रीमा को जब रोहित मिला, तो उसे लगा कि जैसे उसे दामन में जैसे सारी खुशियां सिमट गई हों। शुरूआती कुछ दिन तो वह काफी खुश थी लेकिन धीरे-धीरे रोहित का टॉक्सिक बिहेवियर रीमा को परेशान करने लगा। वह रीमा पर हर छोटी-छोटी बात पर शक करता। इतना ही नहीं, रीमा के कपड़े पहनने के तरीके और उसके घूमने-फिरने पर भी उसे एतराज था। शुरूआत में तो रीमा को लगा कि यह रोहित का प्यार है और वह उसे लेकर थोडा पजेसिव है। लेकिन धीरे-धीरे वक्त के साथ सबकुछ ठीक हो जाएगा। अपने रिश्ते को बनाए रखने के लिए उसने रोहित की पसंद के कपड़े पहनने शुरू कर दिए और जिन लोगों से उसका बात करना रोहित को पसंद नहीं था, उसने वह भी छोड़ दिया। लेकिन फिर भी रोहित के स्वभाव में कोई बदलाव नहीं आया। वह रीमा का फोन, सोशल मीडिया अकांउट चेक करता। अगर वह अपने किसी भी पुराने दोस्त से बात करती या फिर किसी का गलती से फोन आ जाता तो रोहित रीमा पर चिल्लाने लगता। रीमा जब भी रोहित के साथ होती तो उसे एक घुटन का अहसास होता और वह थोड़ा डरी-डरी रहती। एक बार तो गुस्से में रोहित ने रीमा पर हाथ भी उठा दिया। तब रीमा को समझ आया कि यह रोहित का प्यार नहीं है। बहुत हिम्मत करके रीमा ने रोहित के साथ अपना रिश्ता खत्म कर दिया। इसके बाद वह कई दिनों तक काफी परेशान भी रही। यह कहानी सिर्फ रीमा की नहीं है। कई लड़कियां अक्सर टॉक्सिक रिलेशन में रहने का दर्द झेल चुकी हैं। यह यकीनन एक बेहद बुरा अनुभव है। लेकिन यह बुरा अनुभव भी आपको बहुत कुछ सिखा सकता है। इतना ही नहीं, आपको आपके लिए परफेक्ट पार्टनर ढूंढने में भी मदद कर सकता है। तो चलिए जानते हैं इन लेसन के बारे में-

संकेतों को ना करें नजरअंदाज

 relation tips inside

हर रिश्ते में जब विषाक्तता घुलने लगती है तो उसके संकेत साफतौर पर नजर आते हैं। लेकिन अक्सर हम उन्हें नजरअंदाज कर देते हैं। जिसके बाद स्थिति बद से बदतर हो जाती है। इसलिए कभी भी उन रेड फ्लैग को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। यह रेड फ्लैग बताते हैं कि आप एक गलत रिश्ते में हैं।

गलतियों को ना दोहराना

 relation tips inside

जब आप एक विषाक्त रिश्ते से बाहर निकलती हैं तो आपको उन गलतियों के बारे में समझ में आता है जिसने आपके रिश्ते को वास्तव में काफी खराब किया। मसलन, अगर आपने रिश्ते की शुरूआत में अपने पार्टनर से मोबाइल, बैंक या फिर सोशल मीडिया अकांउट के पासवर्ड शेयर किए या फिर पार्टनर के पहली बार मिसबिहेव करने के बाद उसे यूं ही माफ कर दिया तो इसका अर्थ है कि आप कहीं ना कहीं उसे अपने साथ गलत व्यवहार करने की परमिशन दे रही हैं। इन गलतियों को कभी भी अपने नए रिश्ते में नहीं दोहराना चाहिए।  

इसे जरूर पढ़ें: हैप्पी कपल्स से सीखें relationship problems को सुलझाने के तरीके

गलत चीज का साथ ना देना

 relation tips inside

यह समस्या अक्सर रिश्ते में देखी जाती है। जब पुरूष महिला के साथ गलत व्यवहार करता है तो महिला रिश्ते को बचाने के लिए उस व्यवहार को बर्दाश्त करती है या फिर उसे माफ कर देती है। उसे लगता है कि ऐसा करके वह अपने रिश्ते को बचा रही है। लेकिन आप अपने रिश्ते में टॉक्सिक लेवल को बढा रही है। क्योंकि अगर आप अपने साथी के गलत व्यवहार का समर्थन करती है, तो वह कभी भी खुद को बदलने की कोशिश नहीं करेगा। एक टॉक्सिक रिलेशन आपको सिखाता है कि किसी भी हालत में गलत बात का समर्थन नहीं किया जा सकता है।

दोनों पार्टनर की भागीदारी

 relation tips inside

अक्सर देखा जाता है कि एक टॉक्सिक रिलेशन में अधिकतर महिलाएं ही उस रिश्ते को बचाने के प्रयास करती हैं और अपने पार्टनर की हर बदतमीजी को बर्दाश्त करती जाती हैं। लेकिन जब आप उस रिश्ते से बाहर निकलती हैं तो आपको यह समझ में आता है कि एक रिश्ते में दो लोग हैं और इसलिए दोनों पार्टनर को ही रिश्ते को संभालने व संवारने का प्रयास करने की जरूरत है। सिर्फ एक व्यक्ति की कोशिशें कभी भी रिश्ते को हैप्पी नहीं बना सकतीं।

इसे जरूर पढ़ें: आपकी रिलेशनशिप में आ रही दरारें तो उनकी वजह क्या है?

Recommended Video

अकेले रहना है बेहतर

 relation tips inside

एक टॉक्सिक रिलेशन आपको यह सिखाता है कि अकेले रहना दुखी होने से बेहतर है। क्योंकि टॉक्सिक रिश्ते आपकी मानसिक शांति को पूरी तरह से नष्ट कर देंगे। आपको एक हेल्दी रिलेशन में रहना चाहिए। इसलिए, जब तक आपके लिए सही साथी न मिल जाए, अकेले रहना कहीं अधिक बेहतर ऑप्शन है।

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik