बीते दशक में फोन हमारी जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया है। हर इंसान आज फोन पर ही सारे काम करने में सक्षम है, जिस कारण अब फोन हमारी जरूरत और आदत दोनो ही बनता जा रहा है। इस आदत को कोरोना काल ने आकर और भी बढ़ावा दे दिया है। पहले इस आदत के शिकार टीनएजर्स और एडल्ट्स थे, पर अब फोन की आदत ने बच्चों को भी अपना निशाना बना लिया है। शहर में पार्कों की कमी और कोविड से जुड़े डर ने बच्चों को चार दिवारी में कैद कर दिया। इतना ही नहीं कोविड के कारण उनके स्कूल्स भी ऑनलाइन चलने लगे, जिस कारण मजबूरन हर पेरेंट्स ने अपने बच्चे को पढ़ने और क्लास अटेंड करने के लिए फोन दे दिया।

अब बच्चों के लिए स्मार्टफोन पढ़ाई की जगह गेमिंग और मनोरंजन का साधन बन गया है। बच्चे बाहर जाने से बेहतर अपना समय गेमिंग को देना पसंद करने लगे हैं। मोबाइल गेम मनोरंजन के लिए सही मात्रा में खेलना अच्छी बात है, पर गेमिंग की आदत लग जाना आपकी सेहत को भी खराब कर सकता है। बच्चे ना जाने कब खतरनाक गेम्स की तरफ आकर्षित हो जाएं, यह बात माता-पिता के लिए टेंशन का विषय बनती जा रही है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको ऐसे ही मोबाइल गेम्स के बारे में बताएंगे जो आपके बच्चे के लिए बहुत खतरनाक हो सकते हैं। अगर आपको बच्चा इनमें से कोई भी गेम खेलता है तो आपको उसकी आदत छुड़वाने की कोशिश करनी शुरू कर देनी चाहिए।

रोब्लोक्स -

dangerous games

यह एक ऑनलाइन गेमिंग प्लेटफॉर्म है जो कि बच्चों और टीनएजर्स के बीच में बहुत फेमस होता जा रहा है। इसमें गेम खेलते-खेलते आप लोगों से बातें भी कर सकते हैं। एक तरीके से यह गेम आपको वर्चुअल दुनिया की तरफ लेकर जाता है, जिससे बच्चे के मानसिक जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। इस गेम का चैटिंग फीचर कई बच्चों के शोषण का भी कारण बन जाता है, कई बार अनजान लोग एडल्ट तस्वीरों के जरिए आपके बच्चे को सेक्चुअली एक्सप्लॉइट करने की कोशिश करते हैं। अगर आपका बच्चा टीनएजर है और यह गेम खेलता है तो उसकी आदत छुड़ाने की कोशिश करें।

ब्लू वेल -

2017 में आपने ब्लू वेल गेम जुड़े कुछ केसेस के बारे में सुना होगा, इस गेम ने कई लोगों की जाने भी ली हैं, यह एक सोशल मीडिया डेयर गेम है, जिसमें सीरीज में टास्क दिए जाते हैं। जैसे-जैसे गेम का लेवल बढ़ता जाता है, टास्क और भी खतरनाक होते जाते हैं। जिससे आपके बच्चे पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ सकता है।

 इस गेम की शुरुआत में बहुत कॉमन से डेयर दिए जाते हैं

  • जैसे 3 या 4 बजे जाग जाना।
  • किसी खाने को लगातार खाते रहना।

ऐसे डेयर आपको आपको आगे के लेवल खेलने में इंट्रेस्ट जगाते हैं। जब आप आगे के लेवल्स खेलते हैं तो धीरे-धीरे टास्क मुश्किल होने लगते हैं।-

  • जैसे पूरे दिन हॉरर मूवी देखना।
  • अपने शरीर के हिस्सों पर ब्लेड या रेजर से कट लगाना और शरीर पर ब्लू वेल का नाम उकेरना।

गेम का अंत आते आते आपके बच्चे को आत्महत्या करने का टास्क दिया जाता है, तब तक बच्चा गेम में इतना इन्वॉल्व हो चुका होता है कि वह गेम जीतने के लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाता है। अगर आपका बच्चा इस गेम में इन्वॉल्व हो जाता है तो उसे बचाना बहुत ही मुश्किल हो जाता है।

फायर फेरी -

gaming habbit

फायर फेरी एक तरह का ऑनलाइन प्रैंक गेम है, जिसे एक एनिमेटेड सीरीज से इंस्पायर होकर बनाया गया था। इस गेम में छोटे बच्चों को खतरनाक इंस्ट्रक्शन दिए जाते हैं कि किस तरह से यह गेम जीतकर बच्चे फायर फेरी बन सकते हैं। यह गेम आपके बच्चे को आदेश देकर अपना कोई भी काम करवा सकता है। इस गेम से जुड़ा एक मामला कुछ सालों पहले सामने आया, जिसमें एक 5 साल की लड़की ने गेम के ऑर्डर पर घर का गैस खोल दिया। इस हादसे में लड़की आग की चपेट में आ गई।

Recommended Video

पबजी -

online games

भारत के लोगों में सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाले ऑनलाइन गेम्स में से एक पबजी(पबजी गेम के नुकसान) भी शामिल है। भारत में बच्चे ही नहीं बल्कि युवा भी इस गेम की गिरफ्त में आ चुके हैं। समय-समय पर इस गेम पर कई बार प्रतिबंध भी लगाया जा चुका है। डॉक्टरों के मुताबिक ये गेम लोगों को मानसिक रूप से बीमार बनाता जा रहा है। इस गेम के हिंसक माहौल को देखकर बच्चों में भी हिंसा के प्रति सम्मान जागता है, जिस कारण बच्चों के स्वभाव में वॉयलेंस बढ़ता नजर आता है। बीते सालों में इस गेम में हारने के बाद कई बच्चों ने आत्महत्या भी कर ली, जिससे यह पता चलता है कि इस गेम की लत से आपके बच्चे की मानसिक स्थिति पर क्या प्रभाव पड़ सकता है।

 

यह एक ऑनलाइन चैलेंज से जुड़ा गेम है। इसमें बच्चों को चैलेंज दिया जाता है कि वो अपने शरीर के हिस्से पर नमक लगाएं और इसके बाद उसपर बर्फ रख दें, बर्फ के जल्दी पिघलने के कारण शरीर जल जाती है। इस गेम ने कई बच्चों को चैंलेज देकर जला दिया और कई बच्चों के शरीर में जलन की प्रॉब्लम हो गई।

तो यह थे बच्चों से जुड़े कुछ खतरनाक गेम्स, जिनकी आदत आपके बच्चे पर बहुत गहरा प्रभाव डालती है। कई बार जान जाने जैसी नौबत आ जाती है, इसलिए आपको अपने बच्चे पर ध्यान देने की जरूरत है कि कहीं वो किसी गेम की लत में तो नहीं। आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें। साथ ही ऐसी प्रॉब्लम से जुड़ी जानकारी के लिए जुड़े रहे हरजिंदगी से।  

 Image Credit- variety and good searches