भारत देश में कई शासकों द्वारा शासन किया गया है। उनमें से कई शासक अपनी दयालुता के लिए जाने जाते थे, पर वहीं कुछ शासक ऐसे भी थे जो बहुत ही बेरहम थे। सत्ता पाने के लिए इनमें से कई शासकों ने आम लोगों पर कई जुल्म किए तो वहीं कई राजाओं ने सत्ता के लिए अपने पिता और भाईयों की हत्या भी करवा दी। कई राजा जिस राज्य को हड़पते थे। इतिहास में इन राजाओं की क्रूरता के कई उदाहरण मिलते हैं, जो यह सोचने पर मजबूर कर देते हैं कि कोई व्यक्ति इतना भी बेरहम हो सकता है।

आज के आर्टिकल में हम आपको भारत के उन शासकों के बारे में बताएंगे जो बहुत क्रूर थे। आज भी इतिहास में इनकी बेरहमी के किस्से मशहूर हैं। आइए जानते हैं आखिर कौन थे वो सबसे बेरहम शासक।

मिहिरकुल हूण-

cruel rulers 

मिहिरकुल एक हूण शासक था। हुण असल में कहां से थे इस बात पर इतिहासकारों के अलग-अलग मत हैं, पर ज्यादातर इतिहासकार हूण को चीनी शासक मानते हैं। कहा जाता है कि करीब 500 ईसवी के दौरान हूणों ने भारत में आक्रमण किया था। 

कहा जाता है कि एक बार मिहिर ने बौद्ध धर्म को जानने के लिए भिक्षुओं को निमंत्रण भेजा था। पर भिक्षु मिहिर की क्रूरता से परिचित थे इस कारण उन्होंने अपने एक शिष्य को राजा के यहां भेज दिया। जब मिहिरकुल को इस बात का पता चला तो वह आग बबूला हो गया, जिस कारण उसने बौद्ध धर्म और उसे मानने वालों को मारने का निश्चय किया। अपने बदले की आग में मिहीर ने सभी बौद्ध धर्मियों का कत्ल करना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं मिहीर ने कई बौद्ध मंदिरों और स्थानों को तोड़कर बर्बाद कर दिया। आपको बता दें कि मिहीर एक शिव भक्त भी था, जिसने अपने शासनकाल के दौरान कई मंदिरों का निर्माण करवाया था।

महमूद गजनवी-

gazni ruler

शासक महमूद गजनवी को हम सोमनाथ मंदिर के आक्रमणकारी के रूप में जानते हैं। गजनवी ने भारत के कई हिस्सों में हमला बोला, कहा जाता है कि 1001 से 1026 ईसवी के बीच महमूद गजनवी ने भारत पर 17 बार आक्रमण किया। गजनवी ने भारत के कई राज्यों पर हमला किया, जिसमें उसने बड़ी क्रूरता से लोगों की हत्या की। कहा जाता है कि गजनवी ने अपना 16 वां आक्रमण गुजरात के सोमनाथ पर किया था, जिसमें उसने वहां के मंदिरों को बड़ी बर्बरता से तोड़ दिया था। 

मुहम्मद बिन कासिम-

dangerous ruler

शासक मुहम्मद बिन कासिम भारत के सबसे क्रूर शासक में गिना जाता है। कहा जाता है कि मोहम्मद बिन कासिम करीब 7 वीं सदी में भारत आया था, वहीं मात्र 17 साल की आयु में ही कासिम ने सिंध और मुल्तान प्रांत पर आक्रमण करके उन्हें जीत लिया था। 638 से लेकर 711 ईसवी के दौरान 9 खलीफाओं ने करीब 15 बार भारत पर आक्रमण किए, जिसमें पंद्रहवीं बार में मुहम्मद बिन कासिम के नेतृत्व में उन्हें यह जीत मिली।

कहा जाता है कि कासिम का दिल सिंध प्रांत के दीवान की बेटी पर आया था, वह उसे अपनी बेगम बनाना चाहता था। पर जब वह महिला नहीं मानी तो कासिम ने उसका सिर कलम करवा दिया। इसी तरह उस वक्त सिंध के राजा दाहिर की पत्नियों और पुत्रियों ने कासिम के चंगुल में न आने के लिए अपनी जान दे दी थी।

इसे भी पढ़ें- तस्वीरों में उतरा 25 साल का सूफी सफर, महिला कव्वाल का दबदबा देख गौरवान्वित हुआ हर एक

चंगेज खान-

most cruel kings

शासक चंगेज खान मंगोलों का सबसे क्रूर राजा था। चंगेज बौद्ध धर्म को मानने वाला शासक था। उसने अपनी क्रूरता के चलते मुस्लिम साम्राज्य को लगभग खत्म कर दिया था। भारत के साथ-साथ एशिया और अरब देश के लोग भी चंगेज खान के नाम से कांपते थे। चंगेज खान ने आक्रमण करके ईरान, गजनी सहित कंधार, काबुल और कश्मीर पर भी अपना शासन फैला लिया था। अपने शासन के दौरान चंगेज खान ने कत्लेआम मचा दिया था, उसके बारे में हमें इतिहास में कई उदाहरण मिलते हैं।

इसे भी पढ़ें-  मुगल बादशाह अकबर की इन बेगमों के बारे में कितना जानते हैं आप? 

तैमूर-

taimur

शासक तैमूर को हम सभी इतिहास में उसकी क्रूरता के लिए जानते हैं। तैमूर का सपना था कि वह चंगेज खान जैसा ही क्रूर शासक बने। जब तैमूर ने भारत पर हमला किया, उस वक्त भारत में तुगलक वंश का शासन था। तैमूर के आक्रमण के साथ ही तुगलक वंश का भी अंत हो गया। कहा जाता है कि तैमूर मंगोलों की भारी फौज लेकर भारत आया था, जो कि उस समय की सबसे बेरहम सेना थी। कोई भी शासक उसका मुकाबला नहीं कर सका, जिस कारण तैमूर कत्लेआम करता हुआ भारत में अपना शासन फैलाता गया।

Recommended Video

औरंगजेब- 

cruel aurangzeb

भारत में कई मुगल शासक हुए, मगर उनमें से सबसे ज्यादा क्रूर शासक औरंगजेब ही था। औरंगजेब, शाहजहां और मुमताज का बेटा था। गद्दी के लालच में आकर औरंगजेब ने किसी को भी नहीं छोड़ा। कहा जाता है कि औरंगजेब ने खुद शासन करने के लिए अपने पिता शाहजहां को कैद करवा दिया था, वहीं भाईयों और भतीजों की बड़ी बेरहमी से हत्या कर दी थी। 

औरंगजेब ने अपने शासन के दौरान अनेकों मंदिर तुड़वा दिए थे  इतना ही नहीं औरंगजेब ने सिख गुरु तेग बहादुर का सिर कलम करवाया वहीं उनके बच्चों को जिंदा ही दीवार में चुनवा दिया था। औरंगजेब के शासन के दौरान हिंदू धर्म के लोगों पर बहुत अत्याचार किए गए, जिसके कई साक्ष्य हमें इतिहास में मिलते हैं।

तो यह था हमारा आज का आर्टिकल, आपको हमारा आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे लाइक और शेयर करें। इसके अलावा ऐसी जानकारियों के लिए जुड़े रहें हरजिंदगी के साथ।

image credit- google searches, digitaloceanspaces.com, thepopularindian.com, media- amazon.com and readingbell.aeon.com