रानू मंडल अब बॉलीवुड सिंगर बन चुकी हैं। हिमेश रेशमिया ने उन्हें अपनी फिल्म 'हैप्पी हार्डी एंड हीर' में गाने का मौका दिया है। स्टूडियो से उनके गाने 'तेरी मेरी कहानी' का रिकॉडिंग वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। अतिन्द्र चकबर्ती नाम के सोशल मीडिया यूजर ने रानू का वीडियो शेयर किया था, जिसमें वो पश्चिम बंगाल के रानाघाट स्टेशन पर 'एक प्यार का नगमा है' गीत गाती नजर आ रही थीं। वीडियो वायरल होने के बाद हिमेश ने रानू को फिल्म में ब्रेक दिया। तब से वो लगातार चर्चा में बनी हुई है।

ranu mondal daughter makes startling revelations about her life and mother second marriage inside

इसे जरूर पढ़ें: सोनम कपूर के भाई ने अपनी बहनों के लिए किया कुछ ऐसा, देखकर आप हो जाएंगे हैरान

रानू ने फिलहाल में एक इंटरव्‍यू में बताया कि उनकी शादी बबलू मंडल नाम के एक शख्स से हुई थी। कभी वो और उनके पति दिवंगत एक्टर फिरोज खान के घर में नौकर थे। रानू के मुताबिक, उनके पति फिरोज के घर में कुक थे। जब फिरोज के बेटे फरदीन कॉलेज में पढ़ाई कर रहे थे। रानू की जिंदगी ठीक ही चल रही थी, लेकिन जब उनके पति की मृत्यु हुई तो अचानक रानू की जिंदगी में भूचाल आ गया। रानू ने बताया कि उन्होंने अपने जीवन में बहुत संघर्ष देखा है। वो कहती हैं कि उनका जन्म एक अच्छे परिवार में हुआ था। लेकिन दुर्भाग्य से छह महीने की उम्र में ही उन्हें पेरेंट्स से अलग कर दिया गया था। हालांकि, बाद में वो अपनी दादी के साथ रहीं और शादी के बाद पश्चिम बंगाल से मुंबई आ चली गईं, लेकिन उसके बाद उनके परिवार में 'दरार' उभरने लगे और इसी के साथ ही जीवन-यापन के लिए उनका संघर्ष भी बढ़ गया।

वहीं, उनके फेमस होने के बाद उनकी बेटी भी सामने आई है जिसने उन्‍हें 10 साल पहले छोड़ दिया था। वहीं, रानू की बेटी पर अपने मां को अकेला छोड़ने का अरोप लग रहा है, लोग उनकी आलोचना कर रहे है। इसी बीच रानू की बेटी ने बताई उनकी पूरी सच्‍चाई।

ranu mondal and her daughter life story inside

रानू की बेटी एलिजाबेथ साथी रॉय ने एक मीडिया हाउस को दिए इंटरव्‍यू में बताया कि उन्हें नहीं पता था कि उनकी मां रानाघाट रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर गाती हैं, क्योंकि वह नियमित रूप से अपनी मां से मिलने नहीं जाती थीं। साथी ने कहा कि उन खबरों के विपरीत, जो उन्होंने अपनी मां के साथ रात भर की प्रसिद्धि के बाद फिर से हासिल कीं, उनमें से दोनों हमेशा संपर्क में थीं। मैं कुछ महीने पहले कोलकाता के धर्मतला गई थी और वहां मैंने मां को बस स्टैंड पर लक्ष्यहीन तरीके से बैठा पाया। मैंने उसे तुरंत घर जाने के लिए कहा और उसे 200 रुपये दिए।

ranu mondal daughter makes startling revelations about her life inside

साथी ने आगे कहा कि कई लोग उन्‍हें उनकी मां के साथ की गई लापरवाही और व्‍यवहार के लिए उसे दोषी ठहरा रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। उसने आगे बताया कि की मां के और तीन बच्‍चे है और रानू के चार बच्चों में से एक वहीं एक है जो अपनी मां की देखभाल कर रही है। रेलवे स्‍टेशन पर लता मंगेशकर के गीत गाने वाली रानू मंडल का हुआ मेकओवर, देखिए तस्वीरें

 

साथी ने बताया कि अपनी मां के लिए वह अपने चाचा के खाते में कभी-कभी 500 रुपये भेजा करती थी। वो खुद एक तलाकशुदा है और बीरभूम जिले के सूरी गांव में एक किराने की एक छोटी सी दुकान चलाती है और उसी से गुजर बसर करती है। साथी ने आगे कहा कि वो मां को साथ रखना चाहती थी लेकिन मां खुद उसके साथ नहीं रहना चाहती। बावजूद इसके लोग मुझे दोष दे रहे हैं। लोग मेरे खिलाफ है।

ranu mondal daughter makes startling revelations about her mother life inside

साथी ने बताया कि रानू ने दो शादियां की थी और वो उनके पहले पति की बेटी है और उनका एक बड़ा भाई भी है। उनके पिता के निधन के बाद रानू ने दसरी शादी की थी। वहीं, अपने दूसरे पति से रानू के दो बच्‍चे है जो अब शायद मुंबई में रहते हैं और उनका दूसरा पति अभी भी जीवित है। उनका एक सौतेला भाई और एक सौतेली बहन है। लेकिन एक दूसरे के संपर्क में नहीं हैं। रानू मंडल को मिला इस बड़े म्यूजिक डायरेक्टर और सिंगर साथ, फिल्म के लिए गाया गाना

साथी ने लोगों से सवाल करते हुए कहा और बच्चे मां की जिम्मेदारी क्यों नहीं लेते? कोई उन्हें दोष क्यों नहीं दे रहा है? मैं चाहती हूं कि वे आगे आएं और मेरे साथ मां का ख्याल रखें। लता मंगेशकर की तरह गाना गाने वाली रानू मंडल को क्या सलमान खान ने दिया है नया घर?


इसे जरूर पढ़ें: सिर्फ 5000 रुपए लेकर भारत आई थीं नोरा, खुद बताई अपने स्ट्रगल की कहानी

सती ने खुलासा किया कि उसने अपना बचपन मुंबई में बिताया है, जहां उसने जुहू के सेंट जोसेफ हाई स्कूल में पढ़ाई की है। हालाँकि, उनके परिवार के कोलकाता आने के तुरंत बाद उनकी शादी हो गई। उसने कहा “कोलकाता वापस आने के बाद, मेरी शादी एक साल के भीतर ही हो गई थी। मेरे पति और मैं एक संयुक्त परिवार में रहते थे, इसलिए मैं हमारे साथ रहने के लिए मां को नहीं ला सकी। बाद में मैं और मेरे पति सूरी में शिफ्ट हो गए। मां ने सूरी आकर कई बार  मुलाकात की लेकिन वह हमारे साथ स्थायी रूप से नहीं रहना चाहती और मैंने उन्‍हें मजबूर नहीं किया। साथी का एक नौ साल का बेटा है जो उसके पूर्व पति के साथ रहता है।