भारतीय शादियों की सबसे बड़ी रस्मों में से एक है हल्दी की रस्म। ऐसा माना जाता है कि विवाह के बंधन में बंधने वाले जोड़े के लिए ये रस्म कई तरह से ख़ास होती है। पुराने समय से दूल्हे और दुल्हन के रूप को निखारने वाली हल्दी कब एक बड़े समारोह का हिस्सा बन गई पता ही नहीं चला। दरअसल हल्दी की रस्म पुराने समय से ही चलन में आ गई थी। इस समारोह में दूल्हे और दुल्हन के सभी परिवार के लोग भावी जोड़े को हल्दी लगाते हैं और उनके अच्छे भविष्य की कामना करते हैं। वास्तव में शादी में आयोजित होने वाला हल्दी समारोह एक बहुत ही मजेदार भारतीय विवाह परंपरा है जो भारतीय संस्कृति में बहुत ज्यादा महत्व रखती है। 

इस समारोह में दुल्हन और दूल्हे के चेहरे से लेकर शरीर के अन्य हिस्सों में भी हल्दी का लेप लगाया जाता है। लोग इस समारोह को बेहद ख़ुशी पूर्वक नाचते और गाते हुए मनाते हैं। कई बार हल्दी के साथ अन्य सौंदर्य सामग्रियां भी इस लेप में मिलाई जाती हैं जिससे उनकी खूबसूरती निखर कर सामने आ सके। लेकिन कभी आपने सोचा है इसके पीछे के मुख्य कारणों के बारे में कि दूल्हे और दुल्हन को शादी से पूर्व हल्दी क्यों लगाई जाती है और इसका क्या महत्व है। इस बात के बारे में पूरी जानकारी पाने के लिए हमने Life Coach और Astrologer, Sheetal Shaparia से से बात की। आइए आपको भी बताते हैं हल्दी की रस्म के महत्व के बारे में। 

बुरी आत्माओं को दूर रखती है हल्दी 

katreena Haldi Ceremony Look

शीतल जी बताती हैं कि शादी में हल्दी समारोह को शामिल करना और दूल्हे दुल्हन को मुख्य रूप से हल्दी लगाने का मुख्य उद्देश्य उनसे बुरी आत्माओं को दूर रखना है। इसीलिए हल्दी की रस्म के बाद आमतौर पर दूल्हा और दुल्हन को अपनी शादी के मुहूर्त तक घर से बाहर निकलने की अनुमति नहीं होती है।हल्दी होने वाले जोड़े को सभी तरह की मुसीबतों से बचाती है। 

इसे भी पढ़ें:दुल्हन विदाई के समय इसलिए करती है चावल फेंकने की रस्म, जानें क्या है महत्व

हल्दी का सुनहरा रंग होता है शुभ 

हल्दी का सुनहरा रंग शुभ माना जाता है। ऐसी मान्यता है कि ये रंग शादीशुदा जोड़े को एक समृद्ध भविष्य की ओर ले जाता है क्योंकि वे एक साथ अपना नया जीवन शुरू करने जा रहे होते हैं। हल्दी वास्तव में शुभता का संकेत देती है और शादीशुदा जोड़े के उज्जवल भविष्य की कामना करती है। इसलिए इस समारोह को बहुत ज्यादा महत्वपूर्ण माना जाता है। 

सौंदर्य को बढ़ाती है हल्दी 

haldi for beauty

ऐसी मान्यता है कि जब कॉस्मेटिक सौंदर्य उपचार और पार्लर आसानी से उपलब्ध नहीं थे तब भारतीयों ने अपनी प्राकृतिक सौंदर्य तकनीकों को विकसित किया ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि एक शादी करने वाला जोड़ा अपनी शादी के दिन उज्ज्वल और सुंदर दिखे। हल्दी सदियों से अपनी त्वचा को गोरा करने और त्वचा को चमक प्रदान करने के लिए जानी जाती है। यही कारण है कि शादी के दौरान हल्दी को एक समारोह के रूप में मनाया जाने लगा। 

Recommended Video

बीमारियों से बचाती है हल्दी 

चूंकि हल्दी में चिकित्सीय के साथ-साथ जीवाणुरोधी प्रभाव भी होते हैं, इसलिए इसे शादी से पहले लगाने से दूल्हा और दुल्हन की त्वचा तो बेदाग होती ही है।साथ ही हल्दी आश्वासन देती है कि यह जोड़ा शादी से पहले किसी भी चोट या बीमारी से सुरक्षित है। हल्दी को शादी में समारोह के रूप में शामिल करने का एक बड़ा कारण है दूल्हे और दुल्हन को कई बीमारियों के प्रभाव से बचाना। 

why haldi important by sheetal shaparia

त्वचा को डिटॉक्सीफाई करती है हल्दी 

ऐसा माना जाता है कि जब हल्दी समारोह के बाद हल्दी के पेस्ट को धोया जाता है, तो यह मृत कोशिकाओं को हटाने में मदद करती है और त्वचा को डिटॉक्सीफाई करती है। यही नहीं हल्दी को दूल्हा और दुल्हन की घबराहट को दूर करने में मददगार माना जाता है। हल्दी में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट करक्यूमिन को एक सामान्य अवसादरोधी और साथ ही सिरदर्द का प्राकृतिक इलाज माना जाता है।

इसे भी पढ़ें:भारतीय शादी की कुछ ऐसी रस्में जो इसे बनाती हैं औरों से जुदा

हल्दी अविवाहितों की जल्द शादी करने में मदद करती है

haldi rasm in wedding

जी हां, ये बात बिल्कुल सही है कि  यदि आप में से कोई भी शादी करना चाहता है, तो दूल्हे दुल्हन के इस समारोह में जरूर शामिल हों और अपने चेहरे पर कुछ हल्दी लगाएं और ऐसा माना जाता है कि इससे आपको जल्द ही शादी करने में मदद मिलेगी। वास्तव में यह माना जाता है कि अगर दूल्हा या दुल्हन अपने अविवाहित दोस्तों या भाइयों और बहनों पर पर जादुई हल्दी का लेप लगाते हैं, तो उनकी जल्द ही शादी हो जाती है।

आशीर्वाद का प्रतीक है हल्दी

ऐसा माना जाता है कि जो महिलाएं इस अनुष्ठान में शामिल होती हैं या जो दूल्हे और दुल्हन को हल्दीलगाती हैं वो होने वाले दूल्हे और दुल्हन को ढेर सारी खुशियों और कुशल भावी जीवन का आशीर्वाद देती हैं। सभी महिलाएं हल्दी का लेप लगाते समय उन्हें सुखी वैवाहिक जीवन के लिए आशीर्वाद देती हैं। इसलिए हल्दी का समारोह और ज्यादा मायने रखता है। 

इस प्रकार दूल्हे दुल्हन को खुशियों से भरने के लिए और उनके अच्छे भविष्य की कामना के लिए उन्हें हल्दी लगाई जाती है और हल्दी समारोह का आयोजन किया जाता है। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: instagram