• ENG
  • Login
  • Search
  • Close
    चाहिए कुछ ख़ास?
    Search

रानी के बलिदान की याद में बनवाया गया था यह खास मंदिर, जानिए दिलचस्प कहानी

हिमाचल प्रदेश के चंबा में स्थित सुई माता मंदिर के पीछे एक दिलचस्प कहानी है। जानने के लिए पढ़े पूरी खबर। 
author-profile
  • Geetu Katyal
  • Editorial
Published -21 Jul 2022, 10:58 ISTUpdated -21 Jul 2022, 11:23 IST
Next
Article
story behind sui mata mandir

यूं तो भारत में ढेर सारे मंदिर हैं लेकिन कुछ मंदिरों की बात अलग है। सालों पहले बने मंदिरों के पीछे कोई न कोई दिलचस्प कहानी सुनने को मिलती है। ऐसे में आज हम आपको हिमाचल प्रदेश के चंबा में स्थित सुई माता मंदिर के बारे में बताएंगे। इस मंदिर के पीछे की कहानी बहुत प्रसिध्द है। कहा जाता है कि यह मंदिर राजा ने अपनी रानी के बलिदान की याद में बनवाया था। रानी के याद में सुई माता मंदिर में हर साल प्रसिध्द मेला भी लगता है। आइए जानते हैं इस मंदिर के पीछे की पौराणिक कथा के बारे में विस्तार से। 

ऐसे बना था सुई माता मंदिर 

चंबा में एक राजा वर्मन हुआ करता था जिसकी रानी का नाम सुई था। कहा जाता है कि लंबे समय तक बारिश न होने की वजह से चंबा बिल्कुल सुख गया था। राजा की प्रजा के साथ सभी पानी के लिए तरस रहे थे। ऐसे में राजा ने बहुत प्रयास किए की बारिश हो जाए लेकिन बारिश नहीं हुई। इसके बाद राजा ब्राह्मणों से सलाह लेने पहुंचें और उन्होंने राजा को सलाह दी कि वो अपने बेटे या अपनी पत्नी में से किसी एक की बलि दे। इसके बाद ही चंबा में बारिश हो पाएगी। कोई भी मां नहीं चाहेगी की उसके बेटे की बलि हो। यही कारण है कि रानी ने बारिश के लिए अपना बलिदान दिया। इसके बाद राजा ने अपनी रानी की याद में इस मंदिर को बनवाया। आज सुई माता मंदिर आस्था के साथ-साथ पर्यटकों के लिए भी एक मुख्य केंद्र है। (जानें सोनिया और मेनका गांधी के बारे में ये बातें)

इसे भी पढेंः सावन के महीने में भगवान शिव के पास जरूर रखें स्नेक प्लांट, खुल जाएंगे किस्मत के दरवाजे

हर साल लगता है मेला

रिपोर्ट के अनुसार सुई माता मंदिर में हर साल मेला लगता है और मेले से जुड़ी भी एक दिलचस्प कहानी प्रसिध्द है। मेले के अंतिम दिन शोभायात्रा के निकाली जाती है जिसमें सभी श्रद्धालु गीत गाते हैं "गुड़क चमक भाऊआ मेघा हो, बरैं रानी चंबयाली रे देसा हो। किहां गुड़कां-किहां चमकां हो, अंबर भरोरा घणे तारे हो। कुथुए दी आई काली बादली हो, कुथुए दा बरसेया मेघा हो।" ऐसा भी कहा जाता है कि मेले के अंतिम दिन भजन गाते वक्त हर साल बारिश जरूर होती है। 

इसे भी पढेंः सोनिया और मेनका गांधी के बारे में ये बातें क्या जानते हैं आप?

रानी के बलिदान को याद करने के लिए बनवाया गया यह मंदिर आज हिमाचल प्रदेश के सबसे प्रसिद्ध स्थलों में से एक है। आपको इस मंदिर के बारे में जानकर कैसा लगा? यह हमें फेसबुक के कमेंट सेक्शन में जरूर बताइएगा। 

Recommended Video

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Photo Credit: Kulfa News/Youtube (Image Grab)

 

 

 

 

 

Disclaimer

आपकी स्किन और शरीर आपकी ही तरह अलग है। आप तक अपने आर्टिकल्स और सोशल मीडिया हैंडल्स के माध्यम से सही, सुरक्षित और विशेषज्ञ द्वारा वेरिफाइड जानकारी लाना हमारा प्रयास है, लेकिन फिर भी किसी भी होम रेमेडी, हैक या फिटनेस टिप को ट्राई करने से पहले आप अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें। किसी भी प्रतिक्रिया या शिकायत के लिए, compliant_gro@jagrannewmedia.com पर हमसे संपर्क करें।