर आपको कोई ऐसा जानवर दिखे जिसे मदद की जरूरत हो तो उसकी मदद जरूर करें। अगर आपको ये स्टोरी अच्छी लगी है तो इसे शेयर जरूर करें। ऐसी ही अन्य स्टोरी पढ़ने के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी से।