इस एक्ट्रेस ने अमिताभ बच्चन, राजेश खन्ना, शशि कपूर, जितेंद्र और संजीव कुमार जैसे कई सुपरहिट स्टार्स के साथ काम किया। अगर इनकी सुपरहिट फिल्मों की बात की जाए तो ‘रोटी कपड़ा और मकान’, ‘सबसे बड़ा रुपया’, ‘घर एक मंदिर’ जैसी कई सुपरहिट फिल्में इन्होंने बॉलीवुड को दी। इन फिल्मों का नाम जानने के बाद आप समझ गए होंगे कि हम यहां मौसमी चटर्जी की बात कर रहे हैं। बॉलीवुड की दिग्गज अभिनेत्री और बीजेपी नेता मौसमी चटर्जी आज अपना 71वां जन्मदिन मना रही हैं। मौसमी चटर्जी 60-70 के दशक की फेमस एक्ट्रेस मानी जाती थी। मौसमी चटर्जी ने हिंदी के साथ-साथ बंगाली सिनेमा में भी अपनी एक अलग ही पहचान बनाई थी। मौसमी का जन्म 26 अप्रैल 1948 को कोलकाता में हुआ था। मौसमी चटर्जी ने बहुत ही कम उम्र में प्रोड्यूसर जयंत मुखर्जी से शादी की थी जिसके बाद वह 18 साल की उम्र में मां बन गई थी। आज उनही मेघा और पायल नाम की 2 बेटियां हैं। बहुत कम लोग जानते हैं कि मौसमी चटर्जी का असली नाम इंदिरा चटर्जी है। बंगाली फिल्म के डायरेक्टर तरुण मजूमदार ने उनका नाम बदलकर मौसमी कर दिया था। कुछ ऐसे ही और भी किस्से हैं मौसमी चटर्जी के बारे में तो चलिए जानते हैं।

बालिका वधू ने दी नई पहचान 

मौसमी चटर्जी ने साल 1967 में बंगाली फिल्म ‘बालिका वधू’ से डेब्यू किया था लेकिन हिन्दी सिनेमा में उनकी पहली फिल्म ‘अनुराग’ थी जो कि साल 1972 में रिलीज हुई थी। मौसमी चटर्जी ने 60-70 के दशक में अपनी एक्टिंग से हिन्दी और बंगाली सिनेमा में खास पहचान बनाई।  

Moushumi Chatterjee

रोने के लिए ग्लिसरीन की जरूरत नहीं 

मौसमी चटर्जी के बारें में उस दौरान ऐसा कहा जाता था कि उन्हें रोने वाले सीन करने के लिए ग्लिसरीन की जरूरत नहीं पड़ती थी। इस बारें में मौसमी ने बीबीसी को एक इंटरव्यू दिया था। जिसमें उन्होंने कहा था, “जब किसी सीन में मुझे रोना होता था तो मैं सोचती कि ये मेरे साथ वास्तव में हो रहा है और मैं रो पड़ती थी।“ 

इसे जरूर पढ़ें: कुछ पति का दुख और कुछ शराब पीने की आदत दोनों ने छीन ली मीना कुमारी की जिंदगी

फिल्म की शूटिंग के दौरान हुआ हादसा 

फिल्म ‘रोटी कपड़ा और मकान’ की शूटिंग के दौरान मौसमी चटर्जी प्रेग्नेंट थीं। शूटिंग के दौरान उनके ऊपर ढेर सारा आटा गिर गया। अपनी हालत देखकर मौसमी चटर्जी रोने लगीं। उस दौरान मौसमी के कहा था, “मैं प्रेग्नेंट थीं और नीचे गिरने से ब्लीडिंग होने लगी थीं। मुझे तुरंत अस्पताल ले जाया गया। मैं खुशकिस्मत थी कि मैंने बच्चे को नहीं खोया था।“ 

इसे जरूर पढ़ें: आशा ताई को प्रेग्नेंसी टाइम में भी क्यों छोड़ना पड़ गया था अपने पति का घर?

Moushumi Chatterjee

संजीव कुमार से बॉन्डिंग 

फिल्मों के अलावा निजी जिंदगी में भी मौसमी चटर्जी और संजीव कुमार की बॉन्डिंग काफी अच्छी थी। एक बार मौसमी ने एक इंटरव्यू में कहा था कि संजीव उन्हें बच्चों की तरह ट्रीट किया करते थे और वो उन्हें उनके पूरे नाम 'हरिभाई जरीवाला' कहकर ही पुकारा करती थीं। 

अब मौसमी चटर्जी ने राजनीति की ओर रुख किया है। उन्होंने इस साल 2 जनवरी को भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन कर ली।