शेफाली वर्मा ने भारत की तरफ से इंग्लैंड के खिलाफ अपने वनडे क्रिकेट करियर की शुरुआत की और इसके साथ ही इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज करा लिया। इससे पहले उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ ही टेस्ट में भी डेब्यू किया था। भारतीय ओपनर बल्लेबाज शेफाली वर्मा का यह वनडे मैच कुछ खास तो नहीं रहा पर उन्होंने इस मैच को खेलकर एक खास रिकॉर्ड अपने नाम किया है। वह क्रिकेट के सभी प्रारूपों में भारत की तरफ से खेलने वाली सबसे कम उम्र की खिलाड़ी बन गई हैं। अपने वनडे डेब्यू मैच में उन्होंने 14 गेंदों पर 3 चौकों की मदद से 15 रन बनाए। वह अच्छा खेल रहीं थीं पर ब्रंट की गेंद पर कैच आउट हो गईं।

शेफाली वर्मा ने इतिहास रचा

Shafali Verma

शेफाली वर्मा ने अपना वनडे डेब्यू 17 साल 150 दिन की उम्र में इंग्लैंड के खिलाफ किया। उनके नाम सबसे कम उम्र में क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में भारत की तरफ से खेलने का रिकॉर्ड दर्ज हुआ है। उन्होंने इस मामले में भारत की स्मृति मंधाना को पीछे छोड़ दिया है। इससे पहले स्मृति मंधाना 18 साल 26 दिन की उम्र में क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में डेब्यू किया था। वहीं इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर भारतीय टीम के तेज गेंदबाज इशांत शर्मा का नाम हैं जिन्होंने 19 साल 152 दिन की उम्र में तीनों प्रारूपों में भारत की तरफ से खेला था।

डेब्यू टेस्ट मैच में शतक से चूकीं

Shafali Verma

आपको बता दें कि भले ही शेफाली का डेब्यू वनडे मैच उतना शानदार नहीं रहा पर डेब्यू टेस्ट में शानदार आगाज किया है। उन्होंने अपने पहले मैच में 96 रन की बेहतरीन पारी खेली। उन्होंने यह रन 152 गेंदों में 13 चौकों और छक्कों की मदद से बनाए। उन्होंने 28वें ओवर की दूसरी गेंद पर चौका जड़कर अपना अर्धशतक पूरा किया था। उन्होंने पहले विकेट के लिए स्मृति मंधाना के साथ मिलकर 167 रनों की साझेदारी की थी। स्मृति मंधाना ने भी 14 चौके की मदद से 78 रन की शानदार पारी खेली थी। आपको बता दें कि शेफाली और मंधाना के बीच पहले विकेट के लिए 167 रनों की साझेदारी टेस्ट क्रिकेट में भारतीय महिलाओं की सबसे अच्छी ओपनिंग साझेदारी है।

इसे जरूर पढ़ें: जानिए महिला IPS रूपा दिवाकर मौदगिल के बारे में जिसने सीएम तक को गिरफ्तार कर लिया था

बचपन से ही क्रिकेट खेलने का था शौक

Shafali Verma

आपको बता दें कि शेफाली हरियाणा की रहने वाली हैं और उन्हें बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक था। उन्होंने टी-20 चैलेंज में अच्छा प्रदर्शन किया जिसके आधार पर उनको भारतीय टीम में जगह दी गई है। शुरुआती दिनों में जब वह क्रिकेट खेलने जाती थी तब उन्हें खेलने के लिए लड़कियां नहीं मिलती थीं। इस कारण वह लड़कों के साथ ही खेला करती थीं। (झूलन गोस्वामी)

इसे जरूर पढ़ें: इन बॉलीवुड हसीनाओं ने अपने से छोटे उम्र के दूल्हे से रचाई है शादी

Recommended Video

सचिन तेंदुलकर को देखकर बनीं क्रिकेटर

Shafali Verma and Sachin Tendulkar

शेफाली ने एक मीडिया हाउस को दिए इंटरव्यू में कहा था कि भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर का उनके जीवन पर बहुत बड़ा प्रभाव रहा है। उन्होंने एक मीडिया हाउस को दिए एक इंटरव्यू बताया था कि एक बार सचिन का रणजी मैच देखने के लिए वह स्टेडियम गईं थीं और उनको खेलता देख वह बहुत प्रभावित हुईं थीं। अपने पिता के बारे में बात करते हुए शेफाली बताती हैं कि उनकी परवरिश अन्य लड़कियों की तुलना में अलग तरीके से हुई। उनके पिता ने उनके खेल को हमेशा सपोर्ट किया और सभी सुविधाएं दी।

 

आपको यह स्टोरी अच्छी लगी हो तो इसे फेसबुक पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।