हम सभी के वार्डरोब में कई कपड़े होते हैं, जिन्हें हम ओकेजन के अनुसार पहनते हैं व आर्गेनाइज करते हैं। वार्डरोब में एक जगह उन कपड़ों की होती है, जिन्हें हम डेलीवियर के रूप में पहनते हैं। चूंकि इस तरह कपड़ों का इस्तेमाल दैनिक रूप से किया जाता है, इसलिए हम इन्हें अपेक्षाकृत अधिक धोते हैं। ऐसे में डेलीवियर कपड़ों का रंग फीका होना, उनका सिकुड़ना या कपड़े के आकार में बदलाव होना, धागों का लूज होना या फिर उनमें छोटे-छोटे छेद होना जैसी समस्याएं होती है। अधिकतर मामलों में हम केवल अपने डिटर्जेंट को ही दोष देते हैं और उन्हें बार-बार बदलते रहते हैं। लेकिन हर बार इसके लिए आपका डिटर्जेंट ही जिम्मेदार हो, यह जरूरी नहीं है। इसके अलावा भी ऐसे कई टिप्स होते हैं, जो कपड़ों को लंबे समय तक नए जैसा बनाए रखने में मदद करते हैं। तो चलिए आज हम आपको डेलीवियर कपड़ों की सही देख-रेख के उपायों के बारे में बता रहे हैं, जिसे जानने के बाद आप उन्हें लंबे समय तक पहनने लायक बनाए रख सकते हैं-

गारमेंट के केयर लेबल को ध्यान से पढ़ें

inside care lable

यह सबसे पहला और महत्वूपर्ण नियम है, जो आपके कपड़े की लाइफ को बढ़ाने में मदद कर सकता है। अमूमन कपड़ों के लेबल पर उनकी केयर करने या फिर धोने के निर्देश दिए गए होते हैं, हालांकि हम इन इंस्ट्रक्शन को नजरअंदाज कर देते हैं। अगर इन इंस्ट्रक्शन को ध्यान से पढ़कर फॉलो ना किया जाए तो कपड़े के सिकुड़ने से लेकर उसके फेड होने की संभावना बढ़ जाती है। 

कपड़ों को उल्टा करके धोएं

inside washing tips

कई बार कपड़ों पर दूसरे कपड़े का कलर चढ़ जाता है या फिर वह फेड हो जाता है, ऐसे में डेलीवियर कपड़ों को लंबे समय तक यूं ही नए जैसा बनाए रखने का एक तरीका यह भी है कि आप कपड़ों को हमेशा उल्टा करके धोएं। ऐसा करने से कपड़ों के बाहरी हिस्से को किसी तरह का नुकसान नहीं होता। इस तरह कपड़े धोने का एक लाभ यह भी होता है कि कपड़ों की कढ़ाई से लेकर बीडिंग आदि को यूं ही बरकरार रखता है और इस आसान टिप से प्रिंट वाले कपड़ों को भी फीके पड़ने से रोका जा सकता है।

एक अच्छे फैब्रिक कंडीशनर का इस्तेमाल करें

inside fBRIC

आमतौर पर हम महंगे या पार्टी वियर कपड़ों को वॉश करते हुए ही फैब्रिक कंडीशनर का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन आपको डेलीवियर की लाइफ बढ़ाने के लिए भी इसका इस्तेमाल करना चाहिए। जबकि हम में से कई लोगों को लगता है कि एक फैब्रिक कंडीशनर सिर्फ कपड़े को नरम बनाता है और अच्छी महक देता है, लेकिन आपको इससे भी अन्य कई लाभ मिलते हैं। फैब्रिक कंडीशनर में प्रत्येक कपड़े के रेशे को एक प्रोटेक्टिव लेयर के साथ कोट करने की शक्ति होती है। यह लेयर वॉशिंग मशीन में कम घर्षण होने देता है, जिसके परिणामस्वरूप कपड़ों में छेद होने या फिर उनमें किसी तरह के नुकसान होने की संभावना काफी हद तक कम हो जाती है। इतना ही नहीं, यह कपडों के कलर को भी लंबे समय तक यूं ही बनाए रखते हैं। इसलिए, अगर आप अपने डेलीवियर को लंबे समय तक नए जैसा बनाए रखना चाहती हैं तो फैब्रिक कंडीशनर या फ़ैब्रिक सॉफ्टनर का उपयोग करें। 

सुखाएं सही तरह से 

inside DRY CLOTH

हम अपने कपड़ों को जल्दी तरह सुखाने के लिए ड्रायर का लंबे समय तक इस्तेमाल करते हैं, लेकिन ड्रायर की गर्मी समय के साथ कपड़ों को नुकसान पहुंचा सकती है। इलेक्ट्रिक ड्रायर के कारण कपड़े सिकुड़ सकते हैं, उनके रेशों को कमजोर कर सकते हैं और उन्हें फीका दिखा सकते हैं। इसलिए, आप कपड़े सुखाने वाले रैक का इस्तेमाल करें। साथ ही इस बात का भी ख्याल रखें कि आप धूप में कपड़ों को लंबे समय तक ना छोड़ें, इससे भी उन्हें नुकसान होता है।

इसे ज़रूर पढ़ें-इन घेरलू उपायों को आजमाने से किचन में नहीं होंगे कॉकरोच

कपड़ों को सही तरीके से स्टोर करें

inside CLOTH

कभी-कभी जब हम घर पहुँचते हैं तो कपड़े चेंज करके उन्हें यूं ही बिस्तर पर या कुर्सी पर छोड़ देते हैं या फिर जल्दबाजी में उन्हें अपनी अलमारी में यूं ही फेंक देते हैं। हालांकि, आपको इस बारे में पता होना चाहिए कि आप जिस तरह से अपने कपड़ों को स्टोर करते हैं, उससे उनकी लाइफ पर बहुत फर्क पड़ता है। उदाहरण के तौर पर, स्वेटर को मोड़ने और उन्हें टांगने के बजाय एक शेल्फ पर रखने से उनके आकार को बनाए रखने में मदद मिलती है। इतना ही नहीं, आप जिस तरह के हैंगर का इस्तेमाल करते हैं, उससे भी फर्क पड़ सकता है। तार या प्लास्टिक के हैंगर आपके कपड़ों के कंधों को फैला सकते हैं, जिससे कपड़ों का आकार बिगड़ जाता है। इसलिए, लकड़ी के हैंगर बेहतर विकल्प हैं। ठीक इसी तरह, प्लास्टिक के बजाय सूती चादर या बैग में कपड़े स्टोर करना सबसे अच्छा है क्योंकि प्लास्टिक बैग मॉइश्चर को ट्रैप करते हैं, जिससे कपड़ों में फफूंदी लग जाती है और फिर उन कपड़ों को पहनने का मन नहीं करता।

Recommended Video

कपड़ों का रोटेट करके पहनें

inside WASHING TIPS

यह एक सिंपल टिप है, लेकिन इसकी मदद से आप अपने डेलीवियर आउटफिट की लाइफ को बढ़ा सकती है। ’फर्स्ट इन फर्स्ट आउट’ का नियम न केवल प्रॉडक्ट्स पर लागू होता है, बल्कि हमारी अलमारी के कपड़ों पर भी लागू होता है। इसलिए, आप ताजे धुले कपड़ों को पीछे रखें और अभी अलमारी में जो कपड़ें हैं, आप उन्हें पहले पहनें। इस तरह कपड़ों की रोटेशन करने से एक की कपड़े को बार-बार धोने से उसे नुकसान नहीं होता।

इसे ज़रूर पढ़ें- बारिश के मौसम में धुले हुए कपड़ों से आने लगती है बदबू, तो इन टिप्स से सुखाएं कपड़े

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit- Freepik