हिंदू धर्म में सावन के महीने का विशेष महत्व है। सावन के महीने को सभी मासों में श्रेष्ठ माना गया है। ऐसा माना जाता है कि इस पूरे महीने में यदि श्रद्धा भाव से शिव जी का पूजन अर्चन किया जाए तो विशेष फल की प्राप्ति होती है। इसी वजह से श्रावण मास को मनोकामनाओं को पूरा करने का महीना भी कहा जाता है।

ऐसा माना जाता है कि इस महीने में भोलेनाथ की पूजा करने से व्यक्ति को कई जन्मों की पूजा का फल मिलता है और मोक्ष की प्राप्ति होती है। लेकिन सावन के महीने में मनोकामनाओं की पूर्ति हेतु कुछ नियमों का पालन करना जरूरी है और यदि उन नियमों से शिव पूजन किया जाता है तो निश्चय ही घर में सुख समृद्धि आने के साथ आर्थिक लाभ भी प्राप्त होते हैं। आइए जानी मानी ज्योतिषाचार्य एवं वास्तु विशेषज्ञ डॉ आरती दहिया जी से जानें कि सावन में शिव पूजन के समय किन नियमों का पालन करना जरूरी है। 

शिव और सावन का संबंध

savan month shiv pujan

भगवान शिव को सावन का महीना प्रिय होने का एक  कारण यह भी है कि भगवान शिव, सावन के महीने में पृथ्वी पर अवतरित होकर अपनी ससुराल गए थे और वहां उनका स्वागत अर्घ्य और जलाभिषेक से किया गया था। माना जाता है कि प्रत्येक वर्ष सावन माह में भगवान शिव अपनी ससुराल आते हैं। भू लोक वासियों के लिए शिव कृपा पाने का यह उत्तम समय होता है। शास्त्रों में वर्णित है कि सावन महीने में भगवान विष्णु योग निद्रा में चले जाते हैं। इसलिए ये समय भक्तों, साधु-संतों सभी के लिए अमूल्य होता है। 

ऐसे चढ़ाएं शिवलिंग पर जल 

shivling water offering sawan

जब आप शिवलिंग या शिव मूर्ति पर जल चढ़ाएं तो सबसे पहले प्रथम पूजनीय गणेश जी को जल चढ़ाएं। कभी भी जल चढ़ाते समय स्टील के पात्र का इस्तेमाल न करें और तांबे के पात्र से जल चढ़ाना ही सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। दक्षिण दिशा की ओर या शिवलिंग के पीछे से जल चढ़ाने से पूजा का पूरा फल नहीं मिलता है और नकारात्मक प्रभाव होते हैं। इसके अतिरिक्त शिव जी को हमेशा जलधारा के रूप में जल अर्पित करना चाहिए। 

बेल पत्र, धतूरा और भांग चढ़ाएं 

bel patra shiv pujan

ऐसी मान्त्यता है कि शिव जी को बेल पत्र अत्यंत प्रिय है और इसके साथ भांग और धतूरा अर्पित करना और ज्यादा अच्छा माना जाता है। यदि आप मनोकामनाओं की पूर्ति हेतु शिव पूजन करते हैं तो बेल पत्र के साथ भांग धतूरा अवश्य चढ़ाएं और बेल पत्र अर्पित करते समय इस बात का ध्यान अवश्य रखें कि कोई भी बेल पत्र कटा फटा या खंडित न हो। बेल पत्र में तीन पत्तियों का एक निश्चित क्रम दिखना चाहिए। यदि कटा हुआ बेल पत्र चढ़ाया जाता है तो ये शिव जी को मान्य नहीं होता है और पूजा का सम्पूर्ण फल नहीं प्राप्त होता है। 

इसे जरूर पढ़ें:Sawan 2021: सावन के महीने में अलग-अलग परेशानियों को दूर करेंगे ज्‍योतिष शास्‍त्र में बताए गए ये उपाय

दूध में तिल डालकर करें अर्पित 

ऐसे मनुष्यों के लिए जो आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं उन्हें शिव जी को दूध अर्पित करते समय दूध के लोटे में काले तिल और गंगाजल डालकर स्नान कराना चाहिए। ऐसा करने से शिव जी प्रसन्न होते हैं और सभी मनोकामनाओं की पूर्ति करते हैं। 

ॐ नमः शिवाय का जाप करें 

shiv pujan sawan month

सावन के महीने में शिव जी को प्रसन्न करने के लिए रोज़ 108 बार ॐ नमः शिवाय का जाप करें। ऐसा करने से सभी मनोकामनाओं की पूर्ति होती है और सभी पापों से मुक्ति भी मिलती है।  

Recommended Video

रुद्राभिषेक करें 

ऐसा माना जाता है कि सावन के महीने से चार महीनों तक विष्णु जी निद्रा में चले जाते हैं इसलिए सृष्टि के संचालन का कारभार शिव जी को सौंप दिया जाता है। ऐसी मान्यता है कि सावन के महीने में रुद्राभिषेक करने से शिव जी प्रसन्न होते हैं और समस्त पापों से मुक्त कराते हैं। 

इसे जरूर पढ़ें:Sawan Month 2021: जानें कब से शुरू हो रहा है सावन का महीना, राशि के अनुसार कैसे करें शिव पूजन

माता पार्वती समेत शिव जी का पूजन करें 

shiv pujan parvati

सावन के महीने में पूजन करते समय हमेशा शिव जी का माता पार्वती समेत पूजन करना चाहिए। माता पार्वती, शिव जी की वामांगी अर्थात अर्धांगिनी हैं। इसलिए ऐसा करने से शिव जी भक्तों से प्रसन्न होते हैं और उनकी मनोकामनाओं की पूर्ति करते हैं। सावन के महीने में माता पार्वती को श्रृंगार की सामग्री अर्पित करें और पूजन करें। 

उपर्युक्त नियमों का पालन करके सावन के महीने में शिव पूजन करने से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और सभी कष्टों से मुक्ति मिलती है। 

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे शेयर जरूर करें व इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट हरजिन्दगी के साथ।

Image Credit: freepik