राजधानी दिल्ली में महिलाएं कितनी unsafe हैं यह किसी से छुपा नहीं है। महिलाओं की safety के लिहाज से राजधानी में बहुत कुछ किया भी गया है। इसी कड़ी में कुछ समय पहले महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए 'Himmat app' को रिलॉन्च किया गया था। इस बार ऐप का नाम 'Himmat plus' रखा गया और पहले वाले ऐप में जो कमियां रह गईं थीं उनको दूर करने की कोशिश भी की गई। नेशनल मीडिया सेंटर में इस ऐप को दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल के द्वारा लॉन्च किया गया था 

User friendly है यह ऐप 

इस बार ऐप को और भी ज्यादा यूजर फ्रेंडली बनाने की कोशिश की गई है। पहले की ही तरह इस app को गूगल प्ले‍ स्टो्र से डाउनलोड किया जा सकता है। इसके बाद इसमें अपनी डीटेल्स भरनी होती हैं और फिर इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। इस ऐप के लिए mobile में इंटरनेट का होना जरूरी है। इंटरनेट होने से यह ऐप आपकी पल-पल की जानकारी रखेगा। अगर फोन पुराना होने की वजह से इंटरनेट स्लो चलता है या फिर हैंग हो जाता है तो आप बेहद सस्ती कीमत पर यहां से घर बैठे फोन ऑर्डर कर सकती हैं। 

इसे जरूर पढ़ें: Drive करने के दौरान अगर लगे कि कोई कर रहा है आपका पीछा तो ये करें

this app will help you to travel alone  new himmat app

क्या हैं नई सुविधाएं 

इस बार ऐप दो भाषाओं में है। जहां पहले यह केवल इंग्लिश में था वहीं इस बार इसमें हिन्दी भाषा को भी ऐड कर दिया गया है। इसमें टैक्सी, ऑटो रिक्शा व ई-रिक्शा के ड्राइवरों की पूरी डीटेल्स भी फीड की गई हैं। डीटेल्स  के साथ ही इसमें ड्राइवर के क्यूआर कोड को स्कैन करके उना वैरिफिकेशन करने की सुविधा भी है। इतना ही नहीं इस ऐप में दिल्ली एयरपोर्ट के साथ ही दिल्ली के पांच प्रमुख मेट्रो स्टेशन, मसलन आनंद विहार, विश्वीविद्यालय, मालवीय नगर, साकेत नगर और नेहरूप्लेस के बाहर खड़े होने वाले ऑटो, ईरिक्शा और टैक्सी  ड्राइवर्स की पूरी डीटेल्स को फीड किया गया है। इससे यह फायदा होगा कि जब भी कोई लड़की इन रजिस्टर्ड ड्राइवर्स में किसी एक की गाड़ी  में बैठेगी तो उसकी पूरी जानकारी नजदीकी पुलिस स्टेशन में बने हिम्मरत ऐप कंट्रोल रूम में पहुंच जाएगी। सबसे अच्छी बात यह है कि यह कंट्रोल रूम 24 घंटे ओपन रहेंगे। इस लिए आप आधी रात में भी अगर ट्रैवल कर रही हैं तो आपको घबराने की जरूरत नहीं है।  

इसे जरूर पढ़ें: 2018 में हर महिला के पास होने चाहिए ये 5 women safety apps

ऐप कैसे करेगा काम 

ऐप को गूगल प्ले से डाउनलोड करने के बाद आपको अपने बारे में सारी सही डीटेल्स फिल करनी होगी। साथ ही इसमें आपसे कुछ ऐसे लोगों की डीटेल्स  भी पूछी जाएगी जिनको मुसीबत के वक्त आप अपनी लोकेशन बताना चाहती होंगी। खुद को ऐप में रजिस्टसर्ड करने के बाद आप जिस भी ऑटो में बैठें पहले ऑटो के क्यूआर कोड को स्कैन करें। ड्राइवर का वैरीफिकेशन होने के बाद आप उस ऑटों में बैठ सकती हैं। स्कैनिंग के बाद यात्रा के बटन को जरूर दबाएं। इससे आपकी लाइव लोकेशन पुलिस तक पहुंच जाएगी।

इसे जरूर पढ़ें: मुसीबत में महिलाओं की सुरक्षा करेंगे ये Mobile Apps

यदि आप किसी ऐसे ऑटो में ट्रैवल करने जा रही हैं, जो दिल्ली पुलिस के ऐप में रजिस्टर्ड नहीं है तो आप ऐप में मौजूद SOS बटन को प्रेस करके पुलिस कंट्रोल रूम तक ड्राइवर की पूरी डीटेल पहुंचा सकती हैं। अगर आपके फोन की बैटरी जल्दी डिस्चार्ज होती है तो आप बाहर निकलने के दौरान अपने साथ पावरबैंक लेकर चल सकती हैं, जिससे आप इमरजेंसी सिचुएशन में अपना फोन चार्ज कर पुलिस को कॉन्टेक्ट कर सकती हैं। अगर आप सस्ती कीमत पर घर बैठे ब्रांडेड पावरबैंक पाना चाहती हैं तो यहां से पा सकती हैं।

 

यात्रा के दौरान हिम्मत ऐप प्लस का इस्तेमाल करने पर आपके पास हर पांच मिनट में एक मैसेज आएगा। इस में आपसे पूछा जाएगा कि क्या आप सुरक्षित हैं। सवाल के साथ ही उत्तर के लिए आपको तीन ऑप्शन दिए जाएंगे। आपको इन्ही में से कोई उत्तर पर क्लिक करना होगा। आपके जवाब के आधार पर पुलिस कंट्रोल रूम को आपकी सुरक्षित यात्रा के बारे में पता चलता रहेगा। 

जिनके पास नहीं है स्मार्टफोन 

जरूरी नहीं कि हर लड़की के पास स्मार्टफोन हो। ऐसे में इस बार हिम्मत प्लस  ऐप में बिना स्मार्ट फोन वाली लड़कियों के लिए भी खास सुविधा दी गई है। ऐसी लड़कियां जो साधारण फोन के साथ यात्रा कर रही हैं वे 9223166166 नंबर पर एक मेसेज भेज देंगी तो उन्हें भी ट्रैक किया जा सकेगा।