कंगना रनौत ने अपनी ऐतिहासिक फिल्म मणिकर्णिका में अपने समय की प्रसिद्ध झांसी की रानी का किरदार निभाया है। दिलचस्प बात ये है कि रीयल लाइफ में भी कंगना झांसी की रानी की तरह एग्रेसिव हैं। चाहे कोई विवादास्पद मुद्दा हो या महिलाओं से जुड़ी बात या फिर #MeToo, कंगना ने हर मुद्दे पर खुलकर अपनी राय रखी है, जहां बॉलीवुड की तमाम एक्ट्रेसेस खामोश रह जाना पसंद करती हैं, वहीं कंगना बेधड़क अपनी बातें कहती हैं, फिर चाहें वे किसी को अच्छी लगें या बुरीं। कंगना ने फिल्म इंडस्ट्री में भाई-भतीजावाद का मुद्दा सबसे पहले रखा था। कंगना अपने पावरफुल स्टेटमेंट्स के लिए चर्चित रही हैं। आइए जानें उनके कुछ ऐसे ही चर्चित बयानों के बारे में-

कंगना ने कहा, 'बर्बाद कर दूंगी'

manikarnika actress kangana ranaut bold personality revealed in these powerful statements inside

हाल ही में कर्णी सेना की तरफ से उनकी फिल्म के खिलाफ प्रदर्शन की खबरें आईं थीं। इस पर कंगना ने कड़ा रुख अख्तियार करते हुए कहा, 'चार इतिहासकारों ने मणिकर्णिका को मान्यता दी है, हमें सेंसर सर्टिफिकेट भी मिल चुका है। कर्णी सेना को भी इस बारे में बताया जा चुका है, लेकिन वो इसके बाद भी हमें परेशान कर रहे हैं। अगर वो नहीं रुके तो उन्हें यह बात जान लेनी चाहिए कि मैं राजपूत हूं और फिल्म के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों को 'बर्बाद' कर दूंगी।' कंगना के कड़े तेवर देखकर सेना की तरफ से स्पष्टीकरण आया था कि उन्हें फिल्म को लेकर विरोध नहीं है।

Read more: कंगना रनौत ने 16 साल की उम्र में लिखवाई थी अपनी पहली एफआईआर

मेरी लाइफ पर बननी चाहिए फिल्म

कंगना ने साल 2018 के विवादों का जिक्र करते हुए एक इंटरव्यू में कहा, 'साल 2018 में मेरे ऊपर लगभग 6-7 केस थे। वो लोग मुझे हर हालत में जेल भेजना चाहते थे, क्या आप इस बात पर यकीन करेंगे?, उन्हें मेरी जिंदगी पर भी फिल्म बनानी चाहिए।' इस दौरान कंगना उनक लोगों की तरफ इशारा कर रही थीं, जिनसे मणिकर्णिका फिल्म मेकिंग के दौरान विवाद हुआ। 

 Read more: बॉलीवुड क्वीन Kangana Ranaut के 30 करोड़ के बंगले में बहुत कुछ है खास

करण जौहर की फिल्मों में महिला किरदारों पर उठाए थे सवाल

कंगना ने करण जौहर के चैट शो कॉफी विद करण में उन्हें भाई-भतीजावाद फैलाने वाला करार दिया था। Metoo पर करण जौहर की तरफ से कुछ ना कहे जाने को लेकर भी कंगना ने उनकी खिंचाई की थी। करण जौहर की फिल्मों में महिलाओं की भूमिका पर कंगना ने अपने एक बयान में कहा, 'लड़कियों को बार्बी डॉल की तरह से दिखाना सही नहीं है। और जो पुरुष लड़कियों को कपड़ों की तरह बदलते हैं, उन्हें हीरो बनाकर क्यों पेश किया जाता है। क्या इस तरह से कभी किसी महिला किरदार को ग्लोरिफाई किया गया है?'

नहीं चाहिए 'महिलावादी' होने का टैग

जब कंगना को एक इंटरव्यू में फेमिनिस्ट कहा गया तो उनका कहना था, 'यह टैग मुझे थोड़ा हैवी लग रहा है। मैं इसके लिए विशेष रूप से कुछ नहीं किया है। मैं नहीं चाहूंगी कि मैं सोसाइटी के लिए कुछ कर रही हूं, जबकि वास्तविकता में मैं ऐसा नहीं कर रही। जिस दिन मैं इसमें गर्व महसूस करूंगी, उस दिन मैं इसका क्रेडिट लेने में पीछे नहीं हटूंगी।'

कंगना हीरोज के साथ नहीं करती काम, क्योंकि वह खुद अपनी हीरो हैं

कंगना बॉलीवुड की एकमात्र चोटी की अभिनेत्री हैं, जिन्होंने बॉलीवुड के खान यानी की शाहरुख खान, आमिर खान और सलमान खान के साथ काम नहीं किया। तनु वेड्स मनु के लिए जब उन्हें नेशनल अवॉर्ड मिला, तब उन्होंने इस बारे में दिलचस्प बात कही थी, 'शुरुआत में मैं इंडस्ट्री में काम बढ़ने के ट्रडीशनल तरीके के बारे में सोचती थी, जिसमें बड़े हीरो के साथ काम किया जाए और   

बड़ी हीरोइन का तमगा मिल जाए, मेरे पास Khans के साथ काम करने के बहुत से ऑफर आते हैं। जब मैं काम चाहती थी, तब लोग मेरे साथ काम करने को तैयार नहीं थे, और अब मैं सेट पर अपनी हीरो खुद हूं, तो मैं दूसरे हीरो के साथ काम क्यों करूं?'

 

Recommended Video