जैसे घर की हर एक वस्तु के लिए वास्तु शास्त्र का होना जरूरी है वैसे ही घर में इस्तेमाल की जाने वाली डोरमैट का भी अलग रंग और दिशा होनी जरूरी है जिससे घर में खुशियां आ सकें। डोरमैट आजकल के समय में  हम सबके घर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन चुका है। हम अलग -अलग प्रकार के डोरमैट को अपने घर के मुख्य दरवाजे पर रखते हैं। इसके साथ ही अब यह घर के हर एक कमरे के बाहर और यहां तक कि बाथरूम के बाहर भी रखा जाने लगा है।  आमतौर पर लोग ऐसा मानते आ रहे हैं कि डोरमैट रखने से केवल कमरे के अंदर मिट्टी या गंदगी आने से बचा जा सकता है। 

लेकिन क्या कभी किसी ने सोचा है  कि वास्तु शास्त्र में डोरमैट को लेकर काफी कुछ कहा गया है। यदि हम वास्तु में डोरमैट के संबंध में बताई गई कुछ खास बातों का पालन करें तो हमारी ढेरों समस्याएं हमसे हमेशा के लिए दूर हो सकती हैं। यही नहीं हमारी बंद किस्मत के दरवाजे भी अचानक से खुल सकते हैं। आइए एस्ट्रोलॉजर और वास्तु स्पेशलिस्ट डॉ आरती दहिया जी से वास्तु के पहलू से विभिन्न रंग के डोरमैट के बारे में जानें। जिनका पालन करने से घर पूर्णतः दोषमुक्त किया जा सकता है।

वास्तु के अनुसार डोरमैट के रंगों का महत्व

door mat significance 

घर में वास्तु के अनुसार डोरमैट रखने से  घर से नकारात्मकता दूर हो सकती है और सकारात्मकता का आगमन हो सकता है।  इससे हमेशा घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह बना रहता  है और सुख और समृद्धि सदा के लिए वास करती है। घर में वास्तु की बताई दिशा के अनुसार डोरमैट रखने से घर में खुशियां आती हैं और सभी तरह की नकारात्मकता दूर हो जाती है। वास्तु के अनुसार सर्वप्रथम घर के डोरमैट का आकार आयताकार होना चाहिए इससे घर पूर्णता से आगे बढ़ता है ,संपन्न घर में विराजमान हो जाती है और घर वालों के आपसी रिश्ते बहुत मजबूत बनते हैं।

इसे जरूर पढ़ें:Vastu Tips: घर की खिड़कियों के लिए भी है अलग वास्तु, जानें इससे जुड़े 10 टिप्स

दिशा के अनुसार कैसा हो डोरमैट का कलर 

उत्तर दिशा 

blue colour mat

आरती दहिया जी बताती हैं कि उत्तर दिशा में हल्के नीले रंग का डोरमैट रखना चाहिए। वास्तु के अनुसार उत्तर दिशा में भगवान् कुबेर का वास होता है और इसी दिशा से घर में धन का प्रवेश होता है। इसलिए इस दिशा को हमेशा खुला हुआ रखना चाहिए और जहां तक डोरमैट की बात की जाए हल्के नीले रंग की डोरमैट इस दिशा से धन का प्रवेश मिलता है। 

उत्तर पूर्व दिशा 

उत्तर पूर्व दिशा में हल्के पीले रंग का डोरमैट रखना घर की उन्नति के लिए लाभदायक साबित हो सकता है। ऐसा करना घर की आर्थिक स्थिति को तो ठीक करता ही है घर के लोगों के बीच सामंजस्य का कारण भी होता है। 

door mat vastu tips by aarti dahiya

पूर्व दिशा 

पूर्व दिशा सूरज के उगने की दिशा होती है और इस दिशा को प्रकाश की दिशा भी माना जाता है। इसलिए इस दिशा में नीला ,हरा और काला रंग छोड़ कर कोई भी हल्के रंग का डोरमैट रखें। इस तरह के हलके रंगों के डोरमैट घर के लोगों के बीच उन्नति का कारण बनते हैं। 

Recommended Video

दक्षिण पूर्व दिशा 

दक्षिण पूर्व दिशा में हमेशा लाल रंग का डोरमैट रखना चाहिए। ऐसा करना घर के लोगों के लिए फायदेमंद होने के साथ घर की उन्नति का भी कारण होता है। इस दिशा में हमेशा लाल रंग का ही इस्तेमाल करें।  

इसे जरूर पढ़ें:Vastu Tips: सुख-समृद्धि के लिए घर से मिटाएं ये 10 वास्तु दोष

दक्षिण पश्चिम दिशा 

cram colour door mat

दक्षिण पश्चिम दिशा में हल्के पीले और क्रीम कलर का डोरमैट रखना लाभकारी साबित होगा। इस दिशा में डोरमैट रखते समय रंगों का विशेष ध्यान रखें जिससे घर में सुख समृद्धि आएगी। 

उत्तर पश्चिम

यदि आप घर की उत्तर पश्चिम दिशा में या इस दिशा की तरफ के मुख्य द्वार के पास डोरमैट रख रही हैं तो हमेशा हल्के नीले और पीले रंग का डोरमैट इस्तेमाल करें। इस रंग का डोर मैट घर में आने वाली खुशियों का कारण होने के साथ घर की खुशियों का भी कारण बन सकता है। 

वास्तु के अनुसार बताई उपर्युक्त दिशाओं और रंगों के अनुसार घर में सभी दरवाजों के आस-पास डोर मैट रखना आपकी किस्मत को बदल सकता है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik and shutterstock